ब्रेकिंग न्यूज़ 

भारत ने टीका उत्‍पादन की अपनी क्षमता बढाई

भारत ने टीका उत्‍पादन की अपनी क्षमता बढाई

भारत में विदेशी दूतावासों के प्रमुखों और राजदूतों के एक दल ने कल हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड तथा बायोलॉजिकल ई-लेबोरेट्री का दौरा किया और कोरोना वायरस का टीका विकसित करने के प्रयासों का जायजा लिया। भारत बायोटेक के संस्‍थापक डॉक्‍टर कृष्‍ण एम एल्‍ला ने बताया कि उनकी प्रयोगशाला ने अगले साल के अंत तक पचास करोड कोवैक्‍सीन टीके तैयार करने का लक्ष्‍य रखा है। उन्‍होंने बताया कि विभिन्‍न जनसमूहों के लिए अलग-अलग तरह के टीके तैयार किए जा रहे हैं और पहला टीका बच्‍चों तथा गर्भवती महिलाओं के‍ लिए है। उन्‍होंने यह भी कहा कि दूसरा टीका कैंसर और गुर्दे के रोगियों के लिए और तीसरा आम लोगों के लिए बनाया जाएगा। डॉक्‍टर एल्‍ला ने यह भी बताया कि एक ऐसा टीका भी विकसित किया जा रहा है जिसे नाक के जरिये लिया जा सकता है। उन्‍होंने कहा कि भारत बायोटेक अपनी दो और प्रयोगशालाओं की स्‍थापना करने जा रहा है। अपने प्रेजेंटेशन में उन्‍होंने बताया कि तीसरे दौर के नैदानिक परीक्षणों के नतीजे संतोषजनक रहे हैं। यह पूछे जाने पर कि कोवैक्‍सीन का उत्‍पादन कब तक होने लगेगा, उन्‍होंने कहा कि जैसे ही सरकार से स्‍वीकृति मिल जाएगी इनका उत्‍पादन शुरू कर दिया जाएगा।

राजदूतों और अन्‍य राजनयिकों ने टीके के विकास की दिशा में प्रगति पर संतोष व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि भारत ने टीका उत्‍पादन की अपनी क्षमता बढाई है जिससे इस बात की उम्‍मीद बंधी है कि वह अन्‍य देशों की जरूरतें भी पूरी करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.