ब्रेकिंग न्यूज़ 

महाराष्ट्र में भाजपा ने शुरु की सरकार बनाने की कवायद, फणनवीस ने देर रात की राज्यपाल से मुलाकात

महाराष्ट्र में भाजपा ने शुरु की सरकार बनाने की कवायद, फणनवीस ने देर रात की राज्यपाल से मुलाकात

नई दिल्ली: मंगलवार को देर रात भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। उन्होंने राज्यपाल को सूचित किया कि महाराष्ट्र सरकार अल्पमत में आ गई है। इसलिए विधानसभा में बहुमत की जांच होनी चाहिए।

इसके पहले मंगलवार की दोपहर फडणवीस दिल्ली का चक्कर लगा चुके ते। उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को अपने अगले कदम के बारे में सूचित कर दिया था। भारतीय जनता पार्टी ने महाराष्ट्र के अपने सभी विधायकों को आदेश दिया है कि वो बुधवार यानी 29 जून की शाम तक मुंबई इकट्ठा हो जाएं।

दिल्ली का चक्कर लगाने के बाद फडणवीस शाम को मुंबई पहुंच गए और विधायकों को लेकर राज्यपाल से मुलाकात करने चले गए। राजभवन से बाहर आने के बाद फणनवीस ने बयान दिया कि ‘उद्धव ठाकरे की सरकार अल्पमत में आ चुकी है। उन्हें बहुमत साबित करने की जरुरत है।’

फाइल फोटो

कुछ ऐसा है एक्शन प्लान

खबर आ रही है कि शिवसेना के बागी विधायक और भारतीय जनता पार्टी मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बना सकते हैं। इसके लिए एक खास फॉर्मूले पर काम चल रहा है। जिसकी शर्तें कुछ इस प्रकार हैं-

– देवेन्द्र फडणवीस को मुख्यमंत्री और एकनाथ शिंदे को उप-मुख्यमंत्री का पद मिल सकता है

– शिंदे गुट के 40 बागी शिवसेना विधायकों में से 6 कैबिनेट और 5 राज्यमंत्री बनाए जा सकते हैं

– कैबिनेट मंत्री पद के लिए फिलहाल गुलाबराव पाटील, शंभूराज देशाई, संजय शिरसाट, दीपक केसरकर और उदय सामंत का नाम सामने आ रहा है

– उद्धव ठाकरे द्वारा शिंदे गुट के बर्खास्त किए गए मंत्रियों को उनका पुराना मंत्रालय बहाल किया जा सकता है

नई सरकार के लिए रणनीति तैयार

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए देवेन्द्र फडणवीस मंगलवार यानी 28 जून को दोपहर में दिल्ली पहुंचे थे। उनकी गृहमंत्री अमित शाह से चर्चा हो चुकी है। भाजपा अध्यक्ष जे.पी.नड्डा समेत वरिष्ठ नेताओं को भी महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद की जानकारी दी जा चुकी है।

उधर एकनाथ शिंदे भी अपने गुट के विधायकों के साथ बैठक करके उन्हें पूरी योजना समझा चुके हैं।  मंगलवार को एकनाथ शिंदे काफी समय के बाद मीडिया के सामने आए। वो बेहद शांत दिख रहे थे, जैसे किसी बड़े फैसले पर पहुंच चुके हों। शिंदे का दावा है कि शिवसेना के 55 में से 48 विधायक उनके साथ आ चुके हैं। ऐसे में उनके गुट को ही असली शिवसेना माना जाना चाहिए।

फाइल फोटो

शिंदे का साफ कहना है कि वो अलग से किसी पार्टी का गठन नहीं कर रहे हैं। बल्कि उनका गुट ही असली शिवसेना है। शिंदे ने दिल्ली रवाना होने से पहले विधायक दीपक केसरकर को अपना प्रवक्ता नियुक्त किया है। जो कि उनके गुट की आगे की रणनीति के बाहरे में जानकारी देंगे।

ये भी पढ़िए- असली शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की तैयारी में भारतीय जनता पार्टी

Leave a Reply

Your email address will not be published.