ब्रेकिंग न्यूज़ 

बंगाल में कोरोना का कहर जारी

बंगाल में कोरोना का कहर जारी

पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण ने रफ्तार पकड़ ली है। हर रोज नए मामले सामने आ रहे हैं। हावड़ा जिले में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। ऑक्सीजन की कमी के साथ अब पूरे जिले में वैक्सीन की कमी स्वास्थ्य विभाग के लिए अब आफत बनते जा रही है। जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में जरूरत के मुताबिक ऑक्सीजन नहीं है। वहीं जिले के 190 टीकाकरण केंद्रों में 140 को बंद कर दिया गया है। 50 केंद्रों में टीके दिये जा रहे हैं। निगम के 20 स्वास्थ्य केंद्रों में नौ केंद्रों में टीकाकरण बंद है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, वैक्सीन की आपूर्ति अगर जल्द पूरी नहीं होती है, तो बाकी बचे टीकाकरण केंद्रों में भी टीका देना बंद हो जायेगा। वहीं, जिले के विभिन्न सरकारी व गैर-सरकारी अस्पतालों में खोले गये अधिकतर कोविड वार्डों में बेड उपलब्ध नहीं हैं। बालटिकुड़ी इएसआइ व सत्यबाला आइडी अस्पताल में बेड फुल हैं। टीएल जायसवाल अस्पताल में कुछ ही बेड खाली पड़े हुए हैं। गैरसरकारी अस्पतालों की हालत भी कुछ इसी तरह है। गोलाबाड़ी आइएलएस, फुलेश्वर स्थित संजीवन व शिवपुर श्री जैन हॉस्पिटल में सभी बेड फुल हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। प्रतिदिन पूरे जिले में करीब एक हजार लोग कोविड पॉजिटिव हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार, ऑक्सीजन व वैक्सीन की आपूर्ति होने से स्थिति में सुधार हो सकती है। स्वास्थ्य विभाग ने राज्य सरकार से जल्द वैक्सीन व ऑक्सीजन देने की मांग की है।

awarn-5b

उधर कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर प्रशासन-पुलिस काफी सक्रिय हो गये हैं। संक्रमण रोकने के लिए पुलिस ने लापरवाही बरतनेवाले लोगों पर कार्रवाई भी शुरू कर दी है। बिना मास्क बाहर घूमने वालों को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया। प्रशासनिक अधिकारी घूम-घूम कर लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक कर रहे हैं।

लोगों को सतर्क रहने की नसीहत दे रहे हैं। मगर फिर भी कुछ लोग लापरवाही बरत रहे हैं। इसलिए पुलिस ने ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त रवैया अपनाना शुरू कर दिया है। जगह-जगह अभियान चलाकर बिना मास्क पहन घूमने वाले लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है। जुर्माना लगाया जा रहा है। जिले के विभिन्न इलाकों में पुलिस कार्रवाई की जा रही है। कालचीनी थाना की पुलिस ने क्षेत्र की सडक़ों व बाजारों में अभियान चलाया और बिना मास्क पहन घूमने वाले आठ लोगों को गिरफ्तार किया। थाना प्रभारी अनिर्बान मजूमदार ने बताया कि जागरूकता कार्यक्रम एक माइकिंग के माध्यम से हम बार-बार लोगों को जागरूक कर रहे हैं। मगर कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें अपनी कोई परवाह नहीं है। वह बिना मास्क पहने घर से निकलकर घूम रहे हैं। जगह-जगह भीड़भाड़ कर रहे हैं। इसी को लेकर आज हमने अपने थाना क्षेत्र के विभिन्न इलाकों में अभियान चलाया एवं लगभग आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा हमारा यह अभियान जारी रहेगा। देखा जाए तो कोरोना अपने दूसरे लहर पर जम कर पश्चिम बंगाल पर कहर बरपा रहा है। राज्य में आये कोरोना अपने दैनिक रिकॉर्ड को तोड़ रहे हैं। ऐसे समय में राज्य के सरकारी व निजी अस्पतालों में बेड नहीं है। ऐसे हल्के लक्षण वाले मरीजों को घर में ही इलाज कराने को कहा गया है। सरकार के इस निर्देश के बाद कुछ लोग भ्रमित तो कुछ लोग डरे हुए हैं। संक्रमित लोग नहीं समझ पा रहे हैं कि वह जायें, तो कहां जायें।

ऐसे हल्के लक्षण वाले लोगों की सहूलियत के लिए चिकित्सकों के सबसे बड़े संगठन वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम (डब्ल्यूबीडीएफ) की ओर से नि:शुल्क टेलीमेडिसिन उपलब्ध करायी जा रही है। चिकित्सकों की ओर से  इस सेवा का शुभारंभ किया गया। यह जानकारी डब्ल्यूबीडीएफ के संयुक्त सचिव डॉ राजीव पांडे ने दी। उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमित होम आइसोलेशन में रहने वाले लोग इस सेवा का लाभ उठा सकते हैं। टेलीमेडिसिन के लिए 32 चिकित्सकों का नंबर जारी किया गया है। इस सूची में चिकित्सकों के फोन नंबर के साथ वह कब और किस दिन उपलब्ध रहेंगे, इसकी जानकारी भी दी गयी है। डॉ पांडे ने बताया कि नंबर जारी करने के बाद सोमवार रात तक 100 से अधिक फोन कॉल आये हैं। फोन पर ही संक्रमित रोगियों की चिकित्सा व दवाइयों के नाम बताये जा रहे हैं।

कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर असम-बंगाल सीमा को सील कर दिया गया है। असम के छोटोगुमा से बंगाल के बक्शीरहाट के प्रवेश द्वार और बक्शीरहाट बाजार से सटे असम-बंगाल सीमा के प्रवेश द्वार पर बांस का बैरिकेड लगा दिया गया। इससे दोनों राज्यों के व्यवसायी और आमलोग काफी नाराज हैं।

बक्शीरहाट शाखा व्यापार संघ के सचिव विपुल दास ने कहा कि वह पिछले साल के अनुभव से चिंतित हैं। सीमा सील होने से दोनों राज्य के सीमावर्ती इलाके के व्यापारी और आम लोग प्रभावित होंगे। उनकी मांग है कि प्रशासन सीमा सील करने के बजाय नाका चेकिंग कर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराते हुए आवाजाही बहाल रखे। वहीं, असम छोटोगुमा थाने के आइसी आलोकेश नाथ ने कहा कि धुबुरी पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर असम-बंगाल सीमा को सील किया गया है, ताकि बंगाल से कोई सीधे असम में प्रवेश न कर सके। उन्होंने कहा बक्शीरहाट के लोग कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए बालाकुथी राष्ट्रीय राजमार्ग से असम में प्रवेश कर सकते हैं। तूफानगंज 2 ब्लॉक के बीडीओ प्रसेनजीत कुंडू ने कहा कि असम प्रशासन ने उन्हें सीमा बंद करने के बारे में सूचित नहीं किया। वह इस संबंध में असम प्रशासन से बात करेंगे।

awarn-5c

भारत निर्वाचन आयोग की अनुमति लेने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय नबान्न भवन में पश्चिम बंगाल में कोरोना की परिस्थिति और इससे निपटने के लिए की गयी तैयारियों को लेकर समीक्षा बैठक की। इस बैठक में राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय, गृह सचिव एचके द्विवेदी व स्वास्थ्य सचिव नारायण स्वरूप निगम सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। बैठक में पश्चिम बंगाल में ऑक्सीजन सिलिंडरों की उपलब्धता व सरकारी व निजी अस्पतालों में कोविड-१९ के इलाज के लिए बेडों की उपलब्धता पर चर्चा हुई। राज्य सचिवालय से मिली जानकारी के अनुसार, पश्चिम बंगाल में ऑक्सीजन गैस की कमी नहीं है। वर्तमान समय में यहां रोजाना ४९७ मैट्रिक टन ऑक्सीजन गैस का उत्पादन होता है, जबकि राज्य में प्रतिदिन २२३ मेट्रिक टन ऑक्सीजन की खपत होती है। इसलिए यहां ऑक्सीजन की कमी का सवाल ही पैदा नहीं होता। पश्चिम बंगाल में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलिंडर उपलब्ध हैं। पश्चिम बंगाल सरकार ने पाइप लाइन के माध्यम से भी ऑक्सीजन गैस आपूर्ति करने की व्यवस्था की है। इसलिए यहां ऑक्सीजन को लेकर कोई चिंता नहीं है। साथ ही राज्य सरकार ने बताया है कि पश्चिम बंगाल में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सरकारी व निजी अस्पतालों को मिला कर कुल २०००० बेडों की व्यवस्था है, जिसे आनेवाले समय में और बढ़ाने पर विचार किया जा रहा है।

awarn-5d

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के बीच कोरोना वायरस से एक और कैंडिडेट की मौत हो गयी है। बताया जा रहा है कि मालदा के वैष्णवनगर के निर्दलीय कैंडिडेट ने कोरोना के कारण दम तोड़ दिया। बंगाल चुनाव में इससे पहले भी तीन कैंडिडेट की कोरोना से मौत हो चुकी है। बांग्ला चैनल की रिपोर्ट के अनुसार मालदा के वैष्णवनगर से निर्दलीय उम्मीदवार समीर घोष की देर रात कोरोना वायरस से मौत हो गई। वे बीते दिनों कोरोना पॉजिटिव आए थे, जिसके बाद उन्हें एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि बीजेपी से टिकट नहीं मिलने के बाद घोष ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में पर्चा भरा था।

इन उम्मीदवारों की हो चुकी है मौत- बंगाल चुनाव में कोरोना वायरस से अब तक चार उम्मीदवारों की मौत हो चुकी है। जंगीपुर सीट से आरएसी कैंडिडेट, खड़धह से टीएमसी कैंडिडेट और शमसेरगंज से कांग्रेस उम्मीदवार की मौत हो चुकी है। जंगीपुर और शमसेरगंज के लिए इलेक्शन कमीशन ने नए डेट का ऐलान भी कर दिया है।

करीब १६ हजार केस- स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार २४ घंटे ४८,५६२ नमूने जांचे गये हैं, इनमें १५,९९२ नूमनों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। अब तक का कोरोना का यह नया रिकॉर्ड है। पिछले २४ घंटे में ६८ लोगों ने जान गंवायी है। राज्य स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार एक्टिव यानी सक्रिय मरीजों की संख्या बढ़ कर ९४,९४९ हो चुकी है। बुलेटिन के अनुसार २४ घंटे में ९,७७५ लोगों ने कोरोना को मात दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.