ब्रेकिंग न्यूज़ 

केंद्र सरकार: 2 करोड़ कोविशील्ड डोज मुफ्त मुहैया कराएगा सीरम इंस्टीट्यूट

केंद्र सरकार: 2 करोड़ कोविशील्ड डोज मुफ्त मुहैया कराएगा सीरम इंस्टीट्यूट

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि अगर कोरोना की कोई नई लहर आती भी है, तो हम पहले से तैयार हैं तथा मृत्यु और अस्पताल में भर्ती होने की दर बहुत कम होगी।

लेखक – सात्विक उपाध्याय

बीते कुछ दिनों में बाहरी कई देशों के साथ-साथ भारत में भी कोविड-19 के नए वैरियेंट के लगातार बढ़ रहे मामले को देखते हुए, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने केंद्र सरकार को कोविशिल्ड वैक्सीन की पूरी दो करोड़ खुराक मुफ्त देने की पेशकश की है। बता दें की स्वास्थ्य मंत्रालय के कुछ आधिकारिक सूत्रों ने आज यह जानकारी दी। सीरम इंस्टीट्यूट में सरकार और नियामक मामलों के निदेशक प्रकाश कुमार सिंह ने स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखकर ₹ 410 करोड़ की मुफ्त खुराक देने की पेशकश की है।

पता चला है कि प्रकाश कुमार सिंह ने मंत्रालय से जानना चाहा है कि डिलीवरी कैसे की जा सकती है. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने अब तक राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के लिए सरकार को कोविशील्ड की 170 करोड़ से भी अधिक खुराक प्रदान की है। जिसे देश के अलग-अलग हिस्सों में समय एवं आवश्यकता अनुसार पहुंचाया जा चुका है, तथा आम जनता को उसकी खुराक लगाई जा चुकी है।  चीन और दक्षिण कोरिया सहित कुछ देशों में कोविड-19 मामलों में तेजी के बीच सरकार ने अलर्ट जारी किया है और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को किसी भी स्थिति के लिए हर पल के लिए तैयार रहने को कहा है।

आगरा में मिले कोविड 19 के नए वैरियेंट बीएफ.7  के मरीज की जिनोंम सैंपलिंग को भजा गया। जिसके बाद से ही भारत ने कोविड पॉज़िटिव नमूनों की निगरानी और जीनोम सीक्वेंसिंग बढ़ा दी है। कोविड-19 वैक्सिनेशन के डाटा के आधार पर केवल 27 प्रतिशत पात्र वयस्क आबादी ने ही बूस्टर डोज ली है। सरकारी अधिकारियों ने कोविड के दो डोज लगने के बाद आम जनता से यह अपील की है कि दूसरे देशों में कोविड से बिगड़ते हालात से खूद को बचाने हेतु जल्द से जल्द बूस्टर डोज भी लगवा ली जाये। स्वास्थ्य मंत्रालय के आधिकारिक कर्मचारियों ने बुधवार को आगाह किया कि देश के लिए आने वाले अगले 40  दिन महत्वपूर्ण होंगेक्योंकि भारत में जनवरी में कोविड के केश में उछाल देखा जा सकता है।  स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि अगर कोई लहर आती भी हैतो मृत्यु और अस्पताल में भर्ती होने की दर बहुत कम होगी।

सरकार ने शनिवार को पहले ही प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय उड़ान में आने जाने वाले यात्रियों के लिए कोविड रैंडम चेकिंग अनिवार्य कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कोविड के मामलों में नए उछाल से निपटने के लिए देश की तैयारियों का आकलन करने के लिए बैठकें की हैं। कोविड-19 संक्रमण में किसी भी तेजी से निपटने के लिए ऑपरेशनल तौयारी की जांच करने के लिए मंगलवार को पूरे भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं पर मॉक ड्रिल आयोजित की गई। जिससे पूरे देश में कोविड सुरक्षा के अग्रिम रोडमैप को जाना जा सके तथा उसमें औरभी सुधार किया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.