ब्रेकिंग न्यूज़ 

नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि…

नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि…

भारत में आजादी की लड़ाई के दौरान अनेक महानायक और महापुरुष रहे हैं, लेकिन आजादी के बाद ज्यादातर समय एक ही राजनैतिक शख्सियत को देश की अगुवाई करते देखा गया है। गांधी और नेहरू से लेकर शास्त्री, इंदिरा गांधी से लेकर नरसिंह राव, वाजपेयी से लेकर मोदी तक देश अलग-अलग दौर में किसी एक शख्सियत में अपनी आस्था व्यक्त करता रहा है। देश के लोग इन्हें नए महाराजा, नए मसीहा, नए देवदूत की तरह देखते रहे हैं। इनमें कई नेता देश को ऊंचाई तक ले गए लेकिन अधिकतर ने नए नेताओं को उभरने नहीं दिया, जो देश को कुछ और ऊंचाई पर ले जाते। उनमें अपने परिवारवालों तथा करीबी विश्वासपात्रों को आगे बढ़ाने और खानदानशाही स्थापित करने की प्रवृत्ति रही है।

आखिर, महात्मा गांधी और नेहरू के बाद एपीजे अब्दुल कलाम के रूप में एक साधारण, सरल-सा शख्स ही परिदृश्य में उभरा, जो महानायकों की पुरानी परंपरा की शोभा बढ़ाते हैं। डॉ. कलाम को राष्ट्र के सर्वोच्च आसन पर बैठाया जाना वाकई देश के हर नागरिक के लिए गर्व का पल था। साधारण-सी पृष्ठभूमि से उभरा एक व्यक्ति दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का पहला नागरिक बन गया। यही नहीं, कितने देश कोई वैज्ञानिक राष्ट्रपति होने का गर्व कर सकते हैं। कलाम के राष्ट्रपति भवन में विराजने से उसकी पुरानी गरिमा बहाल हुई थी, जो बुढ़ाते पार्टी वफादारों के दरबार में बदल गया था।

कलाम देश के पहले वैज्ञानिक और अविवाहित राष्ट्रपति भी थे। उनका कार्यकाल इतना सफल और प्रेरणादायी था कि उन्हें सहज ही दूसरा कार्यकाल दिया जाना चाहिए था, लेकिन राजनैतिक वर्ग सामान्य जन में उनकी बढ़ती लोकप्रियता से आशंकित था। उन्हें ‘जनता का राष्ट्रपति’ कहा जाने लगा था। इस साधारण-से दिखने वाले शर्मीले शख्स ने राष्ट्रपति की भूमिका को लेकर देश की धारणा बदल दी थी। उनके मुताबिक, देश को अच्छे नेताओं की दरकार है। वे युवाओं से अच्छे नेता बनने की कामना करते थे। वे ऐसे नेता पैदा करना चाहते थे, जो देश को नई बुलंदियों की ओर ले जाएं। उनकी बातें युवाओं के दिलों को छूती थीं। वे भी युवाओं को नए दौर के क्रांतिकारी के रूप में देखा करते थे। वे विरले राष्ट्रपति थे जो देश की सर्वोच्च संस्था को आम लोगों के करीब ले आए थे।

उन्होंने कभी अपनी आस्थाएं छुपाई नहीं। वह हमेशा अपने आचरण और चरित्र से अपनी आस्था को जाहिर किया करते थे। धर्म के बारे में उनके विचार अपनी मातृभूमि के प्रति आस्था रखने को ही प्रेरित करते थे। उनके लिए देश ही सबसे बढ़कर था। वे बेशक सबसे विनम्र राष्ट्रपति थे। डॉ. कलाम देश के दूर-दराज के कोनों तक पहुंचे और लाखों स्कूलों और कॉलेजों के छात्रों के साथ तादात्म्य स्थापित किया।

उन्होंने धार्मिक कट्टरता और राजनैतिक बंदिशों की दीवारें तोड़कर राष्ट्रीय गौरव की पुनस्थापना की। कलाम का व्यक्तित्व प्रेरणादायी था। वह ऐसे नायक थे जिन्होंने दिखाया कि देशभक्ति का जज्बा साधारण लोगों में आज भी उतना ही जोरदार है। उनका सरल और दिल को छूने वाला व्यवहार उन्हें राजनैतिक नेताओं से बीस साबित करता था। उनका वैज्ञानिक दिमाग हमेशा मिसाइलों के पार जाता था। वे वैज्ञानिकों से खुद मिले और उन्हें स्टेम सेल से लेकर प्रोटियोमिक्स और नैनो टेक्नोलॉजी में नई ऊंचाइयों को छूने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने उन्हें जन स्वास्थ्य सुधारने के लिए नए शोध करने के लिए प्रेरित किया। उनकी बातों को वैज्ञानिक बिरादरी तबज्जो देती थी क्योंकि उन्होंने मिसाइल तकनीक के अपने ज्ञान से ऐसा कृत्रिम पैर बनाने में मदद की थी जो अब तक इस्तेमाल में लाए जाने वाले पैरों से हल्का था। उन्होंने एक सस्ते स्टेंट का भी विकास किया था।

राष्ट्रपति कलाम को विज्ञान की ऊंची उपलब्धियां भी हासिल थीं तो उन्हें रेलवे के तीसरे दर्जे की यात्रा और पानी के लिए लंबी-लंबी कतारों में लगने का भी अनुभव था। उन्होंने मिसाइल कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार की थी और सुखोई विमान भी उड़ाया था। उनका संदेश देश के छात्रों और युवाओं के लिए होता था, जो देश के भावी कर्णधार बनने वाले हैं।

उनके निधन से उनके गुणों और उपलब्धियों की चर्चा चारों ओर हो रही है। लेकिन भारतीय राजनीति के लिए उनके कुछ ऐसे योगदान हैं जिन पर कम ही चर्चा हो रही है। उन्होंने ही 2004 में सोनिया गांधी को प्रधानमंत्री न बनने की सलाह दी थी। अपने पूरे कार्यकाल में उन्होंने सिर्फ दो छुट्टियां लीं, अपने पिता और माता के निधन पर। उन्होंने राष्ट्रपति भवन के दरवाजे को सामान्य लोगों के लिए खोल दिया था।

डॉ. अब्दुल कलाम देशभक्ति की महान विरासत छोड़ गए हैं। वे हमेशा देश को प्रेरणा देने वाले राष्ट्रपति के रूप में याद किए जाएंगे। हमारे मन में उन्होंने जो रोशनी पैदा की है, वह अनंत काल तक हमें रोशन करती रहेगी। उनकी विरासत से आने वाली पीढिय़ां प्रेरणा पाती रहेंगी।

दीपक कुमार रथ

दीपक कुमार रथ

уличная видеокамера с сим картойникас адреса

Leave a Reply

Your email address will not be published.