ब्रेकिंग न्यूज़ 

मोदी का विजयी गुजरात रथ

मोदी का विजयी गुजरात रथ

गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है। बीजेपी की इस बड़ी जीत के कई मायने है। बीजेपी की इस जीत से पीएम मोदी का कद भारतीय राजनीति में  और भी बड़ा हो गया है, सूबे में बीजेपी विजय हो गई है। बीजेपी इस जीत के साथ पश्चिम बंगाल में सीपीएम के 34 साल के रिकॉर्ड शासन के करीब पहुच गई है। गुजरात में 27 साल से सत्ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने इस बार जीत के सभी रिकॉर्ड तोड़ गिए हैं। 182 में से 156 सीटों पर भाजपा का डंका बजा है। वहीं कांग्रेस एक बार फिर खाली हाथ रही है और उसका हाल काफी बुरा हो गया कांग्रेस को 27.29 प्रतिशत और आप को 12.92 प्रतिशत वोट मिले हैं। इससे आप को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल गया है। गुजरात में सातवीं बार बीजेपी सरकार बनाने में कामयाब रही है तो वहीं आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के वोटबैंक में सेंध लगाकर उसे तगड़ा झटका दिया है। 1995 के बाद गुजरात में बीजेपी ने कोई भी विधानसभा चुनाव नहीं हारा है। वहीं पिछले चुनावों में कांग्रेस को 41 फीसदी से ज्यादा वोट मिले थे, जो इस बार 27 प्रतिशत पर आकर सिमट गए। गुजरात में इस साल 66.31 फीसदी मतदान दर्ज किया गया, जो 2017 के विधानसभा चुनावों में पड़े 71.28 प्रतिशत वोटों से कम था। हिमाचल में 76.44 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाले थे। 1962 में गुजरात राज्य के अस्तित्व में आने के बाद कोई भी राजनीतिक दल गुजरात में 150 सीटों का आंकड़ा छू नहीं पाया है। इसके अलावा बड़े-बड़े दावे करने वाली आम आदमी पार्टी (BJP) भी कमाल नहीं कर सकी और उसे 5 सीटें मिली हैं। कांग्रेस को सिर्फ 17 सीटों पर जीत मिली है। वोट परसेंटेज की बात करें तो बीजेपी को 52.5 प्रतिशत वोट मिले हैं। बीजेपी को पहली बार गुजरात में 50 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिले हैं।

 

ऐतिहासिक जीत की तरफ बीजेपी

बीजेपी ने गुजरात में अब तक सबसे बड़ी जीत हासिल की है। बीजेपी ने 156 सीटों पर जीत दर्ज की है, सूबे के 62 साल के चुनावी इतिहास में ये बीजेपी की सबसे बड़ी जीत है। इससे पहले सबसे बड़ी जीत का रिकॉर्ड काग्रेस के सीएम माधव सिहं सोलकी के नाम था, सोलकी की अगुवाई कांग्रेस ने रिकॉर्ड 149 सीटों पर जीत दर्ज की थी। 2022 के चुनाव में बीजेपी ने इस रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है। इस रिकॉर्ड जीत के साथ बीजेपी 7वीं बार सरकार बनााने जा रही है

 

बीजेपी की जीत के कारण

गुजरात में बीजेपी की सबसे बड़ी जीत के पीछे कई कारण है इसमें पीएम मोदी फैक्टर,चुनाव में कांग्रेस की सुस्ती और आम आदमी पार्टी की जोरदार उपस्थिति जैसे कई कारण शामिल है। गुजरात पीएम मोदी का गृह सूबा है जिसका फायदा बीजेपी को हमेशा मिलता है। सूबे के लोग पीएम मोदी को अपना समझते है। मोदी का गुजरातियों से गहरा लगाव है। सूबे में पीएम मोदी के कद का कोई भी नेता दूसरी पार्टियों में नही है और इसका फायदा बीजेपी कई चुनावों से उठा रही है। पीएम मोदी ने सूबे में खूब प्रचार किया, चुनावी परिणाम बता रहे है कि लोगों ने भी गुजरात के बेटे का मान रखा है और उन्हें झुकने नही दिया है।

 

कांग्रेस की सुस्ती

गुजरात में बीजेपी की बडी जीत की एक वजह कांग्रेस की सुस्ती भी है मसलन चुनाव में कांग्रेस कही भी उत्सहित नजर नही आई, कांग्रेस के बड़े नेताओं ने चुनाव प्रचार में जोर नही लगाया और चुनाव प्रचार प्रदेश स्तर के नेताओं पर छोड़ दिया। राहुल गांधी खुद भारत जोड़ो यात्रा में व्यस्त रहें, राहुल गांधी ने गुजरात में कुछ खास नही किया। कांग्रेस के कई बडे़ नेता पार्टी छोड़कार बीजेपी में चले गए, वनवासी नेता मोहन्सिन रथवा, हिमांशु व्यास, हार्दिक पटेल जैसे कई नेताओं ने बीजेपी का दामन थाम लिया जिसकी वजह से कांग्रेस कार्यकर्ता हताशा से भर गए। इसका असर चुनाव प्रचार के साथ-साथ परिणाम पर भी नजर आया।

 

गुजराती अस्मिता पर जोर

बीजेपी ने चुनाव प्रचार के दौरान गुजराती अस्मिता पर जोर दिया, बीजेपी ने पीएम मोदी को गुजरात का बेटा के तौर पर पेश किया, जबकि अरविद केजरीवाल को बाहरी बताया, जिसका फायदा नतीजों में बीजेपी को होता दिख रहा है। गुजरात की जनता ने पीएम मोदी को स्वीकार कर लिया और बीजेपी की झोली भर कर वोट दिया है। गुजरात में बीजेपी ऐतिहासिक जीत के काफी मायने है मसलन इस जीत से बीजेपी को सूबे के साथ-साथ देशभर में फायदा मिलेगा। दिल्ली नगर निगम में हार और हिमाचल प्रदेश में कांटे की टक्कर के बीच गुजरात में इतनी बड़ी जीत से पार्टी नेत्त्व का मनोबल बढेगा, कार्यकर्ता का जोश हाई रहेगा। पार्टी को एक बार सूबे की सभी सीटों पर जीत की उम्मीद बढेगी। इस जीत से पीएम मोदी का चेहरा और चमकेगा और उन पर देश की जनता का भरोसा बढेगा। चुनाव जीतने की मशीन कही जाने वाले मोदी-शाह की जोड़ी पर पार्टी कार्यकर्ताओं का भरोसा और भी मजबूत होगा, इसका फायदा उन राज्यों में पार्टी को होगा, जहां उनकी सीटों की संख्या कम है और कार्यकर्ताओं का मनोबल गिर रहा है। इस जीत से पार्टी उनका मनोबल बढाने का काम कर सकती है।

 

गुजरात से देश को संदेश

सूबे में इस जीत से बीजेपी देश को बड़ा संदेश दे सकती है कि गुजरात में 27 साल के शासन के बाद भी वोटर्स ने पार्टी में भरोसा जताया है, उसी तरह से देश की जनता भी फिर से एक बार पीएम मोदी और बीजेपी पर भरोसा जता सकती है। इस संदेश के साथ बीजेपी 2024 आम चुनाव में जा सकती है और फिर से जीत के लिए कार्यकर्ताओं में जोश भर सकती है। गुजरात में इतनी बड़ी जीत के इस और मायने है। बीजेपी इस नजरियें से देश की जनता को समझाने की कोशिश कर सकती है कि उनकी टक्कर में कांग्रेस कही नहीं टिकती है। कांग्रेस पार्टी अब बीते दिनों की बात हो गई है। मोदी शाह की जोड़ी जनता को ये बताने का प्रयास करेगी कि कांग्रेस और राहुल गांधी जनता के मुददों से दूर हो चुके है। बीजेपी इसका फायदा आने वाले राज्यों कें चुनाव और आम चुनाव में उठा सकती है। इन सब बातों से एक बात तो स्पष्ट हो जाती है कि मोदी है तो मुमकिन है।

 

डॉ. प्रीती

Leave a Reply

Your email address will not be published.