ब्रेकिंग न्यूज़ 

बिना एकीकृत स्वास्थ्य के महामारियां चुनौती देती रहेंगी

बिना एकीकृत स्वास्थ्य के महामारियां चुनौती देती रहेंगी

कोविड महामारी ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अर्थ-व्यवस्था और विकास के सभी संकेतकों के लिए सबकी-स्वास्थ्य-सुरक्षा कितनी जरूरी है। वैज्ञानिक रूप से तो यह पहले से ही ज्ञात था कि एकीकृत स्वास्थ्य कितना अहम है। मानव स्वास्थ्य, पशु स्वास्थ्य, कृषि और पर्यावरण में सम्बंध भी गहरा रहा है जिसका एक प्रमाण है बढ़ती हुई दवा प्रतिरोधकता। मानव स्वास्थ्य, पशु पालन, कृषि में गैर-जिम्मेदारी और अनुचित ढंग से इस्तेमाल हो रही दवाएं (खासकर कि एंटी-बायआटिक, एंटी-वाइरल, एंटी-फंगल और एंटी-पैरासिटिक दवाएं) पर्यावरण में भी जहर घोल रही हैं जिसके कारणवश रोग उत्पन्न करने वाले कीटाणु रोग-प्रतिरोधक हो जाते हैं और सामान्य रोग भी लाइलाज हो सकते हैं।

इसीलिए पिछले अनेक सालों से यह समझ विकसित हुई है कि मात्र रोग नियंत्रण से रोग नियंत्रित नहीं होगा। उदाहरण के तौर पर, टुबर्क्युलोसिस या टीबी का खतरा अनेक कारणों से बढ़ता है जैसे कि कुपोषण। जब तक कुपोषण और टीबी का ख़तरा बढ़ाने वाले सभी कारण नहीं मिटेंगे, और रोग की जांच, इलाज और देखभाल सब तक नहीं पहुंचेगी तब तक टीबी उन्मूलन कैसे होगा? टीबी नियंत्रण के समक्ष, दवा प्रतिरोधकता भी एक भीषण चुनौती बनी हुई है। अन्य रोग जैसे कि मधुमेह, एचआईवी संक्रमण, आदि जो टीबी का खतरा बढ़ाते हैं, उनको टीबी नियंत्रण में नजरअन्दाज नहीं किया जा सकता। टीबी पशुओं को भी हो जाती है। लोग अस्पताल जा सकें, बिना विलम्ब अपना इलाज करवा सकें, आदि, के लिए एकीकृत स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा अत्यंत अहम है।

कोरोना वाइरस मूल रूप से एक प्रकार के चमगादड़ से आया है पर यह नहीं ज्ञात है कि मनुष्य को संक्रमण कहां से आया है। वल्र्ड ऑर्गनिजेशन फोर ऐनिमल हेल्थ (पशु स्वास्थ्य की वैश्विक संस्था) के डॉ रोनेलो अबिला ने कहा कि मनुष्य में होने वाली 60 प्रतिशत संक्रामक रोग मूल रूप से पशुओं से आए हैं (और इनमें से 72प्रतिशत जंगली जीव जंतु से आए हैं)। मनुष्य और पशुओं के मध्य सम्पर्क रहा है और अक्सर एक दूसरे पर निर्भर हैं, इसीलिए यह जरूरी है कि मानव स्वास्थ्य सुरक्षा में पशु स्वास्थ्य के पहलू पर ध्यान दिया जाए। चूंकि पर्यावरण से पशु और मानव दोनों जुड़ें हैं इसलिए इस दृष्टिकोण को भी नजरंदाज न किया जाए।

यदि भविष्य में होने वाली महामारियों का खतरा कम करना है और ऐसी चुनौती के लिए बेहतर तैयार रहना है तो स्वास्थ्य सुरक्षा को विकास और सामाजिक सुरक्षा और पर्यावरण से जोड़ कर समझना होगा। सबके लिए एकीकृत स्वास्थ्य और विकास सुरक्षा के सपने को सच करना होगा।

यदि मनुष्य जल-जंगल-जमीन पर विध्वंसकारी गतिविधियां जारी रखेगा, जलवायु परिवर्तन को और बढ़ाएगा या दवाओं का लापरवाही से दुरुपयोग करेगा तो मानव स्वास्थ्य सुरक्षा कैसे मिलेगी?

मानव स्वास्थ्य सुरक्षा चाहिए तो प्रदूषण, वनों की कटाई, पशु पालन में अनुचित और गैर-जिम्मेदाराना दवाओं का उपयोग, और हम कैसे भोजन उगाते, बांटते और ग्रहण करते हैं, पर भी ध्यान देना होगा क्योंकि हम सबका स्वास्थ्य इन पर भी निर्भर है।

कोरोना वाइरस, मानव स्वास्थ्य, पशु स्वास्थ्य

कोविड महामारी ने एक सीख तो पुन: दी है कि पशुओं में होने वाले रोग भविष्य में भी इंसानों में फैल सकते हैं। कोविड, जीका, ईबोला, आदि रोगों के बाद यदि अब भी सरकारों ने एकीकृत स्वास्थ्य पर कार्य नहीं किया तो यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण रहेगा। मानव स्वास्थ्य के साथ-साथ पशु स्वास्थ्य, कृषि और पर्यावरण के साथ तालमेल में कार्यसाधकता के साथ कार्य करना होगा।

इंडोनेशिया के स्वास्थ्य मंत्रालय के पूर्व निदेशक और विश्व स्वास्थ्य संगठन के पूर्व अधिकारी डॉ. तीजांदरा योगा आदितमा ने कहा कि 29 देशों में 400 से अधिक विभिन्न प्रकार के पशु कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इनमें बिल्ली, कुत्ते, शेर, बब्बर शेर, गोरिल्ला, हिरन, मिंक, आदि शामिल हैं। संभवत: इन पशुओं को कोरोना संक्रमण, संक्रमित मनुष्य से हुआ होगा जो इनके सम्पर्क में आया हो या इनकी देखरेख में रहा हो, परंतु यह अभी नहीं पता है कि इन कोरोना संक्रमित पशुओं से क्या इंसान संक्रमित हो सकते हैं?

डॉ रोनेलो अबिला ने कहा कि कोरोना वाइरस मूल रूप से तो एक प्रकार के चमगादड़ से आया पर यह वैज्ञानिक रूप से ज्ञात नहीं है कि मनुष्य को कोरोना संक्रमण किस तरह हुआ और किस जीव से आया। 2003 में एक प्रकार का कोरोना वाइरस जिससे ‘सार्स’ महामारी हुई थी, वह संक्रमण, सिवेट चमगादड़ से मनुष्य में आया था।

यह प्रक्रिया बढ़ती गयी और आखिरकार, मानव स्वास्थ्य पर केंद्रित संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य संस्था-विश्व स्वास्थ्य संगठन, पशु स्वास्थ्य पर केंद्रित-वल्र्ड ऑर्गनिजेशन फोर ऐनिमल हेल्थ, और खाद्य और कृषि पर केंद्रित संयुक्त राष्ट्र की संस्था-फूड एंड ऐग्रिकल्चर ऑर्गनिजेशन, तीनों ने एकीकृत स्वास्थ्य पर कार्य करने के लिए एक साझा मंच बनाया-जिसकी औपचारिकता मई 2018 में और गहराई। नवम्बर 2020 में इस साझा मंच से संयुक्त राष्ट्र की पर्यावरण संस्था-यूनाइटेड नेशंस इन्वायरॉन्मेंट प्रोग्राम-भी जुड़ गयी।

कोविड महामारी के नौ साल पहले, नवम्बर 2011 में, मेक्सिको में सम्पन्न हुई एक उच्च स्तरीय बैठक में उपरोक्त संस्थाओं के विशेषज्ञों ने निर्णय लिया था कि एकीकृत स्वास्थ्य की अवधारणा को जमीन पर उतारने के लिए, तीन मुद्दों पर कार्य किया जाए। यह तीन मुद्दे थे: रेबीज, दवा प्रतिरोधकता (एंटी-मायक्रोबीयल रेजिस्टन्स), और बर्ड फ्लू।

इसके बाद, डॉ रोनेलो और अन्य लोगों ने स्वास्थ्य, कृषि और पर्यावरण मंत्रालय के साथ कार्य शुरू किया कि वह एकजुट हो कर एकीकृत स्वास्थ्य (मानव स्वास्थ्य, पशु स्वास्थ्य और पर्यावरण) पर विचार करें और साझा काम शुरू करें जिससे कि रेबीज, दवा प्रतिरोधकता और बर्ड फ्लू पर अंकुश लगे।

दवाओं का अनुचित और गैर-जिम्मेदाराना उपयोग सिर्फ मानव स्वास्थ्य तक ही नहीं सीमित है बल्कि पशुपालन और कृषि में भी इसका अत्याधिक दुरुपयोग है जिसके कारणवश आज बढ़ती हुई दवा प्रतिरोधकता एक भीषण चुनौती प्रस्तुत कर रही है। यदि दवा प्रतिरोधकता पर अंकुश नहीं लगा तो यह ख़तरा बढ़ता जा रहा है कि हम लोग 1920 के दशक के युग में फिसल जाएं जब अधिकांश लोग संक्रामक रोगों से मृत होते थे क्योंकि एंटीबाइयोटिक दवाओं थी ही नहीं। दवा प्रतिरोधकता के कारण, आम संक्रमण जिनका पक्का इलाज सम्भव है, वह लाइलाज हो जाते हैं और मृत्यु तक हो सकती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के वैश्विक दवा प्रतिरोधकता नियंत्रण विभाग के निदेशक डॉ हेलिसस गेटाहुन ने सिटिजन न्यूज सर्विस (सीएनएस) से कहा कि दवा प्रतिरोधकता एक मानव जनित समस्या है क्योंकि दवाओं का अनुचित और गैर-जिम्मेदाराना उपयोग, मानव ने ही, मानव स्वास्थ्य, पशुपालन और कृषि में किया है। यदि हम दवाओं का उचित और ज़िम्मेदारी से उपयोग करेंगे तो दवा प्रतिरोधकता कम होगी और उससे होने वाले नुकसान पर भी अंकुश लगेगा।

चीन की एक पुरानी कहावत है कि ‘पेड़ लगाने का सबसे सर्वोत्तम समय 20 साल पहले था। दूसरा मौका आज है’। सबके एकीकृत स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा को अब नजरअन्दाज करना बहुत महंगा पड़ सकता है और सभी सरकारों को सतत विकास लक्ष्य पर भी असफल करेगा।

 

शोभा शुक्ला और बॉबी रमाकांत

Leave a Reply

Your email address will not be published.