ब्रेकिंग न्यूज़ 

खूबसूरती के साथ, स्वास्थ्य भी

खूबसूरती के साथ, स्वास्थ्य भी

गुलाब का फूल जहां अपनी खूबसूरती से लोगों का मन मोह लेता है, वहीं उसकी मनमोहक खुशबू लोगों को अकारण ही अपनी तरफ खींच लेती है। गुलाब के फूलों को लोग अपने घर को सजाने और घर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाने के लए प्रयोग करते हैं, लेकिन गुलाब मात्र एक फूल नहीं है, यह एक औषधि भी है। गुलाब का हमारे जीवन में अपना ही महत्व है। सौंदर्य अपील और सुखदायक खुशबू के अलावा, गुलाब का फूल हमें कई स्वास्थ्य लाभ भी प्रदान करता है। गुलाब जल से लेकर गुलाब के तेल और गुलकंद सभी सेहत और स्वास्थ्य के नजरिये से बहुत फायदेमंद हैं। तो जानिए गुलाब के स्वास्थ्य और सौंन्दर्य लाभ।

स्वास्थ्यवर्धक

  • आंखों की जलन, खुजली दूर करने के लिए दोनों आंखों में 2-2 बूंद गुलाब जल डालने से फायदा मिलता है।
  • कब्ज दूर करने के लिए नियमित रूप से 2 चम्मच गुलकंद का सेवन सुबह-शाम करने से लाभ होता है।
  • दिल की धड़कन तेज होने पर सूखे हुए गुलाब की पंखुडिय़ों का चूर्ण और मिश्री बराबर मात्रा में एक-एक चम्मच सुबह-शाम दूध के साथ लेने से धड़कन सामान्य हो जाती है।
  • कान के दर्द में गुलाब जल की दो-दो बूंदें कानों में डालने से दर्द में आराम मिलता है।
  • हाथों-पैरों या शरीर में जलन होने पर चंदन के पाउडर में गुलाब जल मिलाकर जलन वाले स्थान पर लेप करें। थोड़ी देर में जलन शांत हो जाएगी।
  • पसीने की दुर्गन्ध दूर करने के लिए गुलाब की ताजी पंखुडिय़ों को थोड़े से पानी के साथ पीसकर एक गिलास पानी में मिलाकर पूरे शरीर पर उसकी मालिश कर 5-10 मिनट तक छोड़ दें। थोड़ी देर बाद स्नान करने से दुर्गन्ध दूर हो जाती है।
  • आधा सीसी के दर्द में 10 मि.ली. गुलाब जल में पिसा हुआ एक ग्राम नौसादर मिला लें। फिर 2-2 बूंदें नाक में टपकाकर सांस जोर से खीचें। कुछ ही देर में आधा सीसी का दर्द दूर हो जाएगा।
  • शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए गुलकंद का नियमित सेवन करना चाहिए।
  • गुलाब के फल विटामिन ए, बी-3, सी, डी और ई से भरपूर होता है। इसमें उच्च मात्रा में मौजूद विटामिन-सी के कारण डायरिया के इलाज के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। गुलाब के फल में फ्लवोनोइड्स, बायोफ्लवोनोइड्स, सिट्रिक एसिड, मैलिक एसिड, टैनिन और जिंक भी होता है।
  • गुलाब जल का इस्तेमाल एक हर्बल चाय के रूप में किया जाता है। यह पेट के रोगों और मूत्राशय में होने वाले संक्रमण को दूर करने के काम आती है।
  • घावों के इलाज के लिए गुलाब का तेल बहुत अच्छा उपाय है। गुलाब के तेल में मौजूद एंटीसेप्टिक गुण घावों को भरता है और इसकी खुशबू से आपको रिलैक्स महसूस होगा। घाव पर गुलाब के तेल के इस्तेमाल से सेप्टिक और संक्रमण से बचाने में मदद मिलती है।

सौंदर्यवधर्क

  • गुलाब जल एक प्राकृतिक एस्ट्रिंजेंट है। यह त्वचा के पीएच संतुलन को बनाए रखता है। रोज रात को इसे अपने चेहरे पर लगाएं और देखें कि आपकी त्वचा कुछ ही दिनों में टाइट हो जाएगी और झुर्रियां चली जाएंगी।
  • गुलाब जल के अंदर ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिसकी वजह से आपके चेहरे के बंद पोर्स साफ हो जाएंगे। इन पोर्स में तेल और गंदगी छुपी रहती है, जिसकी वजह से चेहरे पर कील और मुंहासे हो जाते हैं। गुलाब जल लगाने से चेहरा की त्वचा स्वच्छ और चमकदार बन जाती है।
  • यदि आप कहीं तेज धूप में निकल रहीं हों तो त्वचा पर गुलाब जल छिड़कने से धूप का असर नहीं पड़ता। गुलाब जल एक कीटाणुनाशक भी है। इसके प्रयोग से शरीर पर चिपके छोटे-छोटे कीटाणुओं का नाश हो जाता है।
  • गुलाब जल थकी हुई आंखों को तुरंत राहत प्रदान करने में बहुत कारगर होता है। आंखों में गुलाब जल के इस्तेमाल से आंखों में नई चमक आती है।
  • गुलाब जल में बालों की देखभाल के प्रभावी गुण मौजूद होते हैं। गुलाब जल को बालों की जड़ों में मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन में सुधार आता है, बालों के स्वास्थ्य विकास में मदद मिलती है।

प्रीति ठाकुर

impression imsmart a403рынок систем

Leave a Reply

Your email address will not be published.