ब्रेकिंग न्यूज़ 

अब नुपुर शर्मा के समर्थन में भी उमड़ रहा जनसैलाब

अब नुपुर शर्मा के समर्थन में भी उमड़ रहा जनसैलाब

नई दिल्ली: पूरी दुनिया के कट्टरपंथी जहां भाजपा से निष्कासित नेता नुपुर शर्मा के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं अब उनके समर्थन में भी लोग एकजुट होने लगे हैं। नुपुर के समर्थन में देश के कई हिस्सों में लोगों का प्रदर्शन शुरु हो चुका है।

नुपुर के समर्थन में हजारों फोन कॉल

दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी(BJP) के कार्यालय में नुपुर शर्मा(Nupur Sharma) के समर्थन में लगातार फोन आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि नुपुर को पार्टी में वापस लेने की मांग करते हुए हर रोज तीन से चार हजार फोन आ रहे हैं। जिसकी वजह से भाजपा कार्यालय की फोन लाइनें ठप हो गई हैं।

देश ही नहीं बल्कि विदेश से भी लोग नुपुर को भाजपा से निकालने की आलोचना कर रहे हैं और उनके समर्थन में फोन कर रहे हैं।

बिहार में लगे पोस्टर

बिहार के गोपालगंज(Gopalganj Bihar) में रविवार की रात अज्ञात लोगों ने नूपुर शर्मा के समर्थन में पूरे शहर में पोस्टर चिपका दिए। जिसपर लिखा है ‘I Support Nupur Sharma’।

नुपुर की फोटो के साथ ये मैसेज शहर के कोने कोने में चिपका दिया गया है। पुलिस ये पता नहीं लगा पाई है कि इसके पीछे किसका हाथ है।

गुजरात में रैली

गुजरात के अहमदाबाद(Ahmedabad Gujrat) में नुपुर शर्मा के समर्थन में रैली निकाली गई। शनिवार को सैकड़ों लोग सरखेज गांधीनगर राजमार्ग पर नुपुर के समर्थन में इकट्ठा हुए। ये सभी लोग “हिंदू एकता” के समर्थन में एक रैली निकाल रहे थे।

हालांकि पुलिस ने उन्हें रोक दिया। क्योंकि प्रदर्शनकारियों के पास रैली निकालने की इजाजत नहीं थी। इन लोगों की पुलिस से झड़प भी हुई।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जाट संगठन ने किया समर्थन

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सामाजिक संगठन जाट एसोसिएशन ने नुपुर शर्मा की टिप्पणी को सही ठहराया है। जाट असोसिएशन ने बयान जारी करके कहा है कि नुपुर ने जो भी बयान दिया, वह महादेव के अपमान के बदले में था। उन्हें पार्टी से निकालना बिल्कुल गलत है। विरोधियों का उद्देश्य उनकी आड़ में दहशत फैलाना और अपना संख्या बल दिखाना है। जिसको दिखाने से कुछ हासिल नहीं होने वाला। संगठन के हजारों कार्यकर्ता पूर्ण रूप से नुपुर शर्मा के साथ हैं। इसको लेकर जगह-जगह-छोटी छोटी नुक्कड़ सभाएं की जा रही हैं। इंटरनेट मीडिया के माध्यम से भी अभियान चलाया जा रहा है।अब तक हाथरस के मुरसान, सादाबाद, आगरा के मलपुरा में सभाएं की जा चुकी हैं। संगठन की इस मुहिम को सर्व समाज सहयोग मिल रहा है। इस मामले को लेकर विभिन्न जिलों के जाटों से संपर्क साधा जा रहा है। अब परिस्थिति चाहे जैसी भी हो, संगठन नुपुर शर्मा के साथ बना रहेगा।

भदोही में नुपुर के समर्थन में जुलूस

उत्तर प्रदेश में भदोही जिले के गोपीगंज थाना इलाके में नूपुर शर्मा के समर्थन में शनिवार देर शाम लोगों ने जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया. हालांकि पूरे उत्तर प्रदेश में धरना प्रदर्शन पर रोक लगी हुई है और धारा 144 लगा दी गई है। इसलिए पुलिस ने इस मामले में धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में केस दर्ज कर लिया है.

लेकिन पुलिस की मनाही के बावजूद हिंदू संगठन से जुड़े लोगों ने जुलूस निकाला और कहा कि भाजपा ने संकट के समय अपनी राष्ट्रीय प्रवक्ता का साथ नहीं दिया, लेकिन पूरा हिंदू समाज नूपुर शर्मा के साथ है.

लुधियाना में हुई महारैली

लुधियाना के फोकल प्वाइंट फेस सात के अंतर्गत उत्तम नगर में शिव गणेश शक्ति मंदिर की ओर से हिन्दू संगठन के लोगों ने नुपुर शर्मा के समर्थन में रैली आयोजित की। जिसमें कई राजनीतिक पार्टियों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पैदल मार्च किया।

यह रैली फोकल प्वाइंट उत्तम नगर से शुरू होकर जमालपुर विश्वनाथ मंदिर होते हुए चंडीगढ़ रोड, मोती नगर, शेरपुर मुस्लिम कालोनी, ग्यासपुर चौक, रेलवे लाइन, भार्गो रोड, ढंडारी खुर्द शनिवार मंडी में आकर संपन्न हुई।

वृंदावन में पढ़ी गई हनुमान चालीसा

कृष्ण नगरी में हिंदूवादी संगठन धर्म रक्षा संघ ने नुपुर शर्मा के समर्थन में सामूहिक हनुमान चालीसा का पाठ किया। वृंदावन के सिंहपौर हनुमान मंदिर में आयोजित इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग उपस्थित हुए। हनुमान चालीसा के पाठ के जरिए हिंदूवादियों ने नुपुर शर्मा का समर्थन करने की बात कही।

ये तो देश के आम लोग नुपुर शर्मा का अपने तरीके समर्थन कर रहे हैं। लेकिन इसके अलावा राज्यपाल तथागत रॉय, बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत, तारिक फतेह, परमहंस आचार्य जैसे कई लोग निजी तौर पर नुपुर के समर्थन में बयान दे चुके हैं।

– बाराबंकी जिले में अयोध्या तपस्वी छावनी के परमहंस आचार्य ने नूपुर शर्मा का समर्थन किया। उन्होंने नूपुर शर्मा को देश की बेटी बताते हुए कहा कि अगर देश की बेटी ने कुछ कह दिया और वह बात अगर किसी को गलत लगी है तो वह क्षमा मांग चुकी है। वह बात वहीं से खत्म हो जानी चाहिए.

– त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत रॉय ने भी बयान दिया है कि नुपुर शर्मा के निलंबन से वो बहुत दुखी हैं। मैं नूपुर शर्मा के साथ हुए व्यवहार से बहुत दुखी हूं, मैं बीजेपी को इसलिए समर्थन देता हूं क्योंकि यह विचारधारा धर्म, राजनीति और नेतृत्व के मामले में मेरी सोच के सबसे करीब है।

– ‘द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म के निर्देशक विवेक अग्निहोत्री (Vivek Agnihotri) ने नुपुर के पुतले को फांसी देने की फोटो ट्विट करते हुए लिखा है कि ‘माफ करना सभी मित्रों, लेकिन मैं यह कहना चाहूंगा कि यह कोई ईरान, इराक और सीरिया नहीं है। ये वर्तमान भारत है, ये आज का पुतला है। इस तरह के प्रदर्शनकारियों को अगर तुरंत सजा नहीं दी गई तो हकीकत में भी लोगों की इस तरह फांसी के फंदे पर लटका दिया जाएगा।’

– दादरी में में गो रक्षा हिंदू दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष वेद नागर ने भी नुपुर शर्मा का समर्थन किया है। जिसके लिए उन्हें फोन पर जान से मारने की धमकी दी गई है। जिसके खिलाफ उन्होंने बादलपुर कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।

– नीदरलैंड्स (Netherlands) के विपक्षी नेता (Opposition Leader) गीर्ट विल्डर्स (Geert Wilders) ने कहा है कि नूपुर ने ऐसा कुछ नहीं कहा जिसके लिए उन्हें जान से मारने की धमकी दी जाए या भारत (India) पर माफी मांगने का दबाव बनाया जाए। डच संसद (Dutch Parliament) में 17 सांसदों वाली विपक्षी पार्टी के मुखिया विल्डर्स ने कहा कहा कि नूपुर शर्मा ने पैगम्बर मोहम्मद पर जो कहा वो सत्य पर आधारित है। इसके लिए उन्हें जान से मारने की धमकी दी जाए या उन्हें अपनी पार्टी की कार्रवाई झेलनी पड़े या इसके लिए भारत पर माफी मांगने का दबाव बनाया जाए यह गलत है।

– पाकिस्तान के पत्रकार तहा सिद्दीकी ने भी नुपुर के बयान का समर्थन किया है। उन्होंने तो मुस्लिम नेताओं से अपील तक की है कि अगर पैगंबर मोहम्मद और आयशा की शादी से जुड़ी हदीस सच नहीं है तो उसे हटा दिया जाना चाहिए।


सिद्दिकी ने ट्वीट किया, ‘9 साल की उम्र में आयशा के मोहम्मद से शादी करने को लेकर ‘सत्यापित’ हदीसों का जिक्र करने के लिए मुस्लिम नेताओं को बीजेपी और नुपुर शर्मा पर हमला करने के बजाय, अगर यह सच नहीं है तो, साथ मिलकर इसे बुखारी से मिटा देना चाहिए ताकि कोई भी पैगंबर मोहम्मद पर बाल विवाह का आरोप या मजाक न उड़ा सके।’

– पाकिस्तानी मूल के कनाडाई लेखक तारिक फतेह ने भी नूपुर शर्मा का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि नुपुर ने तो वही कहा है जो इस्लामिक किताबों में लिखा हुआ है। उन्होंने कहा कि नुपुर शर्मा ने जो बातें टीवी पर कीं, उसे उन्होंने सुना तो नहीं लेकिन उसके बारे में जो कुछ पढ़ा वह तो इस्लामी टेक्स्ट में लिखा हुआ है। शर्मा ने तो अपना बयान वापस भी ले लिया है। तब फिर इतना हंगामा क्यों किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.