ब्रेकिंग न्यूज़ 

रियो पैरालक्विपक खेल दिव्यांगों ने जमाई धाक

रियो पैरालक्विपक खेल  दिव्यांगों ने जमाई धाक

चैम्पियन चीन तथा ब्रिटेन व अमेरिकी दिव्यांग खिलाडिय़ों की अदम्य इच्छाशक्ति से परे भारतीय दिव्यांग खिलाडिय़ों ने भी रियो पैरालम्पिक खेलों में दो स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक के साथ भारत को तालिका में 42वां स्थान दिलाने में अहम भूमिका निभाई। भारतीय दिव्यांग खिलाडिय़ों की यह उपलब्धि कई मायनों में खास है। हमारे 117 सक्षम खिलाडिय़ों ने इसी रियो में दो बेटियों शटलर पी.वी. सिन्धू और पहलवान साक्षी मलिक के पदकों की बदौलत बमुश्किल मुल्क को शर्मसार होने से बचाया था तो पैरालम्पिक खेलों में महज 19 सदस्यीय दल ने दो स्वर्ण सहित चार पदक जीतकर धाक जमाई। ओलम्पिक खेलों में भारतीय बेटियों के नायाब प्रदर्शन की बात करें तो 16 साल में छह महिला खिलाडिय़ों ने मादरेवतन का मान बढ़ाया है। भारोत्तोलक कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 के सिडनी ओलम्पिक में भारतीय महिलाओं की तरफ से पहला पदक जीता था। मल्लेश्वरी के बाद 2012 लंदन ओलम्पिक खेलों में शटलर साइना नेहवाल और मुक्केबाज एम. सी. मैरीकाम ने अपने कांस्य पदकों से महिला शक्ति का शानदार आगाज किया तो इसी साल रियो ओलम्पिक में भी दो बेटियों ने ही धमाल मचाया। पैरालम्पिक खेलों में स्वीमर से एथलीट बनी हरियाणा की दीपा मलिक गोला फेंक में चांदी का तमगा जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं। मेरी लीला रो भारत की तरफ से ओलम्पिक खेलों में शिरकत करने वाली पहली महिला खिलाड़ी रही हैं। पैरालम्पिक में तीरंदाज पूजा ने पहली बार लक्ष्य पर निशाना साधा था।

अगस्त में रियो ओलम्पिक में गए अब तक के सबसे बड़े दल के खिलाडिय़ों के लिये भारतीयों ने जो दुआएं की थीं वे जाकर पैरालम्पिक खेलों में फलीभूत हुईं। पदकों के तीन रंग स्वर्ण, रजत व कांस्य तिरंगे से जुड़े हैं। हरियाणा इस बात पर गर्व कर सकता है कि इस कामयाबी में उसकी बड़ी हिस्सेदारी है। पहले सामान्य वर्ग में साक्षी मलिक की कामयाबी और अब दीपा मलिक की। दोनों ने इतिहास रचा है। यह दोनों जांबाज अपने खेलों में पदक हासिल करने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी हैं। यह कहने में जरा भी गुरेज नहीं कि हरियाणा में जो खेल संस्कृति विकसित की गई उसके सार्थक परिणाम सामने आने लगे हैं। पिछली तीन ओलम्पिक प्रतियोगिताएं इस बात की गवाह हैं कि इनमें हरियाणवी खिलाडिय़ों ने मुल्क को एक न एक पदक जरूर दिलवाये हैं। हरियाणा में खेलों की इस कामयाबी के बावजूद दिव्यांग दीपा मलिक की कामयाबी का कद और बड़ा हो जाता है। कुदरत द्वारा दी गई अपूर्णता को उन्होंने अपनी अदम्य इच्छाशक्ति से पूर्णता में बदल दिखाया। कितना प्रेरक है कि जिसका धड़ से नीचे का हिस्सा लकवाग्रस्त हो जाये वह मुल्क को पदक दिलाने का संकल्प बना ले। 31 सर्जरी और 183 टांकों की टीस से गुजरने वाली दीपा में जीत का हौसला तब तक कायम रहा, जब तक कि उसने चांदी का पदक गले में नहीं डाल लिया।

15-10-2016

हमें सोना जीतने वाले खिलाड़ी मरियप्पन थंगवेलु, देवेन्द्र झाझरिया व कांस्य पदक विजेता वरुण भाटी को भी याद करना चाहिए। वे भी भारतीय सुनहरी कहानी के महानायक हैं। इन्होंने अपने दर्द को लाचारी नहीं बनने दिया। अपने जोश व हौसले को जिन्दा रखा। भारतीयों के सामने मिसाल रखी कि हालात कितने ही विषम हों, जीत का हौसला कायम रखो। विडम्बना है कि खाते-पीते स्वस्थ लोग जरा-सी मुश्किल से घबराकर आत्महत्या जैसा आत्मघाती कदम उठा लेते हैं लेकिन इन पदक विजेताओं को देखिये, इन्हें समाज की उपेक्षा व सम्बल देने वाली नीतियों के अभाव में भी जीतना आया। बेल्जियम की रियो पैरालम्पिक पदक विजेता मेरिएके वेरवूर्ट के जीवन में आये बदलाव को देखिये। बेल्जियम सरकार से इच्छा मृत्यु की गुहार लगाने वाली यह पैरा खिलाड़ी अब कहती है कि फिलहाल मैं जीवन को भरपूर जीना चाहती हूं। रीढ़ की हड्डी की असाध्य बीमारी से जूझ रही वेरवूर्ट कहती हैं कि इच्छा मृत्यु का विकल्प उसके पास है मगर अभी उसकी जरूरत नहीं है।

आमतौर पर पैरालम्पिक खेलों से आम जनता अनजान रहती है। अब तक हुए पैरालम्पिक खेलों में भारत का प्रदर्शन कोई खास नहीं रहा।

दिव्यांगों का हौसला बढ़ाने की जहां तक बात है, हमारे समाज में अब भी प्रगतिगामी नजरिया नहीं बन पाया है। हम इसे जीवन भर की मुसीबत के रूप में देखते हैं, जिससे मौत के बाद ही मुक्ति मिल सकती है। भारत में दिव्यांगों को दया की नजर से देखा जाता है, बावजूद इसके सारी परेशानियों को ठेंगा दिखाते हुए कुछ भारतीय दिव्यांगों ने इस कमजोरी को ही फौलादी शक्ल में बदल दिखाया। नृत्यांगना अभिनेत्री सुधा चंद्रन, एवरेस्ट फतह करने वाली अरुणिमा सिन्हा, संगीतकार स्वर्गीय रवीन्द्र जैन जैसे दर्जनों उदाहरण देखने के बावजूद हमारे समाज में विकलांगता में छिपी शक्ति को देखने की प्रवृत्ति अभी पल्लवित नहीं हो सकी है। हमारी हुकूमतों ने इनके लिए कई नीतियां बनाई हैं, कई तरह की सुविधाएं देने का दावा किया जाता है लेकिन सार्वजनिक स्थलों, विद्यालयों, अस्पतालों आदि में विकलांगों के लिए अलग व्यवस्था न होने का संताप उन्हें भुगतना पड़ता है। समाज और सरकार की ओर से बहुत ज्यादा सहयोग न मिलने के बावजूद पैरालम्पिक जैसे विश्व स्तरीय खेलों में अगर हमारे चार खिलाड़ी पदक हासिल करते हैं तो यह बड़ी उपलब्धि है।

15-10-2016

रियो पैरालम्पिक में कुछ खास बातें भी हुईं जैसे ऊंची कूद में एक स्वर्ण और एक कांस्य लेकर पहली बार दो भारतीय खिलाड़ी एक साथ पोडियम पर चढ़े। मरियप्पन थंगावेलू ने स्वर्ण जीता तो इसी प्रतियोगिता में वरुण भाटी ने कांस्य पदक से अपना गला सजाया। मरियप्पन जब बहुत छोटे थे तभी नशे में धुत एक ट्रक ड्राइवर ने उन पर ट्रक चढ़ा दी थी और उन्हें अपना पैर खोना पड़ा। विकलांगता के कारण उनके पिता ने उन्हें छोड़ दिया और मां ने कठिन परिश्रम कर उन्हें पाला-पोसा। बेहद गरीबी में जीकर भी अपने हौसले से स्वर्ण पदक हासिल करने वाले इस खिलाड़ी पर अब सौगातों की बरसात हो रही है। मरियप्पन की मां आज भी सब्जी बेचकर अपने परिवार का भरण-पोषण करती हैं। मरियप्पन की आर्थिक कठिनाइयां तो दूर होनी ही चाहिए, लेकिन सरकार को यह भी सोचना चाहिए कि उनकी तरह आर्थिक तंगी में जी रहे और भी बहुत से खिलाडिय़ों को अगर सुविधाएं-संसाधन मुहैया कराए जाएं तो पदक तालिका में हम और ऊंचे स्थान पर पहुंच सकते हैं।

ऊंची कूद में कांस्य पदक हासिल करने वाले वरुण प्रारम्भ में बास्केटबाल खिलाड़ी थे और अच्छा खेलते भी थे लेकिन विकलांग होने के कारण उन्हें बाहर होने वाले मैचों में नहीं ले जाया जाता था और कई बार स्कूल में भी खेल से बाहर कर दिया जाता था। इस संवेदनहीनता से वरुण हारे नहीं और बास्केटबाल छोड़कर ऊंची कूद में भी अपना हुनर दिखाया और पदक विजेता बनकर सारे मुल्क का नाम रोशन किया। रियो पैरालम्पिक में दूसरा स्वर्ण पदक जीतने वाले राजस्थान के चुरू जिले के देवेंद्र झाझरिया की जितनी भी तारीफ की जाए वह कम है। इस राजस्थानी एथलीट ने भाला फेंक में न केवल स्वर्णिम सफलता हासिल की बल्कि 63.97 मीटर दूर भाला फेंककर विश्व कीर्तिमान भी रच डाला। इससे पहले 2004 के एथेंस पैरालम्पिक खेलों में भी देवेंद्र को स्वर्ण पदक हासिल हुआ था। तब उन्होंने 62.15 मीटर दूर भाला फेंका था। दुर्घटना में एक हाथ खोने वाले देवेंद्र झाझरिया ने साबित कर दिखाया कि एक ही हाथ से दो बार विश्व रिकार्ड बनाने के लिए मानसिक हौसले की जरूरत होती है।

पी.वी. सिन्धू और साक्षी मलिक के बाद अब हरियाणा की दिव्यांग दीपा मलिक देश में महिलाओं के लिए नयी प्रेरणा बनकर उभरी हैं। वे पहली भारतीय महिला हैं, जिन्होंने पैरालम्पिक खेलों में चांदी का पदक हासिल किया है। दीपा का कहना है कि हमारे देश में तो जैसे अपंगता को सामाजिक कलंक समझ लिया जाता है। मैं अपनी उपलब्धियों से इस धारणा को बदलना चाहती हूं। वे दस साल से खेल रही हैं और विश्व चैम्पियनशिप, कॉमनवेल्थ और एशियन खेलों में हिस्सा ले चुकी हैं। एक सैन्य अधिकारी की पत्नी दीपा दो लड़कियों की मां हैं। रीढ़ की हड्डी में ट्यूमर के कारण उनका निचला हिस्सा निष्क्रिय है, लेकिन उनकी सक्रियता दो पैरों पर सही सलामत खड़े लोगों से कहीं अधिक है। स्वीमर से एथलीट बनीं दीपा मानती हैं कि हम अपनी ही नकारात्मक धारणाओं के शिकार होकर अपने ख्वाब छोड़ देते हैं। अधूरेपन से लड़ाई लड़ते हुए भी पैरालम्पिक में पदक जीतने वाले इन खिलाडिय़ों की मानसिक ताकत को हर खेलप्रेमी को सलाम करना चाहिए, जो बताते हैं कि मुश्किल कितनी भी बड़ी क्यों न हो, हमें हिम्मत नहीं हारनी। अगले ओलम्पिक टोकियो में होंगे, रियो के लचर प्रदर्शन पर आंसू बहाने की बजाय हमें इसकी तैयारियां अभी से शुरू कर देनी चाहिए।

                साभार: khelpath.blogspot.in

श्रीप्रकाश शुक्ला

чем отличается паркет от паркетной доскиотзывы Carnation

Leave a Reply

Your email address will not be published.