ब्रेकिंग न्यूज़ 

फोतेदार बम

फोतेदार बम

वफादार और कभी दिग्गज कांग्रेसी नेता रहे माखन लाल फोतेदार ने बम गिरा दिया है। फोतेदार ने अपनी किताब में राहुल-सोनिया पर जमकर सवाल उठाए हैं। राजनीति की गहरी समझ रखने वाले फोतेदार ने मौजूदा कांग्रेस पार्टी के प्रबंधन की बखिया उधेड़ कर रख दी है। मजेदार यह भी है कि एक तरफ मीडिया इस पर चटखारे ले रहा है, वहीं वरिष्ठ और धकियाए कांग्रेसियों को मजा आ रहा है, जबकि दस जनपथ और 5 तुगलक लेन दोनों ही खामोश हैं।



शॉटगन उपलब्ध हैं


14-11-2015

शॉटगन यानी शत्रुघ्न भईया लगातार एहसास करा रहे हैं कि वह बिहार में प्रचार के लिये उपलब्ध हैं, जबकि पार्टी है की घास ही नहीं डाल रही है। यहां तक कि शत्रु भईया के कुछ करीबी भी चुनाव मैदान में हैं, लेकिन आलाकमान की पसंद का ख्याल रखकर खामोशी ओढ़े हैं। वहीं भईया शॉटगन अपने फार्म में आ गये हैं। आए दिन ट्वीट बम फेंक कर अमित शाह का पारा चढ़ा रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि शॉटगन तो चुनाव के बाद पार्टी की तरफ से कार्रवाई चाहते हैं, जबकि भाजपा आलाकमान उन्हें ठंडा करके निबटाने के मूड में है। अब देखिए आगे क्या होता है?



वाह रे भईया बाहुबली


14-11-2015

शेर पिंजड़े में हो या बाहर। गुर्राना थोड़े छोड़ देगा। कभी नीतीश कुमार के सुपर करीबी रहे भईया अनंत कुमार सिंह इसकी मिसाल हैं। निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं और लूट, हत्या और अपहरण समेत अन्य मामलों में सलाखों के पीछे हैं। लेकिन, जैसे ही उन्हें खबर मिली की उनके समर्थकों से पुलिस सख्ती से पेश आ रही है, भईया गुर्रा उठे। गुर्राए ही नहीं बाढ़ के एसडीपीओ तक को धमका दिया। आखिर बाहुबली जो ठहरे।



कैप्टन का दम


14-11-2015

कहते हैं, राजा हार नहीं मानता। वह भी अक्खड़ पंजाबी हो तो क्या कहना। कैप्टन अमरिन्दर सिंह इसकी मिसाल बन गए हैं। कैप्टन ने ठान ली है कि या तो पंजाब का चुनाव कांग्रेस उनके नेतृत्व में लड़ेगी या फिर खामियाजा भुगतने को तैयार रहे। इसके लिए वह फिलहाल कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पसंद की भी परवाह नहीं कर रहे हैं। राहुल गांधी तो प्रताप सिंह बाजवा को ही पंजाब कांग्रेस का चीफ बनाए रखना चाहते हैं। दस जनपथ की भी यही राय देखकर अंबिका सोनी से लेकर तमाम नेताओं ने गोट चल दी है, लेकिन कैप्टन लगातार खम ठोक रहे हैं।



यह खूब रही


14-11-2015

एक मंत्री जी का तर्क है कि बिहार चुनाव का नतीजा चाहे जो आए, लेकिन परेशानी अमित शाह और मोदी जी की ही बढ़ेगी। तर्क भी कयास पर आधारित है। मियां का कहना है कि अगर भाजपा बिहार में सत्ता में आ गई तो शाह और मोदी का गरुर सातवें आसमान पर पहुंच जाएगा। इससे पार्टी नेताओं को पसीना छूटने लगेगा। लेकिन, यदि पार्टी सरकार नहीं बना पाई तो पार्टी के भीतर दोनों का विरोध बढ़ जाएगा। कुल मिलाकर हो चाहे जो, परीक्षा शाह और मोदी की ही होगी।



जी भागवत जी


14-11-2015

आरएसएस प्रमुख मोहन राव भागवत ने दशहरा पर जो भी कुछ कहा, वह कई भाजपाइयों के गले के नीचे नहीं उतर रहा है। भागवत जी के इस वक्तव्य को न केवल आडवाणी बल्कि जोशी जी ने भी काफी ध्यान से सुना है। लोगों को पहली बार भागवत जी जहां पढ़कर बोलते नजर आए, वहीं प्रधानमंत्री मोदी जी की भी जमकर तारीफ की। अपने संदेश में बता दिया कि कोई चाहे जितना सिर पीटे, लेकिन संघ को सरकार से कोई परेशानी नहीं है।



सॉरी जुबान फिसल गई


14-11-2015

मोदी जी से लेकर अमित शाह और संघ प्रमुख से लेकर गृहमंत्री राजनाथ सिंह तक चाहे जितनी हांक लगा लें, लेकिन भाजपा नेताओं का कोई जवाब नहीं है। इनमें केन्द्रीय विदेश राज्यमंत्री जनरल वी. के. सिंह का तो बिल्कुल भी नहीं है। रह-रह कर बयानों का गोला दाग देते हैं, और मजे की बात यह भी जब घूमकर पड़ता है, तो दोष मीडिया पर मढ़ देते हैं। अब इसके लिए भाजपा की फजीहत होती है तो होती रहे।



गडकरी ने फुलाया मुंह


14-11-2015

भूतल परिवहन मंत्री गडकरी जी जब से केन्द्र में सरकार का हिस्सा बनें हैं, उनके ग्रह-नक्षत्र ठीक नहीं चल रहे हैं। हाल ही में एक दिन गडकरी जी कोप भवन में जा बैठे। सुना है उस दिन तो वह इस्तीफा देने का भी मन बना चुके थे। बताते हैं कि उनके तीन-चार लोगों पर कानूनी शिकंजा कसने वाला था। जबकि, गडकरी जी की नजरों में सभी बेगुनाह हैं। लिहाजा तिलमिलाए गडकरी ने मुंह फुला लिया था। मुंह ही नहीं फुलाया था, बल्कि पावर में आ गए थे, लेकिन कुछ ही घंटे सुलह-सफाई के बाद मान गए। इसको लेकर भी सुगबुगाहट काफी तेज है।


отзыв оставитьmfxbroker com

Leave a Reply

Your email address will not be published.