ब्रेकिंग न्यूज़ 

कांग्रेस का ढहता किला

कांग्रेस का ढहता किला

भारत की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी  कांग्रेस का न केवल काडर ही ख़त्म हो रहा हैं, बल्कि यह जनता से भी दूर होती जा रही हैं। बिहार में हुए  विधानसभा चुनाव तथा देशभर में हुए उपचुनाव में हार मिलने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भी पार्टी नेतृत्व से प्रश्न पूछने लगे हैं। राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने यहां तक कह दिया हैं कि कांग्रेस का संगठन बिल्कुल ही ध्वस्त हो चुका हैं। इसके अलावा पार्टी में पांच सितारा संस्कृति का भी प्रवेश हो चुका हैं, जिससे पार्टी लगातार आमजन से दूर होती जा रही हैं। ऐसा माना जा रहा हैं कि यह बयान कांग्रेस के भावी अध्यक्ष राहुल गांधी के खिलाफ दिया गया है। यहां यह बताना आवश्यक हैं कि 2019 लोकसभा चुनाव में हार मिलने के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था और भविष्य में भी कमान सम्भालने से इंकार कर दिया था। तब से पार्टी की कमान सोनिया गांधी के ही हाथों में हैं। यहां यह बताना आवश्यक हैं कि भारत की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी अपने पूरे इतिहास के सबसे खराब दौर से गुजर रही हैं। जो पार्टी अब तक यह कहती रही हैं कीं इसने ही भारत को विदेशी गुलामी से आजादी दिलायी, वह स्वयं दशकों से एक ही  परिवार की गुलाम बनी हुई हैं। इसलिए न तो यह सकारात्मक वार्तालाप में हिस्सा लेती हैं, न ही कुछ अच्छा तर्क सुझाती हैं, बस केवल सडक़ों पर धरना देती हैं। ऐसा लगता हैं कि वर्तमान कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्षा भारत के प्रति संवेदनशील नहीं हैं और महाभारत के धृतराष्ट्र की तरह व्यवहार कर रही है, और पुत्रमोह में अंधा होकर अपने अयोग्य पुत्र को देश की कमान दिलाने के लिए भरपूर प्रयास कर रही हैं। इसलिए यह कह सकते है कि आज की कांग्रेस केवल माता-पुत्र की कांग्रेस बनकर रह गयी हैं। और यही इसके पतन का कारण भी हैं। और तो और अहमद पटेल की मृत्यु और गुलाम नबी आजाद और कपिल सिबल जैसे नेताओं के बागी तेवर कांग्रेस के लिए और भी नुकसानदायक हैं।

राजनीति में हाई कमान का योगदान अब एक चर्चा का विषय हैं, और कांग्रेस के संदर्भ में यह बिल्कुल ही लोकतन्त्र के विरूद्ध हैं, क्योंकि इसका कार्य लोगों की इच्छा के अनुरूप कार्य करना हैं। कांग्रेस के अंदर कभी भी आंतरिक लोकतन्त्र नहीं रहा हैं। आजादी से पूर्व भी कांग्रेस में नेहरु और गांधी जैसे कुछ लोगों की ही चलती थीं और इसलिए सुभाष चंद्र बोस जैसे लोगों को अलग-थलग कर दिया गया। यह ऐसा ही हैं कि केवल राजा और रानी को ही शासन करने का अधिकार हैं। और ऐसा ही कांग्रेस मे हो रहा हैं। शायद इसी संस्कृति ने भारतीय राजनीति को नुकसान पहुंचा दिया। लोग 2014 के चुनाव में कांग्रेस से इतने चिढ़ चुके थे कि वे किसी को भी इसके स्थान पर चुनने के लिए व्याकुल थे। और तब से चीजें नहीं बदली हैं। कांग्रेस के भीतर का राजनीतिक असंतोष अब और भी अधिक मुखर हो चुका है। और इन सब के लिए नेहरु-गांधी परिवार ही जिम्मेदार हैं। आज वंशवाद के कारण कांग्रेस अब अपने सबसे निचले स्तर पर आ चुकी हैं। आज पार्टी अपने पैरों पर एक बार फिर खड़ा होने में असमर्थ दिखती हैं। अब तो यह बिल्कुल ही साफ़ हो चुका हैं की जिस परिवार को इस पार्टी को सम्भालने की जिम्मेदारी मिली थीं, वह अब उसकी सुरक्षा में विफल हों चुकी हैं। यदि कांग्रेस को एक बार फिर खड़ा होना हैं तो इसे दो कार्य करने होंगे। पहला, नेहरू-गाधी परिवार से इसे छुटकारा पाना और दूसरा सामथ्र्ययवान नेताओं को मौका देना होगा, जो पार्टी के लिए जमीनी स्तर पर कार्य कर सकें।

 

Deepak Kumar Rath

 दीपक कुमार रथ

 (editor@udayindia.in)

Leave a Reply

Your email address will not be published.