ब्रेकिंग न्यूज़ 

गांधीवाला उर्फ ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार

गांधीवाला उर्फ ट्रेजेडी किंग दिलीप कुमार

ट्रेजेडी किंग यानी हिंदी  दुखांत फिल्मों के  बादशाह स्व. दिलीप कुमार के बारे में एक ऑडियो-वीडियो जमकर वायरल हो रहा है। इस ऑडिओ-वीडियो में दिलीप साहब को एक तरह से देशद्रोही सिद्ध करने की विवादास्पद कोशिश की  जा रही है। कहा जा रहा है, कि उक्त अभिनेता पाकिस्तान के लिए जासूसी करता था। इस मामले में पुलिस के हाथ उन तक पहुंचने ही वाले थे, लेकिन राजनीतिक खलीफाओं ने मामला रफा-दफा करवा दिया। दिलीप साहब की देश भक्ति, तो उनके न जाने कितने किरदारों में झलकी है, लेकिन इसका सबसे बड़ा सबूत उनकी आत्मकथा उर्फ ऑटोबायोग्राफी द सबटेंस एण्ड द शेडो में लिखे एक किस्से से मिलता था। तब आम चलन था कि पाकिस्तान के हजारों लोग रोजी-रोटी की तलाश में मुंबई, पुणे या भारत के किसी अन्य शहर में आ बसते थे। दिलीप कुमार के पिताजी भी पुणे आ गए। इस शहर में उन्हें सैन्य ठिकाने की कैंटीन चलाने काम मिल गया। दिलीप अपने अब्बू के काम में सहायता करते। देखते ही देखते दिलीप कुमार के हाथ से बने सैंडविच बड़े चाव से खाए जाने लगे। दिलीप साहब को भी खूब प्रसिद्धि मिलने लगी। दिलीप कुमार लिखते हैं कि इस आलम को देखकर उनका एक दोस्त इतना खुश हुआ, कि दिलीप साहब को उसने सलाह दी तुम्हें देशभक्ति या भारत का पक्ष लेते हुए एक सार्वजनिक भाषण देना चाहिए। वो, ब्रिटिश हुकूमत के दिन थे। उसके खिलाफ भाषण देना भी गुनाह माना जाता था। देश भक्ति से लबालब  दिलीप साहब ने भारत के सम्बंध में एक तरह का क्रांतिकारी भाषण दे दिया। उनकी बल्ले-बल्ले हो गई। दिलीप कुमार लिखते हैं, मैं खुशियों से फूला नहीं समा रहा था। दूसरे ही दिन फिरंगी पुलिस के कुछ अफसर आए, और मेरे हाथों में हथकडिय़ां डालकर ले गए। दिलीप कुमार के अनुसार उन्हें यरवडा जेल में डाल दिया गया। दिलीप कुमार का कसूर सिर्फ इतना सा था, कि उन्होंने भारत की लगातार तारीफ करते हुए इसे एक अहिंसक, सच्चा, ईमानदार, और मेहनतकशो का देश बता दिया था। इस भाषण को ही अंग्रेज पुलिस ने हुकूमत विरोधी मान लिया। जिस यरवडा जेल में दिलीप कुमार बंद किए गए थे, वहां गांधीवादी सत्याग्रहियों का मेला लगा हुआ था। उन्होंने भूख हड़ताल कर रखी थी। दिलीप कुमार लिखते हैं कि मैं भी उन गांधीवादी सत्याग्रहियों की भूख हड़ताल में सम्मिलित हो गया। सेना के एक मेजर को जब यह बात पता चली, तो उसने मुझे (दिलीप कुमार) को पुलिस से छुड़वा लिया। बाद में लोगों ने तगमा दे दिया, गांधीवाला दिलीप कुमार।

अब भी किसी कोई शक…….शायद नहीं। जिन स्व. दिलीप कुमार साहब को कोई अभिनय का मसीहा कह रहा है, कोई इतिहास की वो किताब कह रहा है, जिसे नई नस्लें हेण्डबुक की तरह जेब मे रखेंगी उनके साथ हुई बदसलूकी को कैसे भुला जा सकता है। यह घटना कुछ साल पहले की ही तो है। दरअसल, मुम्बई की जिस हवेली में दिलीप साहब अंत तक रहे, उस पर न जाने कब से मुम्बई के भूमि माफिया की काली नजर थी। इस गुंडागर्दी ने लाचार और बुजुर्गवार दिलीप साहब और सायरा बानोजी का जीना दुश्वार कर दिया था। वो, तो सायराजी व्यक्तिगत रूप से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, और अन्य नेताओं के साथ मीडिया के जरिये सम्पर्क में रहीं, वर्ना भूमि माफिया जो करें सो कम है। दिलीप साहब को पसंद किए जाने का सबसे बड़ा कारण यह था, कि उनके जीवन, और अदाकारी में अपना देश, इंसानियत, अदब के साथ एक अलग सा मुकम्मल लहजा भरा हुआ था। साहित्य में इसे ग्रेस फुलनेस के अलावा कुछ नहीं कह सकते। वो निकले थे, तो पेशावर से थे, मगर पता नहीं भारत के छोटे-छोटे गांव उनमें कहां से बस गए थे। कहीं कोई फुहड़ता नहीं, कभी वाचालता नहीं। आज अटलजी होते तो आडवाणीजी के साथ दिलीप साहब को यह कहकर बिदा देते, आ इस शजर से लिपटकर रो लें जरा, कि तेरे मेरे रास्ते यहां से जुदा होते हैं। शाहरुख खान को अपना बेटा मानने का कारण भी दिलीप साहब के तई निराला था। हुआ यह था, कि एक फिल्मी जलसे में दिलीप कुमार के साथ मनोज कुमार को भी सम्मानित किया जा रहा था। मनोज कुमार ने अपना सम्मान पत्र दिलीप साहब के हवाले कर दिया। बैठे मेहमानों ने देर तक तालियां बजाईं। तब शाहरुख खान की देवदास रिलीज होने को थी। मजमे में शाहरुख के पास शो मैंने सुभाष घई भी बैठे हुए थे। सुभाषजी ने शाहरुख खान की एक हथेली जोर से दबाकर, कहा एक दिन तुम्हें भी ऐसा ही ट्रेजिडी किंग बनना है। जब संजय लीला भंसाली की देवदास पर्दे से कई सप्ताह तक हटी नहीं, तो सुभाषजी को अपने आप अपने सवाल का जवाब मिल गया। अभिनेत्री रेखा सालों तक सपना सजाती रही कि उन्हें दिलीप साहब के साथ काम करने को मिले। जब रमेश सिप्पी ने किला फिल्म बनाई तो उसमें रेखा को दिलीप साहब के साथ लिया जो उनकी अंतिम फिल्म थी।


नवीन
जैन

Leave a Reply

Your email address will not be published.