ब्रेकिंग न्यूज़ 

दवा प्रतिरोधकता, खाद्य सुरक्षा और मानव स्वास्थ्य में क्या सम्बन्ध?

दवा प्रतिरोधकता, खाद्य सुरक्षा और मानव स्वास्थ्य में क्या सम्बन्ध?

जिस गैर-जिम्मेदारी और अनुचित तरीके से इंसान दवा का उपयोग कर रहा है उसके कारण रोग उत्पन्न करने वाले कीटाणु पर दवाएं कारगर ही नहीं रहतीं – दवा प्रतिरोधकता -रोगाणुरोध प्रतिरोधकता) उत्पन्न हो जाती है। दवा प्रतिरोधकता के कारण इलाज अन्य दवा से होता है (यदि अन्य दवा का विकल्प है तो), इलाज लम्बा-महंगा हो जाता है और अक्सर परिणाम भी असंतोषजनक रहते हैं, और मृत्यु तक होने का खतरा अत्याधिक बढ़ जाता है। यदि ऐसा रोग जिससे बचाव और जिसका पक्का इलाज मुमकिन है, वह लाइलाज हो जाए, तो इसे दुर्भाग्यपूर्ण ही कहा जाएगा क्योंकि दवा प्रतिरोधकता का जिम्मेदार तो मूलत: इंसान ही है। वैज्ञानिक उपलब्धि में हमें जीवनरक्षक दवाएं दी तो हैं पर गैर-जिम्मेदाराना और अनुचित ढंग से यदि हम उपयोग करेंगे तो इन दवाओं को खो देंगे और रोग लाइलाज तक हो सकते हैं।

पर क्या आप जानते हैं कि मानव स्वास्थ्य के साथ-साथ, दवा प्रतिरोधकता का सम्बन्ध, पशुपालन, पशु स्वास्थ्य और पर्यावरण से भी है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन के दवा प्रतिरोधकता कार्यक्रम का नेतृत्व कर रहे डॉ. हेलिसस गेटाहुन ने कहा कि इसीलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संस्थान, वैश्विक पशु स्वास्थ्य संस्थान,

और संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक पर्यावरण कार्यक्रम के साथ साझेदारी की कि संयुक्त अभियान के जरिए दवा प्रतिरोधकता के खिलाफ लोग जागरुक हों और चेतें और प्रतिरोधकता को रोकें।

रोगाणुरोध प्रतिरोध या दवा प्रतिरोधकता न सिर्फ मानव स्वास्थ्य के लिए एक गम्भीर चुनौती बन गयी है वरण पशु स्वास्थ्य, खाद्य सुरक्षा और पर्यावरण के समक्ष भी एक जटिल समस्या है। क्योंकि इन सभी प्रकार की दवा प्रतिरोधकता को फैलाने में मनुष्य की केंद्रीय भूमिका है इसलिए संयुक्त रूप के अभियान से ही इसपर लगाम और अंतत: विराम लग सकता है। इसीलिए डॉ. हेलिसस गेटाहुन ने खाद्य, पशुपालन, मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण पर कार्य कर रही संस्थाओं को एकजुट करने का भरसक प्रयास किया है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के थोमस जोसेफ ने सही कहा है कि एक शताब्दी में हुए चिकित्सकीय अनुसंधानों को हम, दवा प्रतिरोधकता के कारण, पलटाने पर उतारू हैं। जो संक्रमण पहले दवाओं से ठीक होते थे अब वह लाइलाज होने की ओर फिसल रहे हैं। सर्जरी या शल्य-चिकित्सा में खतरा पैदा हो रहा है क्योंकि दवा प्रतिरोधकता बढ़ोतरी पर है।

भारतीय चिकित्सकीय अनुसंधान परिषद की वरिष्ठ वैज्ञानिक शोधकर्ता डॉ. कामिनी वालिया ने कहा कि असंतोषजनक संक्रमण नियंत्रण के कारण, अक्सर दवाओं का अनुचित और गैर-जिम्मेदाराना उपयोग किया जाता है जो सर्वदा अवांछित है। इसके कारण न केवल दवा प्रतिरोधक संक्रमण एक चुनौती बन रहे हैं बल्कि अस्पताल या स्वास्थ्य व्यवस्था, जहां रोगी इलाज के लिए आते हैं, वहां से वह और उनके अभिभावक, एवं स्वास्थ्य कर्मी, दवा प्रतिरोधक रोगों से संक्रमित हो सकते हैं। भारत में इस आंकड़े को मापना जरूरी है कि अस्पताल या स्वास्थ्य व्यवस्था में दवा प्रतिरोधक संक्रमण कितनी बड़ी चुनौती है।

इसीलिए डॉ. कामिनी वालिया भारत सरकार के भारतीय चिकित्सकीय अनुसंधान परिषद के जरिए, देश भर में दवा प्रतिरोधकता मापने का महत्वपूर्ण कार्य कर रही हैं। यदि वैज्ञानिक ढंग से देश भर में निगरानी रखी जाएगी तो पनपती दवा प्रतिरोधकता का समय-रहते सही अनुमान लगेगा, नयी विकसित होती प्रतिरोधकता शीघ्र पता चलेगी, और उपयुक्त कारवायी हो सकेगी जिससे कि दवा प्रतिरोधकता पर विराम लग सके।

डॉ. कामिनी वालिया ने कहा कि हमें सिर्फ अस्पताल या स्वास्थ्य सेवा से दवा प्रतिरोधकता का पूरा अंदाजा नहीं लगेगा क्योंकि सामुदायिक स्तर पर भी ऐसे शोध की जरूरत है कि वहां दवा प्रतिरोधकता का स्तर क्या है।

भारतीय चिकित्सकीय अनुसंधान परिषद ने 2013 से विशेष अभियान शुरू किया कि देश भर में दवा प्रतिरोधकता पर निगरानी रखने के लिए विशेष जांच तंत्र बने जिसमें अनेक बड़े सरकारी अस्पताल, कुछ निजी अस्पताल और चिकित्सकीय जांच सेवाएं आदि शामिल हुईं।

इस देश भर में फैले शोध तंत्र के जरिए, वैज्ञानिक तरीके से छ: कीटाणु पर निगरानी रखी जाती है। इन छ: कीटाणु से सबसे अधिक दवा प्रतिरोधकता उत्पन्न होती है।

भारतीय चिकित्सकीय अनुसंधान परिषद सिर्फ वैज्ञानिक तरीके से दवा प्रतिरोधकता पर निगरानी ही नहीं रख रहा बल्कि अस्पताल एवं अन्य स्वास्थ्य सेवा में स्वास्थ्यकर्मियों को प्रशिक्षण भी दे रहा है कि कैसे दवा प्रतिरोधकता रोकी जाए और बेहतर सशक्त और प्रभावकारी संक्रमण नियंत्रण किया जाए।

डॉ. कामिनी वालिया ने बताया कि 2020 में हुए भारतीय चिकित्सकीय अनुसंधान परिषद के शोध के अनुसार भारत में ‘ग्राम-निगेटिव’ दवा प्रतिरोधक संक्रमण का अनुपात अत्याधिक है। उदाहरण के तौर पर ई-कोलाई से होने वाले संक्रमण 70 प्रतिशत तक दवा प्रतिरोधक हैं और ए-बाउमेनाई संक्रमण (जो अस्पताल में अक्सर हो सकता है) से होने वाले संक्रमण में 70 प्रतिशत तक दवा प्रतिरोधकता है जिसके कारण कार्बापीनम दवा जो उपचार के लिए अंतिम चरण में उपयोग होती है वह कारगर नहीं रहती।

एस-टाइफी कीटाणु, फ्लोरोकेनोलोन से अक्सर प्रतिरोधक पाए गए पर ऐम्पिसिलिन, क्लोरमफेनिकोल, कोत्रिमेकसाजोल और सेफिजाईम दवाएं इस पर 100 प्रतिशत कारगर पायी गई। गौर करने की बात यह है कि एस-टाइफी इन दवाओं से 1990 के दशक में प्रतिरोधक पाया गया था। क्योंकि यह दवाएं इस पर कारगर नहीं रहीं इसीलिए इन दवाओं का उपयोग तब से कम हो गया जिसके कारण एस-टाइफी पर फिर से यह दवाएं 100 प्रतिशत कारगर हो गयी हैं। डॉ. वालिया ने कहा कि यह अत्यंत जरूरी है कि दवाओं का जिम्मेदारी और उचित उपयोग ही हो।

भारतीय चिकित्सकीय अनुसंधान परिषद के शोध में चिंताजनक बात भी हैं। श्वास सम्बन्धी रोगों और अन्य रोगों के उपचार में उपयोग होने वाली दवा, फैरोपीनम, से प्रतिरोधकता छ: साल (2009-2015) में तीन प्रतिशत से बढक़र 40 प्रतिशत हो गयी है क्योंकि इसका इतना अत्याधिक उपयोग होने लगा था।

कोविड और दवा प्रतिरोधकता

डॉ. कामिनी वालिया ने बताया कि जो कोविड के रोगी लम्बे समय तक अस्पताल में रहे, उनके बेक्टेरिया और फूफंद के कीटाणु जांच के लिए भेजे गए। नतीजे चौंकाने वाले आए क्योंकि 35 प्रतिशत रोगियों को अनेक रोग थे जो विभिन्न प्रकार के कीटाणु से होते हैं, और 8.4 प्रतिशत रोगियों को ऐसे रोग थे जो बैक्टेरिया और फूफंद से होते हैं। जिन रोगियों को कोविड दवा प्रतिरोधकता उत्पन्न हो गयी थी उनमें मृत्यु दर 60 प्रतिशत-70 प्रतिशत था। डॉ. वालिया ने चेताया कि कोविड रोगी जो अस्पताल में भर्ती रहे अक्सर इन्हें अनेक विभिन्न प्रकार की दवाएं दी गयीं को विभिन्न कीटाणु के खिलाफ कारगर रहती हैं – इस तरह से दवा के गैर-जिम्मेदाराना और अनुचित उपयोग से, आने वाले सालों में चिंताजनक दवा प्रतिरोधकता देख सकते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉ. हेलिसस गेटाहुन ने कहा कि प्रभावकारी संक्रमण नियंत्रण के जरिए दवा प्रतिरोधकता पर लगाम लग सकती है। यदि स्वास्थ्य सेवा, पशुपालन केंद्र आदि, एवं खाद्य से जुड़े स्थान पर, स्वच्छता पर्याप्त और संतोषजनक रहेगी, और संक्रमण नियंत्रण सभी मापकों पर उच्चतम रहेगा, तो दवा प्रतिरोधकता पर भी अंकुश लगेगा। स्वच्छता रहेगी और संक्रमण नियंत्रण उच्चतम रहेगा तो संक्रमण कम फैलेंगे और इसीलिए दवा का उपयोग काम होगा और दवा प्रतिरोधकता भी कम होगी।

 

शोभा शुक्ला और बॉबी रमाकांत

Leave a Reply

Your email address will not be published.