ब्रेकिंग न्यूज़ 

दुनिया में मधुमेह से सबसे अधिक पीड़ित बच्चे भारत में हैं

दुनिया में मधुमेह से सबसे अधिक पीड़ित बच्चे भारत में हैं

गुजरात की दो डॉक्टर बहनों डॉ. स्मिता जोशी और डॉ शुक्ला रावल ने डायबिटीज़ से पीड़ित बच्चों की मदद का बीडा उठाया है । वे पीड़ित बच्चों की मदद एवं अपने मिशन को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई से लगातार अपील कर रही हैं। साथ ही केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्री मनसुख भाई मंडाविया और गुजरात के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मन्त्री ऋषिकेश पटेल  सहित भारत सरकार तथा राज्य सरकारों के कई मन्त्रियों,वरिष्ठ अधिकारियों और देश-विदेश के चिकित्सकों तथा समाजसेवी संस्थाओं आदि से निरन्तर सम्पर्क कर भारत में बच्चों के मधुमेह का  निदान करने के लिए एक राष्ट्रीय नीति बनाई जाने (टाइप वन ज्युवेनाईल डायबिटीज़) का वातावरण और जन जागरण अभियान चला रही हैं। अनुमान है कि विश्व में 537 मिलियन लोग मधुमेह से पीड़ित हैं और निकट भविष्य में भारत मधुमेह की विश्व राजधानी बनने जा रहा है क्यों कि भारत में मधुमेह से पीड़ित बच्चों और किशोरों की आबादी दुनिया में सबसे अधिक है। भारत में औसत जीवन काल 25 वर्ष से भी कम है। इस प्रकार ये बच्चे असमय अकाल मृत्यु से काल के ग्रास बन रहें  हैं । जन जागरण अभियान के  सिलसिले में दोनों बहनें देश-दुनिया के विभिन्न भागों में जा रही हैं। इसी क्रम में पिछलें दिनों वे कई बार राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की यात्रा पर रही तथा उन्होंने गुजरात के राजकोट में ढाई हजार परिवारों के एक विशेष शिविर में जन जागरूकता का कार्य किया।

7500 किमी सेल्फ ड्राइव का कीर्तिमान

इसके पहलें वे कश्मीर से कन्या कुमारी और बाद में अमेरीका में सेन फ्रांसिस्को से अटलांटा तक 7500 किमी सेल्फ ड्राइव का कीर्तिमान बना डायबिटीज़ से पीड़ित बच्चों के लिए जन जागरूकता अभियान चला चुकी है।इस अभियान में उनके साथ पुत्र डॉ.राजा जोशी और डॉ.मन पंचोली भी पूरे मनोयोग के साथ जुटे हुए हैं।

डॉ. स्मिता जोशी और डॉ शुक्ला रावल बताती है कि विश्व में सबसे पहले मधुमेह रोग के निदान हेतु सौ वर्ष पहलें 11 जनवरी 1922 को कनाडा के एक अस्पताल में मधुमेह से पीड़ित मरणासन्न 14 वर्षीय लियोनार्ड थॉम्पसन नामक बच्चे को इन्सुलिन की खुराक दी गई थी।वर्तमान में पूरे विश्व में इन्सुलिन की खोज का शताब्दी वर्ष चल रहा है।

दोनों डॉक्टर बहनें चाहती है कि इस शताब्दी वर्ष में बच्चों में मधुमेह की रोकथाम और निदान (टाइप वन ज्युवेनाईल डायबिटीज़) के लिए तत्काल एक राष्ट्रीय नीति बनाई जाने की जरुरत है,क्योंकि एक अनुमान के अनुसार दुनिया में मधुमेह से सबसे अधिक पीड़ित करीब ढाई लाख बच्चे भारत में ही हैं। हालाँकि बीबीसी ने यह संख्या पन्द्रह लाख के आसपास बताई हैं। भारत के बाद मधुमेह से पीड़ित सबसे अधिक बच्चे अमरीका में है। भारत में चल रहें स्वास्थ्य कार्यक्रमों में डाइबिटिज के ईलाज से लाभान्वित होने वाले व्यक्तियों की उम्र तीस वर्ष से अधिक निर्धारित है,जिसके कारण डाइबिटिज पीड़ित बच्चे किसी भी योजना के अन्तर्गत लाभान्वित होने के पात्र नहीं हैं। गुजरात की इन दोनों  चिकित्सक बहनों डॉ.स्मिता जोशी और डॉ. शुक्ला बेन रावल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी को देश-विदेश में बच्चों में मधुमेह  (टाइप-1 डायबिटीज) के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए  भावुक पत्र लिख कर 11 जनवरी 2023 को “राष्ट्रीय मधुमेह बाल दिवस” घोषित करने का आग्रह भी किया है। मधुमेह पीड़ित बच्चों के सम्बन्ध में जन जागरूकता पैदा करने के लिए प्रधानमंत्री के “मन की बात” कार्यक्रम में भी बार बार सन्देश दिया जा सकता हैं । डॉक्टर जोशी बहनों ने प्रधानमंत्री मोदी को एक “युग पुरुष” बताते हुए  लिखा हैं कि आपका स्पर्श मधुमेह पीड़ित बच्चों के स्वास्थ्य के लिए “पारस मणि” जैसा साबित होगा।

100 वर्षों के बाद भी, भारत में बच्चों के टाइप 1 मधुमेह के बारे में जागरूकता का अत्यधिक अभाव है। ज्यादातर लोग मानते हैं कि मधुमेह 50-60 साल की उम्र के बाद ही होता है और यह  अमीर लोगों का राज रोग है लेकिन हकीकत में यह एक गलत धारणा है। भारत में जागरूकता के अभाव में अंधापन, गुर्दे की विफलता, हृदय गति रुकना आदि कारणों से बच्चों की समय से पहले मृत्यु की दर बहुत अधिक है।

दोनों डाक्टर बहनें मधुमेह से पीड़ित बच्चों के लिए एक राष्ट्रीय नीति बनाने के पुनीत कार्य में सभी से सहयोग की अपील कर रही हैं और उनका सुझाव है कि पर इस नीति की घोषणा किया जाना पूरी दुनिया के सामने भारत का मानवता के लिए एक बड़ा सन्देश  साबित हो सकता है।

 

गोपेंद्र नाथ भट्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published.