ब्रेकिंग न्यूज़ 

पपीते के पत्ते और फूलों के गुण

पपीते के पत्ते और फूलों के गुण

पीपते के गुणों से हम सभी वाकिफ हैं, लेकिन हम में से कुछ लोग ही पपीते के फूल और पत्तों के चमत्कारिक गुणों से वाकिफ होंगे। हम आपको पपीते के फूल और पत्तों के औषधीय गुणों के विषय में बताएंगे। पपीते के फूल और पत्तों का बखान हमने अपने पूर्वजों से कई बार सुना है। पपीते के फूलों में भरपूर पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इनका सेवन करने से मधुमेह के मरीजों को काफी लाभ प्राप्त होता है। इनके सेवन से उच्च रक्तचाप, हृदय रोग के साथ ही अन्य कई रोगों में राहत मिलती है। जिन लोगों को किसी भी तरह के स्वास्थ्य संबंधी विकार हों, उन्हें अपने भोजन में पपीते के फूलों को नियमित शामिल करना चाहिए। इससे उन्हें आसाधारण लाभ प्राप्त होंगे। पपीते के पेड़ दो तरह के होते हैं, एक नर और दूसरा मादा। खाने में पपीते के नर वृक्ष के फूलों का सेवन किया जाता है। हालंकि इसके फूलों का स्वाद काफी कड़वा होता है, बावजूद इसके इससे कई तरह के स्वदिष्ट व्यंजन बनाए जाते हैं, जो सेहतमंद भी होते हैं।

पपीते के फूलों के लाभ

18-04-2015

  • पपीते के फूलों का सेवन करने से मधुमेह के मरीजों में रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करना आसान होता है।
  • पपीते के फूलों का उपयोग करने से पाचन शक्ति बढ़ती है, क्योंकि इसमें फाइबर के साथ-साथ पपैन नामक एंजाइम होता है, जो पाचन शक्ति को दुरूस्त रखता है।
  • इसके फूलों में विटामिन ए, सी, ई, फोलेट (फोलिक एसिड) के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट भी प्रचुुर मात्रा में पाया जाता है, जो शरीर में मौजूद कोलेस्ट्रोल के स्तर और ऑक्सीकरण को सुधारता है।
  • इन फूलों से बने शहद का इस्तेमाल करने से खासी, गले में खराश और सांस संबंधी समस्याओं से निजात मिलती है। एक गिलास गर्म पानी में एक मुट्ठी पपीते के फूलों को शहद के साथ भींगो कर ठंडा होने के लिए रख दें। जब ठंडा हो जाए तो इस मिश्रण को एक-एक चम्मच दिन में 3-4 बार सेवन करने से खांसी से तुरंत राहत मिलती है।

पपीते के पत्तों के लाभ

  • डेंगू और मलेरिया के मरीजों के लिए पपीते के पत्तों का रस रामबाण है। पपीते के पत्तों को उबालकर उन्हें कुचलकर उसका रस निकालें और डेंगू के मरीज को दें। इससे तुरंत आराम मिलेगा। इससे प्लेटलेट्स और वाइट ब्लड सेल्स भी बढ़ते हैं।
  • इसके पत्तों को पीस कर इसका लेप करने से चोट के कारण आई सूजन और दर्द में आराम मिलता है, साथ ही गठिया में भी फायदेमंद होता है।
  • सूखे पत्तों की चाय या काढ़ा बना कर पीने से पाचन संबंधी समस्याओं में लाभ मिलता है।
  • पपीते के पत्तों को पानी में उबालने के बाद छान कर पीने से बुखार और हृदय संबंधी रोग में आराम मिलता है।
  • पपीते के पत्तों से निकलने वाला दूध अल्सर, एक्जिमा और मस्सों के इलाज में भी उपयोगी है।
  • इन पत्तों से तैयार किया गया मरहम कटने, जलने, त्वचा पर पडऩे वाले दाने या किसी कीड़े के डंक मारने पर राहत पहुंचाता है।
  • पपीते के पत्तों में विटामिन सी और ए मौजूद होता है, जो कि त्वचा के लिए लाभदायक है। इनके उपयोग से त्वचा साफ, स्वास्थ और दमकती रहती है।
  • दमा के मरीजों को सूखे पत्तों का धूआं लेने से आराम मिलता है।
  • इसलिए पपीते के पत्तों और फूलों को अपने खान-पान की आदतों में शामिल करके इनके असंख्य गुणों का लाभ उठाइए। पपीते के पत्तों और फूलों के गुणों को देखते हुए डॉक्टरों ने भी इसका उपयोग चिकित्सा पद्धति में करना शुरू कर दिया है। तो आप भी इन चमत्कारिक गुणों से भरी वनस्पति का लाभ उठाएं।

 निभानपुदी सुगुना

работа интернет рекламаблаготворительный фонд владимира мунтяна

Leave a Reply

Your email address will not be published.