ब्रेकिंग न्यूज़ 

खेलों में बेटियों की जयकार

खेलों में बेटियों की जयकार

भारत बदल रहा है। हमारे समाज की सोच के साथ उसके सरोकारों में भी अब बदलाव दिखने लगा है। कल तक जो क्षेत्र सिर्फ और सिर्फ पुरुषों के लिए आबाद थे, उनमें बेटियां भी न केवल दखल दे रही हैं बल्कि अपनी कामयाबी से मुल्क के गौरव को चार चांद भी लगा रही हैं। भारत के लम्बे ओलम्पिक इतिहास को देखें तो महिला शक्ति का शानदार आगाज 21वीं सदी में ही हुआ है। 2000 सिडनी ओलम्पिक से रियो ओलम्पिक तक भारत की पांच बेटियां भारोत्तोलक कर्णम मल्लेश्वरी, मुक्केबाज एम.सी. मैरीकाम, शटलर साइना नेहवाल, पी.वी. सिन्धू और पहलवान दीक्षा मलिक मैडल के साथ वतन लौटी हैं। इसमें पैरा एथलीट दीपा मलिक का भी शुमार कर लें तो यह संख्या छह हो जाती है। इसे हम देश में महिला शक्ति का अभ्युदय कहें तो सही होगा। इन छह बेटियों में तीन तो उस राज्य हरियाणा से ताल्लुक रखती हैं जिसे रूढिवादी और पुरुष प्रधान समाज के लिए जाना जाता है। हरियाणा में लड़कों के मुकाबले लड़कियों की संख्या काफी कम है। अब इन बेटियों के मैदानों में करिश्माई प्रदर्शन और सफलता के बाद उम्मीद बंधी है कि लोग बेटियों को बेटों से कमतर मानने की भूल नहीं करेंगे।

खेल मैदानों में बेटियों का करामाती प्रदर्शन ओलम्पिक तक ही सीमित नहीं है। यदि हम सैफ खेलों, एशियन खेलों, राष्ट्रमण्डल खेलों और क्रिकेट मैदानों पर नजर डालें तो पी. टी. ऊषा, अंजू बाबी जार्ज, सानिया मिर्जा, डायना एडुलजी, संध्या अग्रवाल, मिताली राज सहित दो सौ से अधिक बेटियां अपने शानदार खेल कौशल से मुल्क को गौरवान्वित कर चुकी हैं। भारतीय बेटियों के लिए खेल मैदान कभी मुफीद नहीं माने गये, वजह एक नहीं अनेक हैं। कभी हमारी रूढिवादी परम्पराएं तो कभी लोग क्या कहेंगे जैसी दकियानूसी बातें बेटियों की राह का रोड़ा बन जाती हैं। देखा जाए तो अधिकांश खेलों में गरीब और मध्यम वर्ग की बेटियां ही खेल खेल में खिलाड़ी बनी हैं। एक समय था जब खिलाडिय़ों पर धन वर्षा नहीं होती थी तब लोगों का नजरिया था कि बेटियां तो दूसरे की अमानत होती हैं, जिनका जीवन चूल्हे-चौके तक ही सीमित होता है। अब ऐसी बात नहीं है। आज खेलों में हासिल सफलता हर क्षेत्र से बड़ी है। 21वीं सदी में देश ने देखा कि बेटियों ने अपनी शानदार दस्तक से सब कुछ बदल कर रख दिया है।

23-10-2016

ओलम्पिक में भारतीय महिलाओं की सहभागिता की जहां तक बात है, मेरी लीला रो भारत की तरफ से ओलम्पिक खेलों में शिरकत करने वाली पहली महिला खिलाड़ी हैं तो पैरालम्पिक में तीरंदाज पूजा ने पहली बार लक्ष्य पर निशाने साधे थे। 1984 के लॉस एंजिल्स ओलम्पिक खेलों में सेकेण्ड के सौवें हिस्से से पदक से चूकी पी.टी. ऊषा के सपने को 2000 सिडनी ओलम्पिक में भारोत्तोलक कर्णम मल्लेश्वरी ने कांस्य पदक जीतकर साकार किया था।

सिडनी के बाद भारतीय महिलाओं को अपने दूसरे ओलम्पिक पदक के लिए 12 साल का लम्बा इंतजार करना पड़ा। 2012 के लंदन ओलम्पिक में पांच बार की विश्व चैम्पियन मुक्केबाज एम.सी. मैरीकाम और शटलर साइना नेहवाल ने अपने-अपने गले कांसे के पदक से सजाए। मुक्केबाज एम.सी. मैरीकॉम रियो ओलम्पिक तो नहीं खेल पाईं लेकिन 2012 में लंदन ओलम्पिक में भारत को मुक्केबाजी में पदक दिलाकर साबित किया कि वह वाकई रिंग मास्टर हैं। मैरीकाम ने एशियन चैम्पियनशिप में चार तो 2014 के एशियन गेम्स में भी स्वर्ण पदक जीता था। मैरीकाम के इस करिश्माई प्रदर्शन को कमतर नहीं माना जा सकता क्योंकि भारत का कोई पुरुष मुक्केबाज आज तक इतनी कामयाबी हासिल नहीं कर सका है।

23-10-2016

लंदन ओलम्पिक में मैरीकाम के अलावा भारत की बेटी और बैडमिंटन में चीनी दीवार लांघने वाली साइना नेहवाल ने भी कांस्य पदक जीतकर भारतीय खुशी को दोगुना कर दिया था। बैडमिंटन में ओलम्पिक मैडल जीतने वाली वह पहली भारतीय महिला बैडमिंटन खिलाड़ी हैं। साइना ने 2010 के दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था। ओलम्पिक 2012 में कांस्य पदक के लिए साइना का मैच चीनी खिलाड़ी और उस समय की विश्व नम्बर दो जिंग वैंग से था। वैंग के घायल होने की वजह से साइना को विजयी घोषित किया गया और उन्हें कांस्य पदक मिला। साइना उसके बाद से कई बड़े खिताब जीत चुकी हैं। भारत की यह शटलर चोटिल होने के कारण रियो ओलम्पिक में बेशक पदक नहीं जीत पाई लेकिन बैडमिंटन खेल में इसने पूरी दुनिया में भारत को पहचान जरूर दिलाई है।

23-10-2016

लंदन में भारतीय बेटियों के दो पदक जीतने के बाद उनसे रियो ओलम्पिक में काफी उम्मीदें बढ़ गई थीं। खुशी की ही बात है कि भारतीय बेटियों साक्षी मलिक और पी.वी. सिन्धू ने यहां भी भारतीय खेल प्रेमियों को निराश नहीं होने दिया। दरअसल जो काम ओलम्पिक इतिहास में कोई भारतीय महिला खिलाड़ी नहीं कर सकी वह काम स्टार शटलर पीवी सिन्धू ने रियो ओलम्पिक में कर दिखाया। सिन्धू ओलम्पिक में चांदी का पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का जलवा दिखा चुकी इस खिलाड़ी से लोगों को काफी उम्मीदें थीं और इसने सवा अरब लोगों को निराश भी नहीं किया। 5 फुट 10 इंच की सिन्धू ने वर्ष 2009 में पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने दमखम का परिचय दिया था। उसने 2009 में कोलम्बो में आयोजित सब जूनियर एशियाई बैडमिंटन चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीता था।

भारत में पहलवानी को बेटियों का खेल नहीं माना जाता बावजूद इसके हरियाणा की साक्षी मलिक ने अपनी लगन और मेहनत से ओलम्पिक में पहलवानी का पहला कांस्य पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनीं। इससे पहले भारत की इस बेटी ने 2014 के कॉमनवेल्थ गेम्स में चांदी का पदक जीता था। एक समय था जब हरियाणा में लड़कियों को कुश्ती खेलने के लिए ज्यादा प्रोत्साहित नहीं किया जाता था लेकिन पिछले 10 साल में हालात काफी बदल चुके हैं। साक्षी के लिए भी अखाड़े तक पहुंचना आसान बात नहीं थी। उसे और उसके परिवार को इसके लिए कई सामाजिक परम्पराओं से लडऩा पड़ा। साक्षी ने 2002 में अपने कोच ईश्वर दहिया के साथ पहलवानी शुरू की। लाख विरोध के बावजूद आखिरकार उसने रियो में अपना सपना साकार कर दिखाया।

23-10-2016

रियो में शटलर पी.वी. सिन्धू और पहलवान दीक्षा मलिक की शानदार कामयाबी ने पैरा एथलीट दीपा मलिक के लिए प्रेरणा का काम किया। स्वीमर से एथलीट बनीं दीपा मलिक ने इतिहास रचते हुए गोला फेंक एफ-53 में चांदी का पदक जीतकर पैरालम्पिक खेलों में पदक हासिल करने वाली देश की पहली महिला खिलाड़ी बनीं। दीपा ने अपने छह प्रयासों में से सर्वश्रेष्ठ 4.61 मीटर गोला फेंका और यह रजत पदक हासिल करने के लिए पर्याप्त था। बहरीन की फातिमा नदीम ने 4.76 मीटर गोला फेंककर स्वर्ण तो यूनान की दिमित्रा कोरोकिडा ने 4.28 मीटर के साथ कांस्य पदक हासिल किया। दीपा की कमर से नीचे का हिस्सा लकवाग्रस्त है। वह सेना के अधिकारी की पत्नी और दो बेटियों की मां हैं। 17 साल पहले रीढ़ में ट्यूमर के कारण उनका चलना असंभव हो गया था। दीपा के 31 ऑपरेशन किए गये और उनकी कमर तथा पांव के बीच 183 टांके लगे। गोला फेंक के अलावा दीपा ने भाला फेंक, तैराकी में भी भाग लिया था। वह अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में तैराकी में पदक जीत चुकी हैं। भाला फेंक में उनके नाम पर एशियाई रिकॉर्ड है जबकि गोला फेंक और चक्का फेंक में उन्होंने 2011 में विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीते थे। दीपा भारत की राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में 33 स्वर्ण तथा चार रजत पदक जीत चुकी हैं। वह भारत की एक ऐसी पहली महिला हैं जिन्हें हिमालयन कार रैली में आमंत्रित किया गया। वर्ष 2008 तथा 2009 में उन्होंने यमुना नदी में तैराकी तथा स्पेशल बाइक सवारी में भाग लेकर दो बार लिम्का बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया। पैरालम्पिक खेलों में दीपा की उल्लेखनीय उपलब्धियों के कारण उन्हें भारत सरकार द्वारा अर्जुन पुरस्कार दिया जा चुका है। भारत की इन बेटियों के अलावा जिम्नास्ट दीपा करमाकर और लम्बी दूरी की धावक ललिता बाबर ने भी रियो में अपने दमदार प्रदर्शन से दुनिया भर में वाहवाही लूटी। यह तो शुरुआत है आने वाले ओलम्पिक खेलों में भारतीय बेटियां और भी दमदार प्रदर्शन कर मुल्क का नाम रोशन करेंगी।

                साभार: khelpath.blogspot.in

श्रीप्रकाश शुक्ला

какой выбрать интернет для планшетамихаил безлепкин компромат

Leave a Reply

Your email address will not be published.