ब्रेकिंग न्यूज़ 

बिहार में आतंकियों का फैला जाल, जांच में हर रोज नए खुलासे

बिहार में आतंकियों का फैला जाल, जांच में हर रोज नए खुलासे

पटना: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले दिनों बिहार की राजधानी पटना का दौरा किया। इस दौरान जांच एजेंसियों को प्रधानमंत्री के दौरे के बीच दंगा कराने की साजिश के बारे में पता चला। पुलिस ने शक के आधार पर कुछ लोगों को गिरफ्तार किया। जिनसे पूछताछ में पूरे बिहार में फैले आतंकवाद के मॉड्यूल का खुलासा हुआ है।

मोतिहारी में छापा

पटना के फुलवारीशरीफ में हुई गिरफ्तारियों के बाद आतंकवाद के तार बिहार में दूर दूर तक फैला दिखाई दे रहा है। मंगलवार को बिहार पुलिस ने मोतिहारी के ढाका और रामगढ़ के पलनवा में छापेमारी की। जिसमें ढाका के जामा मारिया मिशवा मदरसे के मौलवी असगर अली को गिरफ्तार किया गया है। असगर को पकड़ने के लिए एनआईए और आईबी की टीम एक साथ पहुंची थी। पुलिसवालों के पास मौलाना असगर अली की तस्वीर मौजूद थी।

असगर के बारे में फुलवारीशरीफ में गिरफ्तार किए गए पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के अतहर परवेज और अरमान मलिक ने जानकारी दी थी। जिन दोनों से पूछताछ से पूरे आतंकी नेटवर्क के बारे में खुलासा हो रहा है।

गज़वा ए हिंद की योजना

बिहार के आतंकवादी एक संगठित माफिया समूह की तर्ज पर काम कर रहे थे। उनका उद्देश्य गजवा ए हिंद यानी भारत में इस्लामी साम्राज्य की स्थापना करना था। पटना पुलिस ने पिछले दिनों फुलवारी शरीफ से जिस शख्स मार्गूब उर्फ ताहिर को गिरफ्तार किया था। वह ‘गजवा-ए-हिंद’ नामक व्हाट्सएप और फेसबुक ग्रुप चलाता था। वह पाकिस्तान और बांग्लादेश के कट्टरपंथियों के संपर्क में था। वह उन सभी से हर रोज कोडवर्ड में बातचीत करता था।

ताहिर की गर्लफ्रेंड अलीसा की तलाश

पुलिस को ताहिर की गर्लफ्रेंड अलीसा की जोर शोर से तलाश है। हालांकि उसके बारे में कोई जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है। वह अभी तक फरार है। उसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है। ऐसी आशंका है कि अलीसा किसी छिपे हुए स्थान पर है और बड़ी साजिश को अंजाम देने की तैयारी कर रही है। फिलहाल जांच टीम मारगूब उर्फ ताहिर को रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है।

पूरे बिहार में फैला है नेटवर्क

फुलवारीशरीफ से गिरफ्तार किए गए परवेज और अरमान मलिक से पूछताछ में कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। इन शातिर आतंकियों ने पहले तो जांच अधिकारियों को गुमराह करने की कोशिश की। लेकिन सख्ती से पूछताछ करने पर वह लोग टिक नहीं पाए और बताया कि पूरे बिहार में उन्होंने अपना नेटवर्क बना लिया है। पटना, पूर्णिया, मोतिहारी, किशनगंज और अन्य जगहों पर पीएफआई शाखाओं में युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाता था। जिसके लिए प्रशिक्षक भी बाहर से बुलाए जाते थे।

पूर्णिया में बनाना चाहते थे आतंकी अड्डा

अतहर ने पूछताछ में जानकारी दी है कि कट्टरपंथी लोग पूर्णिया में पीएफआई का मुख्यालय बनाना चाहते थे। इसके लिए पूर्णिया में एक मकान को 40 हजार रुपए किराए पर लिया गया था।
बिहार में आतंकी मॉड्यूल के मामले में 26 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। जिसमें से अब तक 8 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। इनके नाम परवेज, मोहम्मद जलालुद्दीन, अरमान मलिक, मरगूब उर्फ ताहिर, नूरुद्दीन जंगी, शब्बीर मलिक, शमीम अख्तर और ताहिर अहमद हैं।

बिहार के भाजपा नेताओं पर निशाना

आतंकियों के निशाने पर बिहार भाजपा के कई बड़े नेता थे। इस बारे में आईबी ने अपनी रिपोर्ट जारी की है। बिहार के नेताओं में से केंद्रीय मंत्री गिरीराज सिंह, प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे, सांसद विवेक ठाकुर पर आतंकी हमले का खतरा मंडरा रहा है।

इसके अलावा गिरफ्तार आतंकवादी अतहर परवेज के मोबाइल में नूपुर शर्मा का नंबर मिला है। अतहर परवेज को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ की थी। उसके मोबाइल में नूपुर शर्मा के नंबर का अलावा घर और ऑफिस समेत सभी ठिकानों की पूरी जानकारी मौजूद थी।

ये भी पढ़ें- देश भर में आतंकियों का नेटवर्क खड़ा करना चाहते थे कन्हैयालाल के हत्यारे

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.