ब्रेकिंग न्यूज़

ओडिशा में राहत और पुनर्वास का काम जोरों पर

ओडिशा में राहत और पुनर्वास का काम जोरों पर

ओडिशा में तूफान फोनी से बिजली और दूरसंचार सेवाओं को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है, जिसमें ओडिशा के नौ जिलों में से आठ में बिजली की स्थिति में सुधार हुआ है। डीजल जनरेटर सेट की मदद से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति को काफी हद तक बहाल किया गया है। भुनवनेश्वर में अगले दो से तीन दिन में पूरी बिजली आपूर्ति बहाल होने की उम्मीद है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कहा है कि ओडिशा के नौ जिलों में से आठ में बिजली की स्थिति में सुधार हुआ है, बिजली के खंबो और लाइन डालने के लिए 1000 से ज्यादा स्किल्ड कर्मचारियों को आंध्र, तेलंगाना और पश्चिम बंगाल से बुलाया गया है।

तूफान से बिजली और दूरसंचार सेवाओं को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है। राज्य के कुछ हिस्सों में दूरसंचार सेवा बहाल हुई है लेकिन अब भी काफी कुछ किया जाना बाकी है। दूरसंचार सेवाओं की अनुपलब्धता के कारण कुछ एटीएम के कामकाज अभी भी प्रभावित हैं। डीजल जनरेटर सेट की मदद से शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति को काफी हद तक बहाल किया गया है। कर्मचारी जी जान से काम में लगे हैं।

भुनवनेश्वर में अगले दो से तीन दिन में पूरी बिजली आपूर्ति बहाल होने की उम्मीद है। पुरी शहर को चक्रवात फोनी से बहुत नुकसान पहुंचा है और यहां पर बिजली और पानी की सुविधा बहाल करने में अभी लंबा वक्त लग सकता है। इस सबके बीच राज्य के सभी बैंक कर्मचारियों ने फैसला किया है कि वो अपने एक दिन का वेतन सीएम राहत कोष में जमा करेंगे। पुरी और आस-पास के इलाकों में रेलवे के कई तार तूफान से टूट गये थे जिन्हें अब दुरूस्त कर लिया गया है पूरे राज्य में अब रेल यातायात सुचारू रूप से जारी है।

इस सबके बीच हिमाचल प्रदेश स्थित सीएसआईआर-हिमालय जैवसंपदा प्रौद्योगिकी संस्थान, पालमपुर ओडिशा में चक्रवात फोनी प्रभावित क्षेत्रों के पीड़ितों के लिए, एक लाख यूनिट डिब्बाबंद भोजन तथा ऊर्जा एवं प्रोटीन युक्त बार की आपूर्ति करने जा रहा है। कुल मिलाकर राज्य में इस वक्त राहत और पुनर्वास कार्य जोरों पर है। केन्द्र सरकार और राज्य सरकार की एजेंसियां पूरे समन्वय के साथ तूफान प्रभावित लोगों की जिंदगी को पटरी पर लाने के लिए दिन रात मेहनत कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.