ब्रेकिंग न्यूज़ 

रक्षामंत्री ने कोविड की दूसरी लहर से निपटने के प्रयासों की समीक्षा की

रक्षामंत्री ने कोविड की दूसरी लहर से निपटने के प्रयासों की समीक्षा की

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कोविड की दूसरी लहर से निपटने में अपने मंत्रालय, सै‍न्‍यबलों, रक्षा अनुसंधान तथा विकास संगठन-डीआरडीओ और अन्‍य रक्षा संगठनों के प्रयासों की समीक्षा की है। उन्‍होंने राज्‍यों में चिकित्‍सा ऑक्‍सीजन आपूर्ति बढ़ाने के लिए परिवहन सहायता और स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी बुनियादी सुविधाओं की भी समीक्षा की।

इस बैठक में मौजूदा मांग को पूरा करने के लिए डी.आर.डी.ओ द्वारा विभिन्‍न राज्‍यों में विशेष कोविड अस्‍पतालों की स्‍थापना, सेना के अस्‍पतालों में अतिरिक्‍त बिस्‍तरों की व्‍यवस्‍था, प्रधानमंत्री केयर्स फंड से प्रेशर स्विंग एडजॉर्पशन ऑक्‍सीजन संयंत्रों की आपूर्ति और डॉक्‍टरों तथा अन्‍य चिकित्‍सा पेशेवरों की संख्‍या में वृद्धि पर प्रमुखता से चर्चा की गई।

डी.आर.डी.ओ के अध्‍यक्ष डॉ. जी. सतीश रेड्डी ने बताया कि दिल्‍ली, लखनऊ, वाराणसी, अहमदाबाद और पटना में बनाए गए अस्‍पताल रोगियों को चिकित्‍सा सेवाएं उपलब्‍ध करा रहे हैं। उत्‍तराखण्‍ड में ऋषिकेश तथा हल्‍दवानी और जम्‍मू-कश्‍मीर में भी इस प्रकार की सुविधाएं स्‍थापित की जा रही हैं।

डी.आर.डी.ओ ने पांच पी.एस.ए ऑक्‍सीजन संयंत्रों की स्‍थापना का काम पूरा कर लिया है तथा 150 से 175 और संयंत्रों का कार्य प्रगति पर है जो इस महीने के अंत तक पूरा हो जाएगा।

प्रमुख रक्षा अध्‍यक्ष जनरल विपिन रावत ने बैठक में बताया कि नागरिक प्रशासन को हर प्रकार की सहायता उपलब्‍ध कराने में तीनों सेनाएं पूरी तरह समन्‍वय के साथ काम कर रहीं हैं। उन्‍होंने बताया कि सेना ने दुर्गम और दूर-दराज इलाकों में स्‍थानीय प्रशासन की सहायता के लिए स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाएं उपलब्‍ध कराई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.