ब्रेकिंग न्यूज़ 

सांस्कृतिक उत्थान तो अवश्य हुआ है

सांस्कृतिक उत्थान तो अवश्य हुआ है

भारत के स्वतंत्र होने के बाद किस क्षेत्र में विकास हुआ और किस में नहीं, इस पर तो दो राय हो सकती हैं। पर जहां तक सांस्कृतिक विकास का सवाल है उसमें तो हम एक मत हैं कि इस क्षेत्र में विकास अद्भुत हुआ है।

अब पिता व माताजी कहां हैं? अब तो बस डैडी या डैड और मम्मी या मॉम बनकर रह गए हैं। हां, कुछ दकियानूस अभी भी डैडीजी और मम्मीजी कह देते हैं। कुछ लोग तो मॉम या डैड ही कहते हैं। और कहना भी चाहिए। हमें अपनी 18वीं सदी वाली मानसिकता तो छोडऩी ही होगी यदि हमें 21वीं सदी में रहना है तो।

वैसे भी देखा जाये तो हम जब अपने माता-पिता को मॉम या डैड कहते हैं तो ऐसा लगता है कि हम किसी दूसरे से नहीं अपने किसी आत्मीय से बात कर रहे है बराबरी की धरातल पर। आजकल के समाजशास्त्री तो कहते ही हैं कि परिवार में छोटे-बड़े का भेदभाव न रख समानता का व्यवहार होना चाहिए। माता-पिता और बेटा-बेटी व पति-पत्नी के बीच दोस्ती और बराबरी का भाव होना चाहिए। फिर हमारा गणतंत्र भी तो समाजवादी है जिस में न ऊंच-नीच के लिए कोई स्थान है, और न कोई बड़ा-छोटा होता है। सब बराबर होते हैं ।

अब तो लंबे-चौड़े रिश्ते भी खत्म हो रहे हैं – सास-ससुर, भाई-भाभी, साला-साली, चाचा-चाची, ताऊ-ताई, मामा-मामी, मौसा-मौसी, फूफा-फूफी और पता नहीं क्या-क्या। अब तो बस सब सूक्ष्म हो गया है – फादर-इन-लॉ, मदर-इन-लॉ, ब्रदर-इन-लॉ, सिस्टर-इन-लॉ, और अंकल व आंटी। भला हो परिवार-नियोजन का, अब तो ताया-ताई, चाचा-चाची, मामा-मामी, मौसा-मौसी, फूफा-फूफी आदि बहुत सारे रिश्ते तो अपने-आप ही लुप्त होते जा रहे हैं।

अब तो एक ही रिश्ता बचा है – अंकल व आंटी का। आप किसी को भी अपना अंकल या आंटी बना सकते हैं। पर दूसरे, विशेषकर जब वह महिला को उसकी उम्र का अवश्य ध्यान रखें। कहीं ऐसा न हो कि आप अपनी बराबर या थोड़ी बड़ी महिला को आंटी पुकार दें। तब आपको लेने के देने पड़ सकते हैं। वह चिल्ला कर पूछ सकती है कि क्या मैं तुम्हें आंटी लगती हूं? और यदि कोई ज्यादा गर्म मिजाज निकली तो सैंडल भी उठा सकती है। इसलिये सावधानी बरतना वैधानिक चेतावनी है। महिला यदि आपकी माताजी की उम्र की भी हो और आप उसे सिस्टर कह दें तो कोई बात नहीं, पर किसी को आंटी कहना आपके लिए कभी खतरे का कारण बन सकता है।

आपकी चाहे कितनी भी बहिनें हों, पर आपको उस महिला को अपनी बहिन बनाने में लाभ ही लाभ है, विशेषकर उसको जिसका पति कोई बड़ा अफसर या मंत्री-मुख्यमंत्री हो और जिस से आपको अक्सर काम पड़ता रहता हो।  तब आपकी चारों उंगलियां घी में होंगी। आपको उस अफसर या मंत्री के चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं रहेगी। आप अपनी बहिन के साथ उस के घर पर गप्पें लड़ाएंगे और आपके साला साहिब शाम को घर आती बार आपका काम कर अपनी बीवी की वाह-वाह पाने के लिए आतुर होंगे। आप तो सब जानते ही हैं कि जोरू का भाई एक तरफ, सारी खुदाई एक तरफ।

अंकल एक ऐसा रिश्ता है जो सार्वभौमिक भी है और सर्वव्यापक भी। जिसके साथ आपका कोई रिश्ता नहीं वह आपका अंकल या आंटी है। एक फिल्म थी जिसमें नायिका एक व्यक्ति के बारे अपने दो-तीन साल के बच्चे को बताती है कि वह हमारा दुश्मन है। दूसरे दिन जब वह व्यक्ति मिलता है तो बच्चा उसे ‘दुश्मन अंकल’ कह कर पुकारता है। इसी प्रकार फिल्म में एक महिला अपने छोटे बच्चे को समझाती है कि वह व्यक्ति एक बदमाश है। बाद में बच्चा उसे पुकारता है, ”हैलो, बदमाश अंकल’’।

बात भी ठीक है। परिवार व समाज में झगड़ा तभी होता है जब हम एक दूसरे पर रौब जताने लगते हैं। मियां-बीवी में तकरार ही तब होता है जब हम आपसी प्यार की दुहाई देकर एक-दूसरे के प्रति अधिकार जमाने लगते हैं।  असल में मियां-बीवी में प्यार की बात करना ही दकियानूसी है। उनके बीच प्यार नहीं दोस्ती होनी चाहिए। वस्तुत: प्यार ही सारे झगड़े की जड़ है। यही कारण है कि आजकल लोग शादी-विवाह के चक्कर में न पड़कर लिव-इन-रेलशनशिप में रहना अधिक पसंद करने लगे हैं। प्यार का कोई झंझट ही नहीं। दोस्ती का भाव उनके रिलेशनशिप को बांधे रखता है। जब दोस्ती की डोर ढीली हो जाये तो अपना-अपना रास्ता अलग। न कोर्ट-कचहरी जाने की जरूरत और न तलाक की। यही तो है आधुनिक और उदार भाव की ब्यूटी।

वैसे रिश्तों में रखा भी क्या है? साहिर लुधियानवी ने अपने एक फिल्मी गाने में ठीक ही तो लिखा है: रिश्ते-नाते, प्यार-वफा, सब बातें हैं, बातों का क्या? अब तो हमारा समाज  इतना उदार होता जा रहा है कि कुछ लोग तो अपनी बेटियों, बहनों, भतीजियों, और अन्य नजदीकी रिश्तेदार महिलाओं व बच्चियों से शारीरिक रिश्ते स्थापित करने लग पड़े हैं। यदि इस बात पर आपको शर्म आ जाये तो आप कल्चर्ड नहीं, मॉडर्न नहीं।

रिश्तों की बात छोड़ो। हम और क्षेत्रों में भी पीछे नहीं। बहुत तरक्की हो चुकी है। अब तो कोई जानता ही नहीं कि गांव या शहर में कभी कोई हलवाई, पानवाई, नाई, पंसारी, ललारी, लुहार, सुनार, मोची, कपड़ेवाला, भी होता था। अब है तो बस स्वीट शॉप, पान शॉप, हेयर ड्रेसर्स (और पता नहीं क्या-क्या नाम हो गए हैं?), प्रोविजन स्टोर्स, डेली नीड शॉप्स, जनरल स्टोर्स, डायर्स, ड्राईकलीनर्स, जूलर्स, टेलर्स, शू-मेकर्स, क्लॉथ हाउसेज, और  क्या-क्या। यदि आप किसी को पूछ लें कि नाई  की दुकान कहां है, तो वह आपकी ओर बड़ी हैरानी से देखेगा और समझ बैठेगा कि आप देश के किसी सब से पिछड़े कोने से आये हैं। हां, सिर्फ बचे हैं तो ढाबे। उनका नाम नहीं बदला। वह भी इस लिए कि वह उसे होटल या रेस्तरां बना दें तो उन्हें टैक्स देना पड़ेगा।

खाने के मामले में तो हम बहुत ही सभ्य हो गए हैं। अब तो ‘घर की मुर्गी दाल बराबर’ वाली कहावत सच होती जा रही है। घर में बनी स्वाद से स्वाद चीज भी हमें अच्छी नहीं लगती।  हम अक्सर तारीफ करते हैं तो ढाबे या किसी ऊंचे होटल में बनी और खाई किसी दाल-सब्जी की। यही कारण है कि मां द्वारा घर में बनाई कोई चीज बच्चों को कम पसंद आती है और बाहर की फास्ट फूड ही सब से प्यारी व स्वाद लगती है। जंक फूड के तो कहने ही क्या।

आपके घर में आपकी पत्नी ने कोई पनीर की सब्जी या चिकन कितना ही बढिय़ा व स्वाद बनाया हो और आप उसकी तारीफ करते न थकें पर आप दूसरे दिन उसी को नहीं खाना चाहेंगे। न ही आप अपनी पत्नी को कहेंगे कि कल फिर ऐसी ही स्वाद वही सब्जी बनाना। पर पीजा, मैगी, और दूसरे पकवानों में पता नहीं क्या नशा है कि आज की जनरेशन को सुबह भी खिलाओ, दोपहर को भी और रात को भी, वह कभी ना न करेंगे।

पहले हम प्रात: नाश्ता करते थे, दोपहर व रात को भोजन करते थे। अब हम ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर करते हैं। एक बार एक व्यक्ति ने प्रात: अपने दोस्त को फोन कर पूछा, ”क्या कर रहे हो?’’ उसने कहा, ”डिनर कर रहा हूं’’। हैरान होकर उस व्यक्ति ने पूछा, ”यार प्रात: डिनर?’’ उसने समझाया, ”हां भई, रात डिनर का बचा खाना’’।

इसी प्रकार एक और सिविलाइज्ड दोपहर के समय एक रेस्तरां में गया तो वेटर ने पूछा, ”क्या खायेंगे?’’ उसने उत्तर दिया, ”डिनर’’। वेटर हैरान हो गया, ”सॉब, दोपहर के समय डिनर?’’ ग्राहक ने समझाया, ”तुमने बाहर लिख कर रखा है कि यहां ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर सब मिलता है तो मैं डिनर लेना चाहता हूं।’’ वैसे हमारे लंच और डिनर में अन्तर क्या है, यह भी समझ से बाहर है। पकवान तो एक ही होते हैं।

बच्चे आजकल ‘हाय’ कहकर ही सबको दुआ-सलाम कर लेते हैं। पांव छूना तो अब अनकल्चर्ड बन गया है। फिर भी कई बड़ों पर इतनी मेहरबानी अवश्य कर बैठते हैं कि झुक कर घुटने तक हाथ लगा देते हैं।

नृत्य तो हमारी संस्कृति का एक अभिन्न अंग तो था ही पर वह किसी विशेष पर्व या समय तक ही सीमित होता था। अब तो बिन बात पर भी नाच हो जाता है। ब्याह-शादी पर तो होता ही है, अब तो बच्चे के जन्म पर, धार्मिक आयोजनों और यहां तक कि विरोध प्रदशर्नों में भी नाच एक अभिन्न अंग बनता जा रहा है। हां, हमारी संस्कृति अभी इतनी विकसित नहीं हुई कि शवयात्रा के समय भी ढोल बजें और नृत्य हो।

पुरानी रूढ़ीवादी संस्कृति में लोग जल्दी सो जाते थे और प्रात: जल्दी उठ जाते थे। केवल चोर-उचक्के, डकैत व व्यभिचारी ही थे जो रात को जाग कर अपना काम करते थे। परंतु अब समय बदल गया है। अब तो वह अपना ध्येय दिन के उजाले में भी पूरा कर लेते हैं। हां, बड़े शहरों के समाज का एक हिस्सा अवश्य कल्चर्ड होता जा रहा है। वहां नाइट अब  रंगीन हो गयी है। अब तो दिन को काम और रात को नाइट लाईफ में मौज-मस्ती का आलम रहता है।

जनाब, भारतीय संस्कृति के उत्थान के किस्से कहां तक ब्यान करें? किताबे लिखनी पड़ेंगी। फिलहाल इतना ही काफी है।

моноблоки асертерминал святого петра

Leave a Reply

Your email address will not be published.