ब्रेकिंग न्यूज़ 

नाइट ड्यूटी के दौरान शेयर करनी होगी लोकेशन कंझावला कांड के बाद डीसीपी का सभी इंस्पेक्टरों को आदेश

नाइट ड्यूटी के दौरान शेयर करनी होगी लोकेशन कंझावला कांड के बाद डीसीपी का सभी इंस्पेक्टरों को आदेश

नई दिल्ली: दिल्ली के कंझावला में 31 दिसंबर और 1 जनवरी की रात एक गाड़ी से टक्कर के बाद एक युवती की हुई दर्दनाक मौत के बाद दिल्ली पुलिस प्रशासन ने और भी कड़ाई कर दी है। बता दें की डीसीपी रोहिणी ने अब रोहिणी ज़िले के इंस्पेक्टर रैंक के सभी पुलिसकर्मियों को अपना लाइव लोकेशन साझा करने का आदेश दिया है। सूत्रों के अनुसार, रोहिणी ज़िले के डीसीपी गुरइक़बाल सिंह सिद्धू ने अपने इंस्पेक्टर को भेजे संदेश में कहा है कि अबसे रात 12 बजे से सुबह 4 बजे तक की ड्यूटी कर रहे सभी इंस्पेक्टर को उनकी ड्यूटी के दौरान ‘सभी थानों के थाना प्रभारी (एसएचओ), एडिशनल और इंस्पेक्टर ब्रैवो इलाके में गश्त करेंगे और अपना लाइव लोकेशन समय अनुसार साझा करेंगे।’

 

अपने आदेश में डीसीपी ने सभी पुलिसकर्मियों से तीन बातों पर ज़ोर देने का आदेश दिया है जो कि – पेट्रोलिंग, लोकेशन शेयरिंग और थाने पर मौजूद रहना है। इसके अलावा, डीसीपी ने आदेश दिया है कि उनकी अनुमति के बिना कोई भी पुलिस कर्मी थाने से बाहर नहीं जा सकता।

क्या है पूरा मामला?

बता दें कि बीते 31 दिसंबर की रात उत्तर पश्चिमी दिल्ली के सुल्तानपुरी इलाक़े में कथित तौर पर एक लाश बरामद की गई। छानबिन करने के बाद पता चला कि मामला एक लड़की को कार से धक्का देने बाद करीबन 12 से 14 किलोमीटर तक घसीटने का था, जिसमे अंजली नाम की 20 वर्षीय युवती की मौत हो गई थी।

घटना के बाद हुई जांच में स्थानिय पुलिस पर कइ गंभीर आरोप लगाये गये थे।

पुलिस के मुताबिक़, स्कूटी सवार युवती सुल्तानपुरी के कृष्णा विहार इलाके में हादसे का शिकार हुई थी। उसकी बॉडी गाड़ी में फंस गई थी और शव क़रीब 14 किलोमीटर दूर कंझावला थाने के जौंता गांव में मिला था।

घटना की जानकारी सार्वजनिक होने के कुछ घंटे बाद ही दिल्ली पुलिस ने अधिकारिक बयान में इसे हादसा बताया था और कार में सवार पांच लोगों की गिरफ़्तारी की जानकारी दी थी।

 

 

 

 

 

 

पुलिसच द्वारा आरोपियों पर ग़ैर-इरादतन हत्या का मुक़दमा भी दर्ज किया गया है। बाद में पुलिस ने और पड़ताल के बाद बताया कि इस मामले में पांच नहीं सात अभियुक्त हैं।

लेखक- सात्विक उपाध्याय

Leave a Reply

Your email address will not be published.