ब्रेकिंग न्यूज़

उत्तर प्रदेश निवेशकों का गढ़ बनेगा

उत्तर प्रदेश निवेशकों का गढ़ बनेगा

उत्तर प्रदेश को विकास की राह पर लाना आपके लिए बहुत बड़ी चुनौती है। आपने इस चुनौती को स्वीकार करने के लिए क्या- क्या कदम उठाए हैं?

यह सही है कि जब भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्ता में आई तो निराशाजनक माहौल था। परिवारवाद, जातिवाद, कानून व्यवस्था और भ्रष्टाचार के कारण उद्योगपति प्रदेश से बाहर भाग रहे थे। बाहर के लोग आना नहीं चाहते थे। स्थानीय जनता परेशान थी। लेकिन सरकार में आते ही माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी जी के निर्देशानुसार हमलोगों ने एक- एक बिंदुओं पर काम करना शुरू किया और आज उत्तर प्रदेश का बदला हुआ माहौल सबके सामने है।

कानून व्यवस्था उत्तर प्रदेश के विकास की राह में बहुत बड़ा मुद्दा बना हुआ है। राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए आपने क्या- क्या निर्णय लिए हैं?

वही तो मैं बता रहा हूं कि पिछली सरकार में सरकारी विभागों औऱ थानों को अपराधी चलाते थे। पुलिस का मनोबल टूट गया था। भाजपा की सरकार के आते ही गुंडे -अपराधियों को सत्ता का संरक्षण बंद हो गया। पुलिस को स्पष्ट निर्देश दिए गए कि बिना किसी पक्षपात और भय के गुंडे अपराधियों पर विधि के अनुसार कार्रवाई करें और जनता में सुरक्षा का माहौल पैदा करें। एसएसपी स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों को रोजाना फुट पेट्रोलिंग करने को कहा गया। बड़े दुर्दांत अपराधी पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए या जेल पहुंच गए। इससे प्रदेश में भयमुक्त वातावरण बना है।

उत्तर प्रदेश में इनवेस्टर्स को आकर्षित करने के लिए आपकी सरकार क्या- क्या कदम ले रही है?

किसी भी इन्वेस्टर के लिए दो बातें महत्वपूर्ण होती हैं। एक कानून व्यवस्था का मुद्दा और दूसरा भ्रष्टाचार। दोनों ही मामलों में स्थितियां काफी बेहतर हुई हैं। प्रदेश में कोई ऐसा बड़ा अपराधी या गैंग नहीं बचा है जो उद्यमियों के लिए परेशानी का सबब बन सके। वसूली, अपहरण की खबरें बंद हो गई हैं। इससे अच्छा माहौल बना है। सरकारी तंत्र की परेशानियों से बचाने के लिए एकल विंडो सिस्टम लागू किया गया है। 100 करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्ताव पर एक सचिव स्तर का अधिकारी निगरानी रखेगा। पूर्वांचल और बुंदेलखंड में निवेश करनेवाली कंपनियों को विशेष छूट दी जाएगी। उत्तर प्रदेश सरकार की नई उद्योग पॉलिसी में और भी ढेर सारे पहलुओं का ख्याल रखा गया है।

बिजली आज भी किसानों को खेती बाड़ी के लिए उपलब्ध नहीं हो रही है तो आप इंडस्ट्री को कहां से बिजली दे पाएंगे?

यह हाल भाजपा के सरकार में आने से पहले का था। सरकार बनने के बाद बिना किसी भेदभाव के सभी जिला मुख्यालयों को 24 घंटे और तहसील मुख्यालयों पर 18 घंटे बिजली देने का प्रावधान किया गया। आज किसानों को पूरी बिजली मिल रही है जिससे उनकी खेती की लागत काफी कम हो गई है। पहले किसान बिजली न रहने के कारण डीजल पंपसेट का इस्तेमाल करते थे। इससे खेती की लागत बढ़ जाती थी। आज हमारे पास इतनी बिजली है कि किसानों को, जनता को और उद्यमियों को पूरी बिजली दे सकते हैं।

पर्यटन उत्तर प्रदेश के विकास के लिए बहुत बड़ा आर्थिक सहयोग करता है। पर्यटन के विकास के लिए आपकी सरकार की क्या योजनाएं हैं?

प्रदेश में पर्यटन की संभावनाएं अपार हैं। कुछ क्षेत्र पहले से काफी विकसित और लोकप्रिय हैं। हमारी सरकार इनके साथ पर्यटन की संभावनाओं वाले अन्य क्षेत्रों को भी बढ़ावा दे रही है। सांस्कृतिक पहचानवाले क्षेत्रों के विकास के लिए विशेष योजनाएं लागू कर रही हैं ताकि अंतरराष्ट्रीय पर्यटक यहां आ सकें। इसी के तहत अयोध्या में भव्य दीपावली मनाई गई, चित्रकूट, नैमिषारण्य में कार्यक्रम किए गए। और अब मथुरा में होली का भव्य आयोजन किया जाएगा। पर्यटकों की सुरक्षा और सुविधा पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। 2019 में कुंभ की विश्व स्तर पर ब्रांडिंग की जा रही है।

आप इतना बड़ा इन्वेस्टर्स मीट करने जा रहे हैं, इसमें आप कौन- कौन सी इंडस्ट्रीज को बुला रहे हैं?

अभी बंगलोर, हैदराबाद, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और अहमदाबाद में रोड शो किए गए। इसमें देश के लगभग सभी बड़े उद्योगपतियों ने उत्तर प्रदेश में पारदर्शी माहौल और संभावनाओं को देखते हुए यहां निवेश की इच्छा जाहिर की है। लगातार इनके निवेश प्रस्ताव आ रहे हैं। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की सहमति दी है। बड़ी संख्या में निवेश यहां पर्याप्त रोजगार सृजित करने में सहायक होगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.