ब्रेकिंग न्यूज़ 

अवसाद ऐसे आसानी से नहीं टूटेगी मन की ये बेड़ी

अवसाद ऐसे आसानी से नहीं टूटेगी मन की ये बेड़ी

प्राचीन रोम की एक कहानी काफी प्रेरणादायी है। एक बार पड़ोसी राष्ट्र ने रोम पर आक्रमण कर दिया। इसमें वहां के शासक की बुरी तरह से पराजय हुई। सम्राट को बंदी बना कर कारावास में डाल दिया गया और शहर के धनाढ्य लोगों को हथकडिय़ों में जकड़ दिया गया। इन बंदियों में एक लुहार भी था जो बहुत ही धनी था। देश के नियमानुसार जब इन सभी बंदियों को घने जंगल में बर्बर जंगली जानवरों के सामने फेंक देने के लिए ले जाया जाने लगा तो सभी डर के मारे रोने लगे। केवल लुहार ही शांतचित्त बैठा हुआ था। यह देखकर सभी हैरत में पड़ गये। उनमें से किसी ने लुहार से पूछा, ‘तुम्हें डर नहीं लगता है? आखिर तुम इतने धैर्य के साथ कैसे बैठे सकते हो? तुम्हें कुछ पता भी है कि कुछ क्षणों में हम सभी जंगल में वहशी जानवरों के द्वारा शिकार होने के लिए फेंक दिए जायेंगे?’

लुहार ने धैर्यपूर्वक जवाब दिया, ‘मैं जीवन भर हथकडिय़ां ही बनाता रहा हूं, यही मेरा पेशा रहा है। आज तक दुनिया की ऐसी कोई हथकड़ी नहीं बनी, जिसे मैं नहीं तोड़ सकता। जब हमारे दुश्मन हम सब को जंगल में छोडक़र वापस लौट जायेंगे तो मैं सबसे पहले अपने हाथ की हथकड़ी काटूंगा और फिर तुम सबकी हथकडिय़ां तोडक़र आजाद कर दूंगा।’ दुश्मन सैनिकों के वापस चले जाने के पश्चात लुहार पल भर की देर किये बिना अपने हाथ की हथकड़ी को तोडऩे की कोशिश करने लगा। लेकिन काफी कोशिशों के बावजूद वह इस कार्य में सफल नहीं हो पाया। थोड़ी देर में ही मृत्यु को करीब जानकर घोर उदासी और हताशा का भाव उसके चेहरे पर साफ नजर आने लगा।

साथी बंदियों के द्वारा उसकी इस विचित्र मनोदशा के बारे में पूछे जाने पर लुहार ने घबराते हुए कहा, ‘इस हथकड़ी पर मेरा नाम लिखा है, अर्थात इसे खुद मैंने बनाया है। मैं दुनिया में किसी भी हथकड़ी को तोड़ सकता हूं किन्तु खुद के द्वारा निर्मित हथकड़ी को मैं कदापि नहीं तोड़ सकता। आशय यह है कि अब इस कैद से मुक्ति का कोई भी रास्ता नहीं है। मैंने अपने जीवन में ऐसी कोई कमजोर हथकड़ी नहीं बनाई जो टूट जाए। जीवन में सपने में भी नहीं सोचा था कि जिन हथकडिय़ों को मैं बना रहा हूं वही एक दिन मेरी मौत का सबब बन जायेगी। हथकडिय़ों के रूप में मैंने खुद के लिए मौत का फंदा तैयार कर लिया।’

उपर्युक्त कहानी के कथ्य पर संजीदिगी से गौर करें तो एक अहम प्रश्न यह उठ खड़ा होता है कि क्या मानव जीवन में हथकडिय़ों के रूप में विभिन्न समस्याएं और मुसीबतें खुद हमारे द्वारा ही निर्मित नहीं होती हैं? भय की बेड़ी, अज्ञानता की बेड़ी, अंधकार की बेड़ी, वासना की बेड़ी, लोभ, तृष्णा, अन्याय, हिंसा, पाप की बेडिय़ां और न जाने प्रत्यक्ष-और अप्रत्यक्ष खुद के द्वारा निर्मित कितनी ही बेडिय़ों से हम बुरी तरह से जकड़े हुए हैं और जिन्हें हम तोडऩे में ताउम्र असफल रहते हैं। अवसाद मॉडर्न लाइफ-स्टाइल की एक ऐसी ही बेड़ी है जिसे तोडऩे में असफल और विवश इंसान अंतत: खुुद के जीवन को खत्म कर लेता हैं। इस तरह की तेजी से बढ़ती वारदातों पर आज गहरे आत्ममंथन की आवश्यकता है। इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी और विज्ञान के तेजी से विकास के परिणामस्वरूप हम जहां साल-दर-साल हैरतअंगेज उपलब्धियों और कालजयी प्रगति की इबारत लिख रहे हैं,

वहीं दुनिया की एक बड़ी आबादी का अवसाद-सरीखे मानसिक समस्याओं से ग्रसित होना हमारे लिए आत्ममीमांसा के कई प्रश्न छोड़ जाता है।

22

विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक हाल के सर्वे की मानें तो आज दुनिया में प्राय: 300 मिलियन से भी अधिक लोग अवसाद से ग्रसित हैं। मूल रूप से डिप्रेशन के चक्रव्यूह का जन्म उन बेशुमार बेकार चिंताओं से होती है जो तनावों को जन्म देती है। लंबी अवधि तक तनावग्रस्त रहनेवाला शख्स अवसाद में जीना प्रारंभ कर देता है जिसकी दुर्भाग्यपूर्ण परिणति खुुदकुशी की घटनाओं में होती है। एक रिपोर्ट के अनुसार 15-29 वर्ष के लोगों में डिप्रेशन मृत्यु का दूसरा सबसे बड़ा कारण है। राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य सर्वे के अनुसार भारत के 15 प्रतिशत युवा किसी-न-किसी मानसिक व्याधि से ग्रस्त हैं और जिनको प्राथमिकता के तौर पर मेडिकल हेल्प की जरूरत है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक भारत की आबादी का लगभग 5 प्रतिशत हिस्सा अवसाद का शिकार हैं। आत्महत्या देश में मृत्यु का दूसरा सबसे बड़ा कारण है जो विश्व की औसत आत्महत्या दर से काफी ऊंची है। विश्व में प्रत्येक एक लाख की आबादी में 11 लोग आत्महत्या करते हैं जबकि यही दर देश के लिए प्राय: 21 लोग हैं। डिप्रेशन, चिंता, एकाकीपन और अन्य मानसिक व्याधियों से लगभग देश की आबादी का प्राय: 15 प्रतिशत हिस्सा ग्रसित है।

जीवन की आपाधापी और एक दूसरे से आगे निकलने की चाह में आज इंसान एक विचित्र तनावों के दौर से गुजर रहा है। प्रोफेशनल चैलेंज से लेकर पारिवारिक और वैयक्तिक जीवन की बेशुमार समस्याएं जो प्रारंभ में सामान्य जीवन की रूटीन जैसी दिखती हैं, समय के साथ बरगद के पेड़ सरीखे विशाल रूप धारण कर लेते हैं। जीवन के इस दहलीज पर हमें तनाव से खुद को महफूज रखने के लिए जीवन की समस्याओं की प्रकृति को बड़ी बारीकी से समझने की दरकार है। पहले तो यह आत्मसात करने की जरूरत है कि समस्याओं और जीवन का संबंध अटूट और अभिन्न है। जब तक जीवन की सांसें चलती है, तब तक समस्याओं से बच पाना मुमकिन नहीं है। ऐसी स्थिति में समस्याओं से घबराकर उनसे पलायन करने से स्थिति और बद से बदतर होती जाती है।

मानव जीवन में चिंताओं की भी विचित्र दुनिया होती है। हमें यह कभी नहीं भूलनी चाहिए कि चिंता करने से न तो भविष्य की घटनाओं को मनचाहा मोड़ दिया जा सकता है और न ही अफसोस करने से गुजरे हुए कल को सुधारा जा सकता है। प्रसिद्द ब्रिटिश राजनीतिज्ञ और लेखक विंस्टन चर्चिल का चिंताओं के बारे में दर्शन काफी प्रेरणादायी है। उन्होंने कहा एक बार कहा था, ‘जब भी कभी मैं अपने जीवन की चिंताओं के बारे में पीछे लौट कर देखता हूं तो सहसा मुझे उस बूढ़े व्यक्ति की कहानी याद आ जाती है जिसने अपनी मृत्युशैय्या पर कहा था कि वह अपनी ताउम्र बेशुमार चिंताओं और भय से परेशान रहा, लेकिन उनमें अधिकांश चिंताएं कभी भी घटित नहीं हुईं।’ अर्थात चिंताओं की एक मिथ्या दुनिया होती है जिसमें जीवन रूपी नाटक के सभी पात्र, दृश्य और घटनाएं हमारे दिमाग में ही गढ़ी जाती हैं और जिनका वास्तविक संसार से कोई ताल्लुक नहीं होता है।

23

इस सन्दर्भ में प्रसिद्द अमेरिकी दार्शनिक विलियम जेम्स का भी दर्शन काफी प्रेरक है। वे मानते थे कि यदि आप यह सोचते हैं कि आपके चिंता करने से जीवन में गुजरे कल और आनेवाले कल की घटनाएं बदल जाएंगी तो आप पृथ्वी से इतर किसी अन्य ग्रह पर फंतासी की दुनिया में रह रहे होते हैं। इसलिए हमें अपने जीवन की बीती हुई घटनाओं के बारे में बिलकुल नहीं सोचना चाहिए क्योंकि भूत पूर्ण रूप से बीत चुका कल होता है और आने वाले कल का स्वरुप अनिश्चित और अनदेखा है। केवल वर्तमान ही सच है और इसलिए यह अनिवार्य है कि हम वर्तमान में जीयें। किन्तु हमारी समस्या तब बढ़ जाती है जब हम आनेवाले कल की समस्यायों को भी आज ही सुलझा लेना चाहते हैं।

प्रसिद्द ब्रिटिश अभिनेता मैट लुकास ने एक बार कहा था, ‘यदि आप अवसाद से खुद को बचाना चाहते हैं तो खुद को व्यस्त रखें। मेरे लिए कुछ नहीं करना ही मेरा दुश्मन है।’ मन का खालीपन मन में अनंत जहरीले चिंताओं के बवंडर को जन्म देता है जिससे मन अशांत होता है। मनोविश्लेषकों के अनुसार मन ही स्वास्थ्य का मूल होता है। मन में उठने वाले विचार मन की दशा और दिशा को प्रभावित करते हैं। खुद को व्यस्त नहीं रखने पर मन में भटकाव होता है और यही हमारी बेकार की चिंताओं का कारण बन जाता है। कहते हैं कि जीवन में खुुशी इस पर निर्भर नहीं करती कि आप कौन हैं या आपके पास क्या है। ये सिर्फ इस बात पर निर्भर करती है कि आप क्या सोचते हैं। लिहाजा मन को भटकने देने से रोकें और खुद को किसी-न-किसी रचनात्मक कार्यों में व्यस्त रखें।

किन्तु अवसाद सरीखे अति संवेदनशील और मानसिक समस्याओं का स्थायी और अचूक समाधान हमारे मन में ही बसा होता है। मानव जीवन में अवसाद की समस्या में लुहार के द्वारा निर्मित हथकड़ी और उसको तोड़ नहीं पाने की विवशता और नाकामी का अक्स किसी आईने की तरह साफ-साफ परिलक्षित होता है। अपने जीवन की इन बेडिय़ों को ही हम अपनी नियति मान बैठते हैं और घोर हताशा और निराशा के साथ जीवन बिताना शुरू कर देते हैं। सच पूछिये तो मानव जीवन की सारी समस्याएं यहीं से शुरू होती है। हकीकत तो यही है कि हथकड़ी कभी भी इसके बनाने वाले से अधिक मजबूत नहीं हो सकती है। जिस चीज को हम खुद बनाते हैं उसे हम तोड़ भी सकते हैं, बिगाड़ भी सकते हैं और पुन: निर्मित भी कर सकते हैं।

इस सत्य से इनकार करना आसान नहीं होगा कि समस्यारूपी हथकडिय़ों को तोडऩे में हमारी सबसे बड़ी बाधा हमारे मेंटल ब्लॉक की होती है, विचार का होता है, कल्पना का होता है, सोच का होता है, नजरिया का होता है और खुद के द्वारा रचित उस मिथ्या संसार का होता है जहां हम खुद को समस्याओं के समक्ष अक्षम, पंगु, विवश और असफल मानते हैं।

लिहाजा अपने जीवन की कठिनाईयों और मुसीबतों की बेडिय़ों को तोडऩे के लिए हमें हठी बनने की जरूरत है। बिना हठ किये हुए और बिना मन की दृढ़ता के जीवन से चिंताएं कभी नहीं जाएंगी, अवसाद की आंधी कभी खत्म नहीं होंगी, खुदकुशी की वारदातें कभी भी नहीं थमेंगी। जिस दिन आप यह ठान लेंगे कि आप बेकार की चिंताओं से मुक्त रहेंगे तो अवसाद का जहर ऐसी हथकड़ी साबित होगी जिसकी कडिय़ां रफ्ता-रफ्ता कमजोर पड़ती जायेंगी और शीघ्र ही आप उसको आसानी से तोडऩे में कामयाब हो जायेंगे।

 

श्रीप्रकाश शर्मा

(लेखक प्राचार्य, जवाहर नवोदय विद्यालय, मामित, मिजोरम, हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published.