ब्रेकिंग न्यूज़ 

कैंसर को भी दे सकते हैं मात

कैंसर को भी दे सकते हैं मात

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों का खान-पान इतना बिगड़ गया है, कि लोग जान-बुझ कर भी ऐसे खाने को अपनी दिनचर्या में शामिल करते हैं, जो सेहत के लिहाज से विकार उत्पन्न करने वाले होते हैं। हमारे बुजुर्गों ने बड़ी सोच-समझ के साथ खान-पान और दूसरी चीजों का चयन किया था। लेकिन, हमने अपनी विरासत को हल्के में लेकर अपने लिए ही मुसीबतों का पीटारा खोल लिया है। आज न जाने इंसान की जिंदगी में कितनी तरह की बीमारियां अपनी पैठ बना चुकी हैं। जिनसे निपटना बहुत मुश्किल होता जा रहा है।

आज भी हमारी परंपरागत रसोई में बहुत सी ऐसी चीजें उपलब्ध हैं, जिन्हें अगर हम सही तरीके से इस्तेमाल करना सीख जाए तो बहुत से रोगों को जड़ से निकाल कर फेंका जा सकता है। बस जरूरत है थोड़ी सी सजगता की। जानलेवा बीमारियां अक्सर दबे पांव आती हैं और जब तक इनका पता चलता है बहुत देर हो चुकी होती है। जब हमारी लड़ाई ऐसी ही बीमारी से हो तो हमारी तैयारी और भी ज्यादा दुरूस्त होनी चाहिए। अगर बात करें कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी की तो सेहत की नियमित जांच के साथ-साथ अपने आहार में कैंसर को कम करने वाले तत्वों को जरूर शामिल करना चाहिए जो हमारे लिए एक सुरक्षा कवच की तरह काम करते हैं।


जानिए कैंसररोधी खान-पान


01-08-2015हल्दी: कैंसर की बीमारी से लडऩे के लिए हल्दी सबसे अहम मानी जाती है। हल्दी में पॉलीफेनॉल करक्यूमिन होने के कारण यह उन कैंसर जीवाणुओं को बढऩे से रोकती है। जो प्रोस्टेट कैंसर, मेलेनोमा, स्तन कैंसर, मस्तिष्क कैंसर के लिए जिम्मेदार होते हैं। हल्दी जरूरी जीवाणुओं को बिना कोई नुकसान पहुंचाए कैंसर जीवाणुओं का खात्मा करने की ताकत रखती है।

01-08-2015

सौंफ: पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट से परिपूर्ण सौंफ कैंसर जीवाणुओं की रोकथाम में काफी असरदायक होती है। सौंफ का मुख्य तत्व ‘एनेथोल’ कैंसर जीवाणुओं को शरीर में पनपने और अक्रामक होने से रोकता है।

01-08-2015

केसर: केसर में मौजूद फोसेटिन एसिड ही इसका मूल तत्व है। यह न केवल बीमारी को बढऩे से रोकता है, बल्कि ट्यूमर के आकार को भी कम करके पूरी तरह खत्म करने में सक्षम है। हालांकि यह दुनिया का सबसे मंहगा मसाला है, लेकिन कई गुणों से युक्त इस मसाले को खरीद कर आपको पछताना नहीं पड़ेगा।

01-08-2015

जीरा: अक्सर हम खाने में जीरे का प्रयोग करते हैं या कच्चा ही चबा लेते हैं, क्योंकि यह पाचन में बहुत फायदा करता है, लेकिन इसके और भी कई फायदे हैं। एंटी-ऑक्सीडेंट की खूबियां लिए जीरे में थाईमोक्यूनोन नाम का एक तत्व होता है, जो प्रोस्टेट कैंसर पैदा करने वाले जीवाणुओं को शरीर में फैलने से रोकता है।

01-08-2015

दालचीनी: कैंसर का खतरा दूर करने के लिए दिन में आधा चम्मच दालचीनी का प्रयोग फायदेमंद है। आयरन और कैल्शियम से भरपूर इस मसाले में बढ़ते ट्यूमर को रोकने की ताकत है। कटे हुए सेब और अखरोट के साथ दालचीनी जादू की तरह काम करता है।

01-08-2015

अदरक: इसकी खूबियों से हम सभी वाकिफ हैं। यह कोलेस्ट्रॉल घटाने, मेटाबॉलिज्म बढ़ाने और कैंसर जीवाणुओं को खत्म करने में मददगार है। इसे रोजमर्रा के खाने में इस्तेमाल करने से कई बीमारियों से निजात मिल सकती है

01-08-2015

ग्रीन टी: इसमें एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण यह शरीर की अंदरूनी गंदगी को खत्म करती है। ग्रीन टी कैंसर के सेलों को पूरी तरह से खत्म करने में मददगार होती है। ग्रीन टी में केटेचिन होता है जो कैंसर के प्रभाव को शरीर में बढऩे से रोकता है।

01-08-2015

सोया: कैंसर से लडऩे में प्रभावशाली होता है। सोया में मौजूद गुण फाइटोन्यूट्रिएंट्स कैंसर के सेलों को बढऩे से रोकता हैं और उनसे लडऩे में सहायक होता है। यह ट्यूमर की रोकथाम करता है और उसके आकार को भी घटाता है। सोया में ओमेगा 3 पाया जाता है जो शरीर में पोषक तत्वों को पहुंचा कर कैंसर होने के शुरूआती लक्षणों को पहले ही रोक देता है। इसलिए खाने में सोया का प्रयोग अधिक से अधिक करना चाहिए।

01-08-2015

लहसुन: कैंसर के रोगी को लहसुन पीसकर पानी में घोलकर पिलाना रोगी के लिए फायदेमंद हो सकता है। इसलिए नियमित लहसुन पानी पीना हितकारी होता है।

01-08-2015

टमाटर: इसमें मौजूद प्रोटीन, शरीर में कैंसर के प्रभाव से होने वाले खतरों को कम करते हैं। इसलिए कैंसर रोगी को टमाटर का सूप पिलाना चाहिए।

01-08-2015

चुकंदर: कैंसर से बचने के लिए चुंकदर का आधा कप रस दिन में 2 से 3 बार पीने से कैंसर को शुरूआत में ही रोका जा सकता है। चुकंदर ब्लड कैंसर के प्रभाव से शरीर को बचाता है।

प्रीति ठाकुर

video languageПолиграф Ростов на Дону

Leave a Reply

Your email address will not be published.