ब्रेकिंग न्यूज़ 

आ जाओ भाई

आ जाओ भाई

बड़ौत में मरांडी और नीतिश कुमार के साथ हाथ मिलाकर लौटे चौधरी अजीत सिंह के हाथ फिर खाली हैं। बिहार और झारखंड के दोनों नेताओं के सिवाय कोई चौधरी को भाव नहीं दे रहा है। न तो कांग्रेस कान दे रही है और न हीं मुलायम की सपा सुन रही है। अलबत्ता चौधरी साहब अमर सिंह और अहमद पटेल को फोन करके हाल चाल जरूर पूछ ले रहे हैं। चौधरी की निगाह में कुछ यूपी के छोटे राजनीतिक दल भी हैं। चौधरी पहल तो करवा रहे हैं, लेकिन इनमें भी कोई भाव नहीं देता।



आइडिया बम


23-10-2016

पीएम मोदी अक्सर अपने मंत्रियों व सांसदों से आइडिया मांगते रहे हैं। यही काम उनके मंत्रियों ने भी शुरू कर दिया है। रेलवे में सुधार के लिए रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने भी सुझाव मांगे। सुना है कोई एक लाख से ऊपर आइडिया आ गए हैं। इतने आइडिया की पिटारा ही भर गया है। फिर भी आइडिया आने जारी हैं। इसमें रेलवे की माली हालात सुधारने, दुर्घटना रोकने, तीव्रगामी रेलों के समय पर पहुंचने समेत सब कुछ है। रेलवे के एक बड़े अधिकारी के मुताबिक आइडिया तो काफी जोरदार आये हैं लेकिन इन्हें संकलित और समायोजित करने में कोई तीन-चार महीने से अधिक लगने की उम्मीद है।



वरूण निराश हैं


23-10-2016

भाजपा के मिशन यूपी में फिलहाल वरूण गांधी गायब हैं। पार्टी उन्हें कोई बड़ी भूमिका नहीं दे रही है। न ही स्टार प्रचारक में शामिल हो पाने की उम्मीद है। वहीं वरूण हैं कि केवल भाजपा कार्यकर्ता और सांसद होने से संतोष नहीं है। वरूण की मां मेनका गांधी को भी यह बात जरा कम समझ में आ रही है। खबर है कि काबिल वरूण और मेनका ने पूरा जोर भी लगा लिया है। बात नागपुर तक पहुंच गई है, लेकिन कोई पत्ता नहीं खुला है। ऐसे में कुछ न समझ पाने वाले वरूण फिलहाल खामोश हैं।



सिद्धू का नया ठिकाना


23-10-2016

घर से खाकर न चलो तो नमक नसीब नहीं होता। कुछ यही हाल अपने नवजोत सिंह सिद्धू का है। पहले भाजपा छोड़ दी, आम आदमी पार्टी के दरवाजे पहुंचे। दाल नहीं गली तो अलग मोर्चा बना लिया। भाईयों ने टांग खींचनी शुरू की तो उससे भी बिदकने लगे। फिर कैप्टन अमरिंदर का दरवाजा खटखाटाया। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिल आए हैं। खबर है कि नवजोत का नया ठिकाना कांग्रेस होगा। राहुल बाबा ने कहा है कि पहले आप आ जाइए फिर देख लेंगे। अब नवजोत हैं कि उन्हें अजहरूद्दीन का ही सहारा है।



यूपी में सर्जिकल स्ट्राइक


भाजपा ने उत्तर प्रदेश में सीएम छोड़ बाकी सब तय कर दिया है। कुछ घोषित, कुछ अघोषित। पार्टी राज्य के बड़े नेता राजनाथ सिंह, ब्राहमण चेहरा कलराज, अन्य पिछड़ों की नेता उमा भारती के नेतृत्व में बहुमत पाने की तैयारी में है। केशव, आदित्यनाथ, संजीव बालियान, स्वाति सिंह एवं बाकी सब जोर लगाएंगे। पार्टी को उम्मीद है कि उड़ी में आंतकी हमले और सीमा पार की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद राजनाथ की अगुवाई में यहां भी सर्जिकल स्ट्राइक जरूर होगी। माया, मुलायम हाफ रहेंगे। कांग्रेस साफ रहेगी।



बन गए हीरो


23-10-2016

आंतकी हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक क्या हुई अपने डीजीएमओ ले. जनरल रणवीर सिंह बाकायदा हीरो बन गए हैं। 6 अक्टूबर जब वायुसेनाध्यक्ष के रिसेप्शन में पहुंचे तो चमक देखने लायक थी। मीडिया जहां उन्हें सेनाध्यक्ष बना रही थी वहीं फौजी भाई घेरे पड़े थे। सबकी चाह थी कि डीजीएमओ कुछ तो बोलें, लेकिन अपनी तारीफ से शर्माए जा रहे जनरल बस स्थान बदलते रहें। आंखों में भरपूर चमक थी, लेकिन होंठों को सिले ही रखा।



चचा-भतीजा


23-10-2016

सीएम अखिलेश की युवा ब्रिगेड को उम्मीद है कि जल्द ही अखिलेश बम फूटेगा। बम के फूटते ही शिवपाल के कुनबे में भूचाल आएगा। एक मजबूत साथी का कहना है कि भईया (अखिलेश) अभी तेल और तेल की धार देख रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री के नाम से आवंटित होने वाले बंगले में पूजन हवन कर आए हैं। बस कुछ आहुतियां देनी बाकी हैं। बताते हैं अखिलेश की सतर्क खामोशी से दूसरे खेमे में लगातार हलचल बढ़ रही है। वहीं नेताजी (मुलायम) को लग रहा है कि उन्होंने सब ठीक कर दिया है। यादवों का झगड़ा खत्म कर दिया।



वाह जावड़ेकर जी


23-10-2016

अपने एचआरडी मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के पास हर मर्ज की दवा रहती है। जब से एचआरडी में आये हैं, सारा विवाद किनारे रख दिया है। नई शिक्षा नीति, रोहित वेमुल्ला, जेएनयू, कन्हैया कुमार सब कुछ। मंत्रालय के अफसरों को भी साध चुके हैं। बस पार्टी और परिवार साधना बाकी है। लिहाजा नई चाल चली है। जावड़ेकर जी चाहते हैं कि पार्टी या परिवार की जो भी सिफारिश हों टॉप लेवल से व्यवस्थित आए, ताकि मंत्री और मंत्रालय पर आंच न आए। खबर है कि उनकी इस चतुराई में पीएम मोदी को भी आनंद आने लगा है। जय हो।


тонкие ноутбуки hpотзывы полигон

Leave a Reply

Your email address will not be published.