ब्रेकिंग न्यूज़

देश के कई हिस्सों में बाढ़ का कहर

देश के कई हिस्सों में बाढ़ का कहर

देश के कई पूर्वोत्तर राज्यों में इन दिनों भारी बारिश और बाढ़ का कहर जारी है। असम के साथ ही मिजोरम में भी भारी बारिश के बाद बाढ का कहर है। इसकी वजह से आम जनजीवन पर असर पडा है। सबसे ज्यादा बुरे हालात असम में हैं जहाँ के 33 में से 17 जिलों के करीब 700 गाँवों में भयंकर बाढ़ आई है। इलाके के लोग अपने घरों से बेघर हो गए हैं। असम के इन 17 जिलों के अब तक 4 लाख से भी ज्यादा लोग विस्थापित हो चुके हैं।

राज्य में ब्रह्मपुत्र नदी उफान पर है जिसकी वजह से 16 हजार हेक्टेयर फसल जलमग्न हो चुकी है। इसके साथ ही ब्रह्मपुत्र से जारी कटाव की वजह से 19 गांवों पर खतरे के बादल छाए हुए हैं। इतना ही नहीं विकराल रूप ले चुकी बाढ़ से 64 से अधिक सड़कें और दर्जन भर पुल बानी में बह गए हैं। चिरांग जिले में चंपामती नदी भी खतरे के स्तर से उपर बहने लगी जिससे 2-3 गांवों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई। यहाँ के अमीनपारा के ग्रामीण इलाकों बाढ़ के पानी में फंसे लोगों को सेना के एक दल ने निकाला । हालांकि राज्य़ के गोलाघाट में बाढ से दो लोगों की मौत हो गयी।

असम के अलावा मिज़ोरम और मेघालय में भी भारी बारिश और बाढ़ से लोग परेशान हैं। उत्तर भारत के भी कई राज्यों में भारी बारिश ने बाढ़ के हालात बना दिए हैं। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड समेत कई राज्यों में बारिश ने बड़ा संकट खड़ा कर दिया है। पहाड़ों में लगातार हो रही बारिश से तराई क्षेत्र के अधिकांश इलाके आजकल जलमग्न हैं जिसको लेकर पानी के बीच में रह रहे लोगो को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।- झारखंड में गिरिडीह के उसरी नदी में बढ़े जलस्तर के कारण एक ट्रैक्टर ड्राइवर घण्टों पानी में ही फंसा रहा जिसे बाद में पोकलेन की सहायता से नदी से बाहर निकाला गया।

देश के कई राज्यों के लोग जहाँ भारी बारिश और बाढ़ से हलकान हैं तो दूसरी तरफ राजधानी दिल्ली में भयंकर उमस भरी गर्मी पड़ रही है.और लोगों का बुरा हाल है। गर्मी से तप रहे लोगों को बारिश का बेसब्री से इंतजार है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले सप्ताह भी दिल्ली में अच्छी बारिश की संभावना नहीं है। हालांकि, कुछ इलाकों में बूंदाबांदी हो सकती है। वैसे तो दिल्ली में मानसून के दस्तक देने की तिथि 29 जून मानी जाती है लेकिन इस बार लगभग पांच दिन की देरी से चार जुलाई को हल्की-फुल्की बारिश हुई और उसके बाद से अभी भी बारिश का इंतजार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.