ब्रेकिंग न्यूज़ 

भारत का नया जन्म जरूरी है

भारत का नया जन्म जरूरी है

By श्री अरविन्द

भारत नष्ट नहीं हो सकता। हमारी जाति समाप्त नहीं हो सकती क्योंकि मानव जाति के भविष्य के निए वह बहुत आवश्यक है, उसे सबसे उंची और सबसे शानदार भूमिका के लिए चुना गया है। भारतवर्ष से ही सारे धर्म निकलेगा, वह शाश्वत सनातन धर्म में, विज्ञान और दर्शन में समन्वय करेगा और मानवजाति को एक अंतरात्मा बनाएगा। इसी तरह नैतिक क्षेत्र में उसे मानवजाति की मलेच्छता, गंवारपन, अशिष्टता दूर करके सारे संसार को आर्य बनाना है। लेकिन, इससे पहले उसे अपने आपको फिर से आर्य बनाना होगा।

यह बड़ा काम शुरू करने के लिए, किसी भी जाति को सौंपे गए कामों में बड़े-से-बड़ा, सबसे विलक्षण काम शुरू करने के लिए भगवान रामकृष्ण आए थे और विवेकानंद ने प्रचार किया था। शुरू में लगता था कि काम बहुत तेजी से आगे बढ़ेगा। अगर वह उस तेजी से आगे नहीं बढ़ सका है तो इसका कारण यह है कि हमने तमस के बादलों को अपनी आत्मा पर छा जाने दिया है। भय, संदेह, संकोच और आल्सय को पैर जमाने दिए हैं। हममें से कुछ ने एक की उंड़ेली हुई भक्ति और ज्ञान को तो अपनाया है, परंतु शक्ति के आभाव में, कर्म के आभाव के कारण हमारी भक्ति जीवित भक्ति नहीं बन पायी है। हम अब भी यह याद कर सकते हैं कि रामकृष्ण काली की, भवानी की, मां शक्ति की पूजा करते थे और उसी के साथ एक हुए थे।

लेकिन भारत की नियति व्यक्तियों की असफलताओं और डगमगाहट के कारण रूकी नहीं रहेगी। मां की मांग है कि लोग उठें और उनकी पूजा-प्रतिष्ठा करें और उसे सारे संसार में फैलाएं।

кисти для макияжа купить в украинеsovetneg.ru

Leave a Reply

Your email address will not be published.