ब्रेकिंग न्यूज़ 

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में 3 समितियों की अध्यक्षता करेगा भारत

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में 3 समितियों की अध्यक्षता करेगा भारत

भारत अब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की 3 प्रमुख सहायक निकायों की अध्यक्षता करेगा। जिसमें तालिबान प्रतिबंध समिति, आतंकवाद-रोधी समिति (2022 के लिए) और लीबिया प्रतिबंध समिति शामिल है। UNSC में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने इसकी जानकारी दी।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के तीन प्रमुख सहायक निकायों की अब भारत अध्यक्षता करेगा। इन 3 निकायों में तालिबान प्रतिबंध समिति, आतंकवाद-रोधी समिति (2022 के लिए) और लीबिया प्रतिबंध समिति शामिल है। इसकी जानकारी संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने दी है। टीएस तिरुमूर्ति ने शुक्रवार (8 जनवरी) को कहा है कि जब लीबिया और शांति प्रक्रिया पर अंतरराष्ट्रीय ध्यान केंद्रित होगा, तो भारत एक एक महत्वपूर्ण मोड़ पर लीबिया प्रतिबंध समिति की कुर्सी को संभालेगा।

टीएस तिरुमूर्ति ने कहा, इस समिति की अध्यक्षता भारत के लिए एक विशेष प्रतिध्वनि है, जो न केवल आतंकवाद से लड़ने में सबसे आगे है, विशेष रूप से सीमा पार से आतंकवाद, बल्कि इसके सबसे बड़े पीड़ितों में से एक है। टीएस तिरुमूर्ति ने कहा, तालिबान प्रतिबंध समिति हमेशा से भारत के लिए प्राथमिकता रही है।

उनहोंने कहा, तालिबान प्रतिबंध समिति हमेशा से अफगानिस्तान के शांति, सुरक्षा, विकास और प्रगति के लिए हमारे मजबूत हित और प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते भारत के लिए पहली प्राथमिकता है। भारत के अलावा केन्या, मैक्सिको, आयरलैंड, और नॉर्वे गैर-स्थायी सदस्य के रूप में यूएनएससी में शामिल हुए हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने अनूठे डिजिटल प्लेटफॉर्म- को-विन ऐप का भी उल्‍लेख किया। ये ऐप टीके की वास्‍तविक उपलब्‍धता, उनके भंडारण के तापमान और कोविड-19 टीके के प्रत्‍येक लाभार्थी के बारे में सही जानकारी देगा। उन्होंने कहा कि इस प्‍लेफार्म पर 78 लाख से अधिक लाभार्थी पहले से ही पंजीकृत हो चुके हैं।
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने सभी राज्यों के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रियों को आश्‍वस्‍त किया कि हर व्‍यक्ति तक टीका पहुंचाना सुनिश्चित करने के लिए देश की शीत गृह अवसंरचना को पर्याप्त रूप से उन्नत किया गया है। इसके लिए सीरिंज और अन्य जरूरी सामग्री को पर्याप्त रूप से उपलब्‍ध कराया गया है। डॉक्‍टर हर्षवर्धन ने स्वास्थ्य मंत्रियों से अनुरोध किया कि वे वैक्सीन की सुरक्षा और उसके असर के बारे में चल रही अफवाहों और भ्रामक जानकारी के प्रति सतर्क रहें। उन्‍होंने सोशल मीडिया पर टीके के दुष्‍प्रभावों के बारे में चल रही अफवाहों को आधारहीन बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.