ब्रेकिंग न्यूज़ 

“चोर दरवाजे से राजद के सत्ता में आते ही बिहार में जंगलराज शुरू”

“चोर दरवाजे से राजद के सत्ता में आते ही बिहार में जंगलराज शुरू”

भा रतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष  जगत प्रकाश नड्डा  ने हाल ही में वैशाली लोक सभा (मुजफ्फरपुर जिला, बिहार) में आयोजित विशाल जन सभा को संबोधित किया और बिहार की जनता से भ्रष्टाचारी महाठगबंधन वाली सरकार को उखाड़ फेंक कर नरेन्द्र मोदी  के नेतृत्व में डबल इंजन वाली विकासोन्मुखी सरकार बनाने का आह्वान किया। कार्यक्रम में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल, विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा, विधान परिषद् में नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी, केंद्रीय मंत्री  नित्यानंद राज्य, क्लस्टर प्रभारी और केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार, सांसद एवं पार्टी के वरिष्ठ नेता रवि शंकर प्रसाद, मुजफ्फरपुर से सांसद अजय निषाद, बिहार के प्रभारी विनोद तावड़े, सह-प्रभारी हरीश द्विवेदी, राज्य के संगठन महामंत्री भीखूभाई दलसानिया, पूर्व उप-मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, पूर्व उप-मुख्यमंत्री रेणु देवी, श्री मंगल पांडे, सैयद शाहनवाज हुसैन एवं भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया सह प्रभारी एवं बिहार विधान परिषद् सदस्य डॉ संजय मयूख सहित कई वरिष्ठ पार्टी नेता तथा बड़ी संख्या में लोग रैली में उपस्थित थे।

श्री नड्डा ने कहा कि बिहार ज्ञान की धरती है, तपस्वियों की भूमि रही है। यह राजनीतिक और सामाजिक आंदोलनों की भूमि रही है। बिहार से मेरा एक अलग ही संबंध रहा है। यह चाणक्य की धरती है, बुद्ध और महावीर की धरती है। लोकतंत्र की जननी वैशाली की धरा पर मैं आज आया हूँ। मैं इस पावन भूमि को नमन करता हूँ। आज की रैली में वैशाली की जनता ने जिस तरह से उत्साह, उमंग और भाजपा के प्रति समर्थन का इजहार किया है, उससे यह निश्चित हो गया है कि बिहार बदलाव चाहता है, बिहार नई उमंगों के साथ खड़ा होना चाहता है। बिहार की महान जनता ने राज्य में पूर्ण बहुमत से कमल खिलाने का निर्णय ले लिया है। भाजपा बिहार की जनता के साथ पूरी ताकत से खड़ी है।

नीतीश कुमार पर करारा हमला करते हुए माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार ने एनडीए से अलग होने का जो फैसला लिया, वह उन्हें मुबारक लेकिन मैं पूछना चाहता हूँ कि नीतीश कुमार ने क्या सोच कर फैसला लिया? क्या उन्हें बिहार की जनता का भला नहीं सोचना चाहिए था। मैं नीतीश कुमार  के लिए उन शब्दों का प्रयोग कतई नहीं करूंगा जिन शब्दों के वे पर्यायवाची बन गए हैं। नीतीश कुमार ने बिहार को जंगलराज की ओर धकेल कर बिहार की जनता के जनादेश का निरादर किया है, बिहार के जनादेश का अपमान किया है और बिहार की जनता को धोखा दिया है। आने वाले चुनाव में प्रजातांत्रिक तरीके से बिहार की जनता इस अपमान का करारा जवाब देगी, यह लोकतंत्र की धरा वैशाली का आह्वान है।

श्री नड्डा ने कहा कि हम बिहार में सत्ता भोगने या कुर्सी पर बैठने नहीं आये थे बल्कि हम बिहार की जनता की सेवा करने आये थे और जनता की सेवा ही हमारा एकमात्र ध्येय है। हम सत्ता में बिहार की तस्वीर और तकदीर बदलने आये थे। हमने एनडीए की सरकार में पटना एम्स की व्यवस्था में सुधार किया, इंदिरा गाँधी आयुर्विज्ञान संस्थान के लिए पर्याप्त फंड उपलब्ध कराये, पीएमसीएच में सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक बनवाया, पीएमसीएच को लगभग 5,000 करोड़ रुपये की राशि दी और दरभंगा एम्स के लिए 1,200 करोड़ रुपये का आवंटन किया, कई पुल और ओवरब्रिज का निर्माण कराया। बिहार में जब एनडीए की सरकार होती है तो विकास तेज गति से होता है लेकिन सरकार से भाजपा के हटते ही विकास अवरुद्ध हो जाता है, विकास कार्य रुक जाते हैं क्योंकि यहाँ वर्तमान में सत्ता में बैठे लोग विकास करना ही नहीं चाहते।

जदयू और राजद गठबंधन पर बरसते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बिहार विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान मैंने बिहार की जनता को आगाह किया था कि अगर बिहार में गलती से भी राजद की सरकार आई तो बिहार एक बार फिर जंगलराज की ओर चला जाएगा। चोर दरवाजे से राजद के सत्ता में आते ही बिहार में जंगलराज शुरू हो गया है। बिहार की सरकार में राजद के आते ही हत्या, लूट, अपहरण और महिलाओं के खिलाफ अपराध में बेतहाशा वृद्धि हुई है। बिहार की क़ानून-व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। प्रशासन लाचार हो गया है। पता ही नहीं चल रहा कि सुशासन बाबू की सरकार में शासन कौन कर रहा है? बिहार में किसका शासन है और कौन-सा सुशासन? प्रशासनिक कार्य ठप्प-से हो गए हैं। केंद्र की नरेन्द्र मोदी सरकार की मदद के बावजूद बिहार में विकास कार्य नहीं हो रहे हैं।

श्री नड्डा ने कहा कि अब समय आ गया है कि बिहार में विशुद्ध रूप से भाजपा की सरकार बनना चाहिए। समय आ गया है कि अब भारतीय जनता पार्टी आगे बढ़ कर बिहार का नेतृत्व करे और बिहार को विकास की राह पर तेज गति से आगे लेकर जाए। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने विपरीत वैश्विक परिस्थिति में भी देश को आगे बढ़ाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी है। आदरणीय प्रधानमंत्री जी के कालजयी नेतृत्व में देश भर में जारी विकास यात्रा में बिहार पीछे न छूट जाए, इसके लिए जरूरी है कि बिहार में भी पूर्ण बहुमत से विशुद्ध भाजपा की सरकार बने। भाजपा आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में बिहार को विकास की ओर ले जाना चाहती है जबकि जदयू-राजद का गठबंधन बिहार को विकास से दूर और जंगलराज की ओर ले जाना चाहता है। हमारी सरकार में हमने विकास करके दिखाया है।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र से आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी बिहार के विकास के लिए और बिहार की जनता के कल्याण के लिए योजनायें भेजते तो हैं लेकिन बिहार में यह जंगलराज की भेंट चढ़ जाता है। यहाँ जंगलराज होगा तो फिर इन योजनाओं का कोई फायदा बिहार को नहीं मिल पायेगा। जब तक बिहार में जंगलराज रहेगा, तब तक बिहार भ्रष्टाचार से जूझता रहेगा, तब तक बिहार के विकास में गतिरोध उत्पन्न होता रहेगा। मैंने स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए दरभंगा एम्स के लिए नीतीश बाबू को जमीन के लिए बार-बार याद दिलाया लेकिन प्रगति नहीं हुई। अब भी दरभंगा एम्स के लिए जरूरी 200 एकड़ जमीन उपलब्ध नहीं हो पाई है। जमीन मिलते ही एम्स का कार्य शुरू हो जाएगा। हिमाचल में 7 साल में ही एम्स बन कर तैयार हो गया। जब हम सरकार में रहे तो मखाना उद्योग के लिए कई कार्य किये लेकिन अब सारे विकास के कार्य रुक-से गए हैं। मैं बिहार को अच्छे तरीके से जानता हूँ। मैं बिहार की तकलीफों को भी समझता हूँ और बिहार के दमखम को भी जानता हूँ। बिहार अगर कुछ फैसला कर लेता है तो उसे निर्णायक मोड़ तक पहुंचा कर ही दम लेता है। बिहार के निर्णय करने का समय आ गया है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी की नीतियों के कारण भारत की दुनिया में साख भी बढ़ी है। पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना और कई अन्य योजनाओं के कारण कोरोना काल में गरीबों को बहुत बड़ा सहारा मिला है और देश में अत्यधिक गरीबी की दर को भी एक प्रतिशत से नीचे रखने में सफलता मिली है। आयुष्मान भारत में लगभग 55 करोड़ लोगों को कवर किया गया है, पीएम किसान सम्मान निधि में लगभग 11.74 करोड़ किसान लाभान्वित हो रहे हैं। उज्ज्वला योजना से लगभग 9 करोड़ परिवारों को लाभ मिला है। देश की आजादी के 70 साल बाद भी बिजली से वंचित 18 हजार गाँवों और लगभग 4 करोड़ घरों में बिजली पहुंचाई गई है। गरीबों के लिए लगभग 2.60 करोड़ घर बनाए गए हैं। लगभग 8 करोड़ घरों को टैप वाटर कनेक्शन से जोड़ा गया है। लगभग 12 लाख शौचालयों का निर्माण कराया गया है। गाँव, गरीब, किसान, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, पिछड़े, आदिवासी, युवा एवं महिलाओं के सशक्तिकरण का हर कदम उठा रही है नरेन्द्र मोदी सरकार। अब समय आ गया है कि बिहार भी विकास की इस अभिनव यात्रा के साथ जुड़े।

उदय इंिडया ब्यूरो

Leave a Reply

Your email address will not be published.