ब्रेकिंग न्यूज़ 

गूगल के 13 ऐप आपके दुश्मन

गूगल के 13 ऐप आपके दुश्मन

अमेरीकी बहुराष्ट्रीय कंपनी गूगल ने अपने ऐंड्रॉयड गूगल प्ले स्टोर से 13 ऐप्स को हटा दिया है। सिक्यॉरिटी रिसर्चर्स ने इसका खुलासा कर बताया था, कि इन ऐप्स ने ऐंड्रॉयड फोन्स पर बिना इजाजत के संदिग्ध सामग्री डाउनलोड कर दी थी। इन ऐप्स ने रूट प्रिविलिज लेने और डिवाइस पार्टिशन में फाइल्स कॉपी करने जैसे काम किए थे। समस्या यह है कि ये फाइल्स फैक्टरी रीसेट करने पर भी नहीं हटतीं हैं यानि कि आपकी सुरक्षा में सेंध लगाकर ये ऐप्स आपके भविष्य की नींद हराम कर सकती हैं। ऐप के कर्मचारियों की मदद से हैकर्स अपकी व्यक्तिगत फाइलें, उनमें सेव की गयी कोई भी, किसी भी तरह की निजी सामग्री जैसे क्रेडिट कार्ड के नंबर और पासवर्ड को पलक झपकते ही अपने फायदे के लिये इस्तेमाल कर आपका एकाऊंट साफ कर देंगे और आपको न चाहते हुए भी लाखों का नुकसान उठाना पड़ेगा, इसलिये बिना मौका और समय गंवाये आप इन्हें अपने मोबाइल से पूरी तरह साफ कर दें, क्योंकि सार्वजनिक क्षेत्र में इंटरनेट सर्च, क्लाउड कंप्यूटिंग और विज्ञापन तंत्र में पूंजी लगाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी गूगल ने इन्हें अपने ऐंड्रॉयड प्लेटफॉर्म से हटा दिया है तो आपके लिये यह एक गंभार चेतावनी है। ऐसे में अगर आपने अपने ऐंड्रॉयड फोन पर गूगल प्ले स्टोर से ये ऐप डाउनलोड किए हैं तो इन्हें आप तुरंत अनइंस्टॉल कर अपने मोबाइल फोन से हटा दें, साथ ही इन्हें कभी भी गूगल स्टोर के अलावा अन्य किसी स्टोर से भी इन्हें बिल्कुल ही डाउनलोड न करें। आगे क्लिक करके देखें, कौन से हैं ये ऐप और कैसे पाई जा सकती है इनसे हमेशा के लिये छुटकारा:

  • केस ब्लास्ट (Cake Blast)
  • जंप ब्लास्ट (Jump Planet)
  • हनी कॉम (Honey Comb)
  • क्रेजी ब्लॉक (Crazy Block)
  • क्रेजी जेली (Crazy Jelly)
  • टाइनी पजल (Tiny Puzzle)
  • निंजा हुक (Ninja Hook)
  • पिगी जंप (Piggy Jump)
  • जस्ट फायर (Just Fire)
  • ईट बबल (Eat bubble)
  • हिट प्लैनेट (Hit Planet)
  • केक टॉवर (Cake Tower)
  • ड्रैग बॉक्स (Drag Box)

आगे जानें, अगर आपने ये ऐप यूज किए हैं तो मैलवेयर को कैसे हटाया जा सकता है।

31-01-2016

यह मैलवेयर ब्रेन टेस्ट फैमिली का है। पहले भी यह चर्चा में आया था, मगर इस बार इसने अलग-अलग नाम के ऐप्स से वापसी की है। इसे फैक्टरी रीसेट करने पर भी हटाया नहीं जा सकता। ऐसा इसलिए, क्योंकि ऐसा करने से सिस्टम पार्टिशन क्लियर नहीं होता।

आपके पास बेस्ट ऑप्शन यह है कि आप अपनी डिवाइस का बैकअप लें और अपने डिवाइस की कंपनी की तरफ से ऑफिशयली दिया गया क्र्ररू फिर से फ्लैश करें। इसके लिए अपने हैंडसेट कंपनी के सर्विस सेंटर की मदद ली जा सकती है।

कुमार मयंक

ноутбук алюминиевыйдентальная имплантация зубов

Leave a Reply

Your email address will not be published.