ब्रेकिंग न्यूज़ 

गुजरात चुनाव सत्ता महाठगिनी हम जानी

गुजरात चुनाव  सत्ता महाठगिनी हम जानी

सत्ता की चाह जो न कराए सो कम है। गुजरात के चुनाव ने बीजेपी और कांग्रेस दोनों के शीर्ष नेताओं को एक तरह से पानी पिला दिया है। जहां कांग्रेस पूरी तरह सॉफ्ट हिंदुत्व पर उतर आयी है। वहीं प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव के मैदान में सारे घोड़े खोल दिये  हैं। हांलाकि कहने को तो ये चुनाव एक राज्य का है मगर इसमें 2019 के आम चुनाव जैसी बानगी दिखाई दे रही है। हों भी क्यों न? मोदी-शाह की जोड़ी के लिए ये प्रतिष्ठा का प्रश्न हैं, तो राहुल गांधी के लिए करो या मरो का सवाल है।

राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस की नैया अब तक कहीं भी पार  नहीं पा सकी है। यहां तक कि उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकायों के चुनाव में अमेठी तक में उनकी पार्टी के उम्मीदवार हार गये हैं। नौबत यहां तक आ गयी है कि उनकी पार्टी ये कहने को मजबूर है कि राहुल  गांधी ‘जनेऊ धारी ब्राह्मण हैं।’ कमाल है न, जो पार्टी अपने शासनकाल में देश के संसाधनों पर ‘अल्पसंख्यकों का पहला हक’ की बात करती थी आज वह अपने पार्टी नेता की कथित जाति का इस तरह बचाव कर रही है।

अब राहुल गांधी ब्राह्मण हैं या नहीं अथवा वे जनेऊ धारण करते हैं या नहीं ये उनका व्यक्तिगत मसला है। मगर जाति के समीकरण का इतना खुला खेल शीर्ष स्तर पर कांग्रेस ने पहले शायद कभी नहीं खेला। शायद कांग्रेस को लग रहा है कि हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवानी और अल्पेश ठाकुर की जातिगत खिचड़ी में ‘जनेऊ धारी राहुल’ का तड़का लगाना जरूरी है। अल्पसंख्यक के रूप में अहमद पटेल तो उनके पास पहले से हैं ही। ये देखकर तो ऐसा लगता है कि सोमनाथ मंदिर में प्रवेश के समय राहुल गांधी का अपने का गैर हिंदु लिखना शायद सोची-समझी रणनीति थी, ताकि ये मुद्दा जोर से उछाला जा सके।

सच्चाई कुछ भी हो, राहुल गांधी का ये नया भगवा चोला बताता है कि राजनीति कुछ भी करवा सकती है। उधर मोदी और शाह की जोड़ी भी ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रही है क्योंकि गुजरात के साथ उनकी व्यक्तिगत प्रतिष्ठा जो जुड़ी है। यहां तक कि प्रधानमंत्री मोदी स्वयं अपने भाषणों में कांग्रेस अध्यक्ष के चुनावों को लेकर महाराष्ट्र के कांग्रेसी नेता शहजाद पूनावाला की छींटाकशी को जोर-शोर से उठा रहे हैं। सोमनाथ मंदिर के पुनर्निमाण के समय तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने जिस तरीके से राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद को वहां जाने से रोकने की कोशिश की थी, उसे भी मोदी बराबर दोहरा रहे हैं।

कबीर दास जी ने तो लिखा था ‘माया महा ठगिनी हमजानी’ मगर गुजरात चुनाव प्रचार में भाषणों की रंगत और नेताओं के बर्ताव को देखकर कहने को जी चाहता है अब सत्ता ‘महाठगिनी’ हो गयी है। कांग्रेस तो देश में जाती हुई सत्ता के कारण ‘विकास को पागल’ बता रही है तो बीजेपी आती हुई सत्ता के साथ अति आक्रामक नजर आ रही है। चुनाव में जोश तो ठीक है, मगर होश भी बना रहे, ये बहुत जरूरी है। जैसे माया हर मनुष्य को जीवन भर नचाती रहती है उसी तरह सत्ता भी चंचला होती है। यह कभी मदहोश कर देती है तो कभी होश उड़ा देती है। लेकिन गुजरात की जनता समझदार है वह चुनावी लटकों-झटकों को खूब पहचानती है और वोट डालते हुए ध्यान रखेगी कि कौन सचमुच में उनका शुभचिंतक और खैरख्वाह है।

 

उमेश उपाध्याय

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.