ब्रेकिंग न्यूज़ 

गोवा मेरा गांव

गोवा मेरा गांव

रक्षामंत्री मनोहर पर्रीकर को गोवा से बहुत प्यार है। वह वहां का फिर सीएम बनना चाहते हैं। लेकिन अब तो गेंद हाथ से निकल गई है। इसलिए सब कुछ साधने में लगे हैं। इस समय गोवा में वह न केवल थम गए हैं, बल्कि जम भी गए हैं। प्रधानमंत्री को भी बता चुके हैं कि बिना उनके गोवा हाथ में नहीं आएगा। उन्होंने गोवा में मतदान के बाद ही दूसरे राज्य में जाकर प्रचार करने की शर्त तक रख दी है। अब जाने उनका भाग्य कि गोवा हाथ में आएगा या नहीं।



फुके कारतूस


VINAY KATIYAR

भाजपा नेता विनय कटियार फुके कारतूस हैं। यह हम नहीं भाजपाई कह रहे हैं। कहें भी क्यों न, कटियार ने एक तीर से दो निशाने साध दिये हैं। एक तरफ प्रियंका पर विवादित बोल से उनकी टीआरपी बढ़ गई तो दूसरी तरफ स्मृति ईरानी का जिक्र करके खेल कर दिया है। कटियार का पहला ही बाउंसर इतना जोरदार है कि भाजपा न तो उगल पा रही है और न ही निगल पा रही है। अब भला कौन बताए कि कटियार पुराने बजरंग दली पहलवान हैं। कुछ नहीं तो अपना जोर दिखा दिया।



खामोश!


amar singh copy copy

अमर सिंह गुस्से में हैं। पुराना तकिया कलाम है, मेरा मुंह मत खुलवाइए। लेकिन इसके बाद मुंह खोल ही देते हैं। इस समय उनकी हालत घायल शेर जैसी है। कभी खुद को छुट्टा सांड बता देते हैं तो कभी अमिताभ-जया पर बोल दे रहे हैं। लेकिन कोई कुछ नहीं बोलता। बोले भी तो क्या? पता है इसके बाद अमर ङ्क्षसह पूरी गंदगी उड़ेलने को तेयार बैठे हैं। मुलायम ने लखनऊ से लेकर दिल्ली तक उन्हें साये की तरह साथ रखा पर उनकी और शिवपाल की बाट लग गई। अब अमर तो ठहरे अमर, लिहाजा जौहर दिखा रहे हैं।



केजरी का जादू


Arvind-Kejriwal-1 copy

केजरी का जादू फीका पड़ गया है। आम आदमी पार्टी के सुप्रीम कमांडर को भी इसका आभास होने लगा है। खासकर, पंजाब में केजरी को लग रहा था कि उनके जाते ही चमत्कार हो जाएगा। चमत्कार हुआ नहीं, उल्टे स्थिति और खराब होती नजर आ रही है। कहां आम आदमी पार्टी कुछ महीने पहले राज्य में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने का दावा कर रही थी और कहां अब जोरदार फाइट में होने की बात करने लगी है। पार्टी के पंजाब से जुड़े कद्दावर नेता अब कहने लगे हैं कि मुकाबला कड़ा हो गया है।



लालू पर नकेल


lalu copy

मानना पड़ेगा नीतीश कुमार असल के गोटबाज हैं। ताजा खबर है कि उन्होंने लालू की नकेल कस दी है। लालू, उनकी पार्टी और उसके कुछ नेता बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद नीतीश की आंत में अपने दांत गढ़ा रहे थे। सुशासन बाबू ने इसका जोरदार फार्मूला निकाला। न केवल नोटबंदी की तारीफ  में आए, बल्कि पीएम मोदी एवं सुशील मोदी से संवाद शुरू कर दिया। मतलब साफ है, लालटेन जलाना सुशासन बाबू की मजबूरी नहीं है। जब से लालू बाबा को इसका एहसास हुआ है, थोड़ा सहम गए हैं। क्या पता नीतीशवा कोई खेल न कर दे।



नेताजी बोलेंगे


mulayam

नेताजी (मुलायम) अब सोनिया के साथ जनसभा करने वाले हैं। टीम पीके इस सुझाव को आगे बढ़ा रही है। नए समीकरण में राहुल-अखिलेश, प्रियंका-डिंपल, सोनिया-मुलायम को उतारने की योजना है। टीम पीके चाहती है कि उत्तर प्रदेश में सोनिया-मुलायम की कम से कम चार जनसभा हो जाए। टीम राहुल, टीम प्रियंका इससे सहमत है। सोनिया को भी दिक्कत नहीं है। बात नेताजी पर अटकी है। पर, टीम अखिलेश ने भरोसा दिया है कि नेताजी (मुलायम) जनसभा में बोलेंगे। पुत्र और पार्टी के लिए सब कुछ करेंगे।



अकेले पड़े चौधरी


ajit singh

लालच बुरी बला है। कोई चाहे तो रालोद के चौधरी अजित सिंह से पूछ ले। पहले भाजपा से जुडऩे की कसरत की, फिर जद(यू), एनसीपी, के साथ मोर्चा बनाने चले गए। शिवपाल मिलने पहुंचे तो मुलायम के करीब जाने लगे। कुछ दिन बाद उन्हें लगा कि मुलायम, अखिलेश बंटेंगे। चौधरी की उम्मीद बढ़ गई। कांग्रेस के कंधे पर हाथ रखकर गोट सेंकने लगे।

अंत में पता चला कि सबने उन्हें छोड़ दिया। यहां तक कि जद(यू) भी साथ नहीं है। लिहाजा अब चौधरी अपने दम पर यूपी लड़ रहे हैं।



माल्या को न्याय दो


malya

पहले बिल्ली ने नौ सौ चूहे खाए, फिर हज पर गई और अब बांग दे रही है कि खुदा नहीं मिला। जी हां, यही हाल अपने विजय माल्या बाबू का है। बैंकों का पैसा डकार कर लंदन में हैं। वहां से हांक लगा रहे हैं कि उनके साथ अन्याय हो रहा है। उन्हें सुना नहीं गया। अब माल्या बाबू को कौन बताए कि देश की अदालतें लंदन जाकर फैसला तो देंगी नहीं। वहीं सत्ता के गलियारे में कुछ लोगों को राहत मिल गई है। चलो, अच्छा हुआ बला दूर चली गई है। जबकि माल्या हैं कि विदेश से सब कुछ बचाने का पूरा जोर लगा रहे हैं।



размеры ноутбукаpaypal в израиле

Leave a Reply

Your email address will not be published.