ब्रेकिंग न्यूज़

जासूसी का खेल

जासूसी का खेल

रॉ आईएसआई और शांति का भ्रम एक जासूसी वृत्तांत ए.एस.दुलत, असद दुर्रानी, आदित्य सिन्हा 2016 में ए.एस दुलत और दुर्रानी के बीच समान धरातल तराशने के लिए वार्ताओं की श्रंृखला चली। इनमें से एक रॉ के पूर्व प्रमुख थे, जो भारत की बाह्य खुबिया एजेंसी है और दूसरे थे इसके पाकिस्तान समकक्ष आईएसआई के प्रमुख। चूंकि ये दोनों अपने देश में मुलाकात नहीं कर सकते थे, इसीलिए पत्रकार आदित्य सिन्हा द्वारा निर्देशित यह बातचीत इस्तांबुल, बैंकॉक और काठमांडू जैसे शहरों में हुई। वार्ता के मुद्दों में दक्षिण एशिया को लंबे समय से झकझोरने वाले टकराव के बिंदु शामिल थे, जिसके कारण जान-माल का नुकसान होता रहा है। यह दो जासूस प्रमुखों के नजरिये से देखे गए उपमहाद्वीप की राजनीति के गहरे अन्वेषण जैसा था। वार्ता में कश्मीर और शांति के गंवाए हुए मौके, हाफिज सईद और 26 /11, कुलभूषण जाधव, सर्जिकल स्ट्राइक, ओसामा बिन लादेन संबंधी सौदेबाजी, भारत पाकिस्तान के संबंधों में अमेरिका और रूस का प्रभाव और कैसे आतंकवादी इन दो एशियाई देशों की वार्ता की कोशिशों को विफल कर देता है, जैसे विषय शामिल थे। जब यह बातचीत पहली बार आरंभ हुई, जनरल दुर्रानी ने हंसते हुए कहा कि कोई भी इस पर भरोसा नहीं करेगा, भले ही इसे फिक्शन क्यों न मान लिया जाए। बेचैनी से भरे रिश्तों के बीच दो जासूसी एजेंसियों के पूर्व प्रमुखों के बीच हुई बातचीत से कुछ सवालों के जवाब मिल सकते हैं।

उदय इंडिया ब्यूरो

Leave a Reply

Your email address will not be published.