ब्रेकिंग न्यूज़ 

‘किस’ ने दो गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड हासिल किये

‘किस’ ने दो गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड हासिल किये

कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (किस) भुवनेश्वर ने ‘लार्जेस्ट हयूमन सेंटेन्स’ और ‘मोस्ट सिमयूल्टेन्स हाई फाईव्स’ में रिकॉर्ड बनाते हुए दो गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड हासिल किये। कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के 15, 225 विद्यार्थियों ने मानव श्रृंखला-‘वी अर्ज फॉर वल्र्ड पीस’ का प्रदर्शन गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड के अधिकारियों के सामने किया। ‘इंटरनेशनल ह्यूमन राईट डे’ की शाम को कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के विद्यार्थियों ने विश्व को शांति का संदेश देते हुए इस बात का संदेश भी दिया कि आतंकवाद के खिलाफ भी लोगों को एकजुट होकर सामने आना होगा। दूसरा रिकॉर्ड विद्यार्थियों ने ‘मोस्ट सिमयूल्टेन्स हाई फाईव्स इन अ ह्यूमन चेन’ में हासिल किया। इस रिकॉर्ड को बनाने के लिये 25,151 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया।

26-12-2015

सुश्री फोर्टुना लिसा बुके, गिनीज बुक रिकॉर्ड की ऑफिसर, समूह लेखा परीक्षा, और दर्शकों के समूह के बीच 6 घंटे लंबे कार्यक्रम को देखने के लिये और इसका निर्णय लेने के लिये उपस्थित रहीं। यहां पर ये उल्लेख किया जा रहा है कि 25 नवम्बर 2015, को एक बड़ी मानव श्रंखला जिसमें 6, 958 लोगों ने हिस्सा लेकर दुबई में ये रिकॉर्ड बनाया था। लेकिन कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के विद्यार्थियों ने इस रिकॉर्ड को तोड़ दिया। गौरतलब है कि 29 अगस्त 2015 को ‘मोस्ट सिमयूल्टेन्स हाई फाईव्स इन अ ह्यूमन चेन’ का रिकॉर्ड कनाडा ने बनाया था जिसमें 7, 238 लोगों की एक श्रृंखला ने हिस्सा लिया था, लेकिन कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के छात्र-छात्राओं ने इस रिकॉर्ड की भी धज्जियां उड़ा कर रख दीं।

इस रिकॉर्ड की प्राप्ति पर ‘किट और किस’ संस्थान के संस्थापक डॉ. अच्युता सामंत ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड के अधिकारियों और कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के विद्यार्थियों का हार्दिक रूप से अभिनन्दन करते हुए कहा कि ये सिर्फ कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे ओडिशा और पूरे देश के लिये गर्व की बात है। कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के विद्यार्थियों ने ‘वल्र्ड ह्यूमन राईट डे’ के मौके पर पूरे विश्व को संदेश दिया है कि आतंकवाद के खिलाफ सभी को एकजुट होना चाहिए ताकि शांति की स्थापना का जा सके।

                उदय इंडिया ब्यूरो

Что таеон SEO и Search Еnginesвладимир мунтян проклятья

Leave a Reply

Your email address will not be published.