ब्रेकिंग न्यूज़ 

ममता के करीबी मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी गिरफ्तार, तस्वीरों में देखें पूरा मामला

ममता के करीबी मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी गिरफ्तार, तस्वीरों में देखें पूरा मामला

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी वाणिज्य मंत्री पार्थो चटर्जी की बेहद नजदीकी अर्पिता मुखर्जी के घर से नोटों का ढेर बरामद हुआ है। शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने शिक्षक भर्ती घोटाले के आरोप में 13 जगह पर छापेमारी की थी। जिसमें से अर्पिता के घर से इतने नोट मिले कि उन्हें गिनने के लिए मशीन लगानी पड़ी। आईए आपको बताते हैं कि कौन हैं अर्पिता मुखर्जी-

अर्पिता मुखर्जी कथित रुप से ममता बनर्जी के मंत्री पार्थो चटर्जी की सलाहकार हैं। उनके घर पड़े छापे में कैश के अलावा 20 मोबाइल फोन भी बरामद हुए हैं। जिसे केन्द्रीय जांच अधिकारियों ने जब्त कर लिया है। इन सभी फोन की जांच से शिक्षक भर्ती घोटाले की परतें खुलने की उम्मीद है।

मंत्री पार्थो चटर्जी की बेहद करीबी अर्पिता मुखर्जी के घर से कैश के अलावा सोना, विदेशी मुद्रा, जमीन के दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। जांच एजेन्सी को आशंका है कि इन सभी बरामद संपत्तियों को शिक्षक भर्ती घोटाले के जरिए तैयार किया गया था।

पार्थो चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी एक दोयम दर्जे की अभिनेत्री हैं। वह क्षेत्रीय भाषा की फिल्मों में काम कर चुकी हैं। लेकिन उन्हें कभी लीड रोल नहीं मिला।

अर्पिता मुखर्जी ने बांग्ला के अलावा तमिल और ओडिया फिल्मों में भी अपनी किस्मत आजमाई थी। लेकिन उन्हें अपेक्षित सफलता नहीं मिली। जिसके बाद वह तृणमूल कांग्रेस के साथ जुड़ गईं। 

अर्पिता मुखर्जी ने अपने फिल्मी कॅरियर में ज्यादातर साइड रोल ही किए हैं। उन्हें मुख्य भूमिका कभी नहीं मिल पाई।  अर्पिता बांग्ला फिल्मों के सुपरस्टार प्रोसेनजीत और जीत के साथ काम कर चुकी है। इसके अलावा अर्पिता मुखर्जी ने बांग्ला फिल्म अमर अंतरनाड में भी अभिनय किया था।

अपने असफल फिल्मी करियर के बावजूद अर्पिता एक बेहद शानदार जिंदगी बिताती हैं। लग्जरी लाइफ जीने वाली एक्ट्रेस अर्पिता का तालीगंज और बेहला इलाके में बहुत बड़े फ्लैट मौजूद हैं।

अर्पिता मुखर्जी पिछले कई सालों के कोलकाता के पॉश इलाके साउथ कोलकाता के एक आलीशान फ्लैट में रहती हैं।

अर्पिता मुखर्जी अक्सर ममता बनर्जी के विश्वासी मंत्री पार्थो चटर्जी के साथ राजनीतिक कार्यक्रमों में देखी जाती हैं। अर्पिता ने पार्थो के चुनाव प्रचार में भी बेहद सक्रिय भागीदारी की थी।

पार्थो चटर्जी के साथ अर्पिता मुखर्जी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ मुलाकात भी की है। इस मुलाकात के दौरान ममता ने अर्पिता की तारीफ भी की थी और उन्हें अच्छे कामों के लिए बधाई भी दी। हालांकि अभी तक यह खुलासा नहीं हो पाया है कि अर्पिता ने कौन से अच्छे काम किए थे, जिसके लिए ममता ने उन्हें बधाई दी।

पश्चिम बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाला जब हुआ था, तब पार्थो चटर्जी बंगाल के शिक्षा मंत्री थे। जिनके खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय जांच कर रहा था। इस जांच में अर्पिता मुखर्जी का पार्थो चटर्जी के साथ कनेक्शन सामने आया। जिसके बाद अर्पिता केन्द्रीय एजेन्सियों के निशाने पर आई।

केन्द्रीय एजेन्सियों का मानना है कि पार्थो चटर्जी ने अर्पिता के जरिए घोटाले का पैसा ठिकाने लगाने की कोशिश की। अर्पिता के घर से मिले प्रॉपर्टी के कागजात, मोबाइल फोन वगैरह की बारीकी से जांच चल रही है।

पार्थो चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी दुर्गा पूजा समिति की वजह से एक दूसरे के करीब आए। पार्थ चटर्जी दक्षिण कोलकाता में लोकप्रिय दुर्गा पूजा समिति नकटला उदयन का संचालन करते हैं, जो कोलकाता की सबसे बड़ी पूजा समितियों में से एक है। इस पूजा समिति के साथ अर्पिता भी जुड़ी हुई थीं।

अर्पिता मुखर्जी नकटला दुर्गा पूजा समिति का लोकप्रिय चेहरा रही हैं। पूजा समिति के पोस्टरों पर उनका चेहरा प्रमुखता से छपता था।

अर्पिता मुखर्जी 2019 और 2020 में पार्थ चटर्जी के दुर्गा पूजा समारोह का चेहरा भी रह चुकी हैं।अर्पिता उस नकटला पूजा पंडाल की देखभाल करती थीं। पोस्टरों में भी उनके ही फोटो रहते थे।

पूजा कमिटी से शुरु हुई पार्थो और अर्पिता की जान पहचान राजनीतिक कार्यक्रमों तक पहुंची। जल्दी ही अर्पिता मुखर्जी ने पार्थो चटर्जी का विश्वास जीत लिया।

अर्पिता मुखर्जी के घर से कैश बरामद होने के बाद ईडी ने उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी से करीब 26 घंटे तक पूछताछ की थी, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। अर्पिता भी हिरासत में ले ली गई हैं। दोनों से ईडी के अधिकारी लगातार पूछताछ कर रहे हैं।

अर्पिता के घर से बरामद हुआ कैश का ढेर

पार्थो चटर्जी की नकटला पूजा समिति के पोस्टर पर अर्पिता मुखर्जी

 

ये भी पढ़ें- ममता के मंत्रियों पर छापेमारी का पूरा घटनाक्रम

Leave a Reply

Your email address will not be published.