ब्रेकिंग न्यूज़ 

पाक का भारत में विलय

पाक का भारत में विलय

पाकिस्तान की वर्तमान बाढ़ में अपने पाक देश की दुर्दशा देख, जिन्ना जन्नत की ७२ हूरों को छोड़ ,बापू के पास पहुँच गए और रोने लगे! बापू जो सदा से ही जिहादियों के  हृदय परिवर्तन की आस में स्वर्ग में भी चैन से न बैठ पाए थे, तुरंत घोषणा कर डाले , धर्मराज ने आज फिर एक मुस्लिम को सताया है, जब तक धर्मराज माफ़ी नहीं माँगते, मेरा आमरण  अनशन शुरू!“बापू आपके स्वर्ग में मनुष्य बिना खाना खाए ही ज़िंदा रहता है” मौलाना आज़ाद ने बापू को याद दिलाया!

तब मैं सत्याग्रह करूँगा! बापू बोले- “यह अंग्रेजों का राज नहीं है क़ि सत्याग्रह में आगा खान पैलेस जैसी जेल मिल जाए।

यहाँ तो वैसे ही सत्य का ही राज है नेहरू ने बताया  “तब  क्या जिन्ना के आँसू पोछने के लिए मैं कुछ नहीं कर सकता हूँ?” दुखी बापू ने पूछा! “ आप उसे पहले ही पाकिस्तान दे चुके हैं ! अब उसी से पूछ लीजिए वह क्यों दुखी है ?” पटेल ने कटाक्ष किया! दुखी बापू ने तुरंत जिन्ना के कंधे पर बड़े प्रेम से  हाथ रखा और बोले ,” मुझे दुःख है कि पटेल के कारण मैं तुम्हें पचास करोड़ नहीं दिला पाया, अब ७५ साल बीत गए हैं ,७२ हूरें भी बूढ़ी हो गयी , भूल जाओ जिन्ना ,जो मैं न दे सका वह  अमेरिकन ने दे दिया उससे कहीं ज़्यादा दे दिया!” जिन्ना ने रोते-रोते कहा ,” मैं पचास करोड़ के लिए नहीं रो रहा, उसके बदले में तो ISI ने हज़ारों करोड़  के जाली नोट छाप कर भारत को दे दिए हैं ! उन्हें रोकने के लिए आपके चेले दो दो नोट बंदी कर चुके पर रोक ही नहीं पा रहे “ अब बापू की आँखों में भी आँसू आ गए ,” तो नोट बंदी पाकिस्तान की वजह से हुई ,तुम्हें मालूम भी  है कि   नर्मदा रोको से लेकर कितने गांधी वादी आंदोलन ,नोट बंदी के चलते दम तोड़ गए “? जिन्ना ने अपना पुराना राग अपनाया ,” बापू हम शर्मिंदा हैं तेरे कातिल ज़िंदा हैं! बापू ने बताया ,” जिंदा ही नहीं है , यहाँ स्वर्ग में हैं “! “यह कैसे ही सकता है “ जिन्ना ने  पूछा,“ क्यों जन्नत सिर्फ़ जिहादियों के लिए ही है क्या “? बापू ने पूछा  जिन्ना ने सिर झुका लिया किंतु आँसू थे कि बहे जा रहे थे ! कुछ आँखें हैं जिनके आँसू बापू को कभी बर्दाश्त नहीं हुए ! तो बापू ने फिर पूछा ,तुम्हारी आँखों में आँसू क्यों आ रहे हैं जिन्ना ! “मेरी आँखों में आंसू आ रहे हैं पाकिस्तान बनाने के कारण , आपको मुझे कैसे भी  रोकना चाहिए था “ जिन्ना ने बापू को उलाहना दिया ? “ तुम कब सुन रहे थे, भूल गए अपने डायरेक्ट ऐक्शन का क़हर, ख़ैर अब आया  भी ऊँट पहाड़ के नीचे तो भी क्या फ़ायदा “ पटेल ने भड़ास निकाली।

बापू ने पटेल को घूरते हुए डाँटा, “ किसी के दुःख का मज़ाक़ नहीं उड़ाओ पटेल, जिन्ना तुम अपना दुःख  बताओ मैं सुन रहा हुँ ““ बापू  अगर मैने भारत का बँटवारा  न किया होता तो  दंगे न होते , अंग्रेजों को हिंदुस्तान की पूरी सम्पत्ति लौटानी पड़ती ,कोहिनूर वापिस आ जाता! हजारों मूर्तियाँ वापिस मिलती , और लाखों पाकिस्तान में टूटने से बचती! जिन्ना ने भारी गले से बोला!“ जो हुआ सो हुआ ,अब हम मर चुके हैं दुनिया के लिए ,भारत मुझे भूलना चाहता है ,पाकिस्तान तुझे “ बापू ने जिन्ना  को समझाया! “ वो तो  भूल सकते हैं किंतु मैं  कैसे भूल जाऊँ बापू “ मैं ज़िम्मेदार हुँ , मेरी महत्वाकाँक्षा का बुरा असर है यह! मैं भारत के साथ नहीं रहना चाहता था पर आज मेरा देश चीन के रहम पर है!”  हमने उन्हें जगह न दी होती तो १९६२ में  वह भारत में हमला न करता!” “उससे तुम्हारा फ़ायदा ही हुआ कमजोर हिंदुस्तान ही तो चाहते थे तुम “ नेहरू ने अपना आक्रोश निकाला! “ मेरा कोई फ़ायदा नहीं हुआ , आपके  बाद उसने एक बेल्ट  एक रोड के रास्ते हमारा इलाक़ा क़ब्ज़ा लिया है”  जिन्ना बोले “ इससे तो तुम्हें व्यापार मिलेगा , तुम्हारा इक्स्पोर्ट बढ़ेगा “ नेहरू ने समझाया, “ कुछ उगेगा तो ही तो इक्स्पोर्ट होगा “ इस बाढ़ ने सब बर्बाद कर दिया है!” जिन्ना बोले , “ जो  हुआ सो हुआ , अब आगे देखो , और हम तुम अब देख ही सकते हैं , वह भी श्राद्ध पक्ष में “बापू फिर बोले! “

वो आपको मिला वरदान  है कि साल में सिर्फ़ पंद्रह दिन का ही  दुःख  है! हमारे यहाँ कोई श्राद्ध वराद्ध नहीं होते! मैं पूरी रूहानी ज़िंदगी रो-रो-कर बिता रहा हुँ  अगर बँटवारा न होता तो चार युद्ध न होते ,हम पैटन टैंक और सेबर जेट में पैसे न लुटाते हम भी भारत की तरह विकसित होते! जिस अकाल में बेंगॉल में लाखों  लोग मरे उसी अकाल में पंजाब  में  एक आदमी न मरा , जबकि आज ज़रा सी बाढ़  में पाकिस्तान भूखा  है, सब्ज़ी नहीं  , दूध नहीं  है , दवा  नहीं   है ,अगर बँटवारा न होता तो आज सभी बैठकर मंदिर, गुरुद्वारे का लंगर खाते वहीं नमाज़ पढ़ते! आज पाकिस्तान में हर शै पर चीन का हक़ है ,तब हिंदुस्तान की हर शै पर पहला हक़ हमारा ही होता, मुझे क्या मालूम था कि मेरे अलग होते ही नेहरू और उसके गांधीवादी हिंदुस्तान को ही पाकिस्तान बना देंगे! कितने महफ़ूज़ है हम वहाँ! जिन्ना ने अफ़सोस से म कहा! “तुम अगर सोच रहे हो की भारत पाकिस्तान मिल जाएँ तो भूल कर रहे हो अब दोनो देश इतनी दूर आ गए हैं कि यह मुमकिन नहीं है! “पटेल ने ग़ुस्से से कहा। “मोदी है  तो मुमकिन  है” जिन्ना ने कहा, तभी पत्नी ने पानी के छींटे डालते हुए कहा ,”आधा लेख लिख कर सो गए हो ,प्रकाशक इंतज़ार कर रहे हैं ,न जाने क्या मुमकिन  मुमकिन चिल्ला रहे हो चुप-चाप सो भी नहीं सकते “मेरा सपना टूट गया और आप हैं कि अभी तक देखते जा रहे हैं!

राकेश कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published.