ब्रेकिंग न्यूज़

जेएनयू छात्रों का विरोध जारी रखना सही नहींः निशंक

जेएनयू छात्रों का विरोध जारी रखना सही नहींः निशंक

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा, जेएनयू के छात्रों की हॉस्टल फीस की मुख्य मांग का मुद्दा सुलझ गया है, लिहाज़ा अब छात्रों को विरोध नहीं करना चाहिए। शीतकालीन सत्र के लिए 5000 से ज्यादा छात्रों ने रजिस्ट्रेशन कराया। जेएनयू प्रशासन ने सभी छात्रों और शिक्षकों से कक्षाओं में वापस आने की अपील की।

गतिरोध के सिलसिले के बाद औऱ छात्रों और प्रशासन के बीच सुलह के बाद जेएनयू में कल से कक्षाएं शुरु हो गयीं। प्रशासन का कहना है कि करीब  50 पर्सेंट छात्र विंटर सेमेस्टर के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। वहीं शिक्षकों का कहना है कि राजनीति अपनी जगह है लेकिन आंदोलन की वजह से छात्रों की पढाई का नुकसान ठीक नहीं है। इस बीच जेएनयू हिंसा की जांच भी जारी है। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की एक टीम कैंपस में हमले की जांच के लिए  जेएनयू पहुंची। पुलिस ने सोशल मीडिया पर हमले के साझा किए गए वीडियो में नकाबपोश युवती की पहचान दौलत राम कॉलेज की छात्रा के रुप में की है और उसे भी जांच में शामिल होने के लिए नोटिस भेजा गया है।

जेएनयू में लंबे समय से जारी गतिरोध के बीच सोमवार से कक्षाएं शुरु हो गयीं। मानव संसाधन विकास  मंत्रालय ने पिछले हफ्ते प्रदर्शनकारी JNU छात्रों और यूनिवर्सिटी प्रशासन और कुलपति के बीच समाधान निकालने की काफी कोशिशें कीं। इन सब प्रयासों के बाद सोमवार से कक्षाएं दोबारा शुरू हुईं। जेएनयू प्रशासन का कहना है छात्र आने लगे हैं और 2- 3 दिन में हालात पूरी तरह से सामान्य हो जाएंगे।

प्रशासन का कहना है कि करीब  50 पर्सेंट छात्र विंटर सेमेस्टर के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। वहीं शिक्षकों का कहना है कि राजनीति अपनी जगह है लेकिन आंदोलन की वजह से छात्रों की पढाई का नुकसान ठीक नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.