ब्रेकिंग न्यूज़ 

सेब के फायदे

सेब को सबसे सेहतमंद और बहुरंगी फल माना जाता है। अंग्रेजी में एक कहावत है कि ‘ऐन एप्पल ए डे, कीप्स द डॉक्टर अवे’, नियमित रूप से इसका सेवन करने से स्वास्थ्य बना रहता है। यह दुनिया भर में सबसे ज्यादा उगाया जाने वाला फल है। रोसासी परिवार के इस सदस्य को वैज्ञानिक भाषा में मालुस पूमिला लिनिअस कहते हैं। कच्ची अवस्था में सेब हरे तथा स्वाद में खट्टे होते हैं। ये पकने पर लाल और हरित आभा लिए मीठे और रसदार हो जाते हैं। हर रोज नियमित रूप से एक सेब का सेवन करने से कई बिमारियों से बचा रहा जा सकता है। यह फल न केवल खाने में स्वादिष्ट होता है, बल्कि इसके कई स्वास्थ्यप्रद गुण भी होते हैं–

सेब के गुण

  • आयुर्वेद के अनुसार सेब पित्तनाशक, वातनाशक, पुष्टिकारक हृदय एवं गुर्दों के लिए फायदेमंद होता है। इससे अनेक आयुर्वेदिक दवाइयां भी बनती हैं।
  • सेब में सर्वाधिक मात्रा में फॉस्फोरस होता है। इसके अतिरिक्तइसमें आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट तथा विटामिन-बी भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। यह हृदय रोग में बहुत लाभकारी होता है।
  • पथरी रोगी के लिए सेब बहुत फायदेमंद होता है। रोगी को दिन में चार से पांच सेब प्रतिदिन खाने चाहिए।
  • हृदय रोगियों के लिए तो सेब अमृत के समान है। उन्हें दिन में भोजन से पहले दो सेब खाने चाहिए।
  • मस्तिष्क की कमजोरी दूर करने के लिए सेब एक अचूक दवा की तरह काम करता है। ऐसे रोगी को प्रतिदिन एक सेब खाने को देना चाहिए। इसके अतिरिक्त रोगी को दोपहर तथा रात को भोजन में कच्चे सेबों की सब्जी देनी चाहिए। सेब का एक गिलास रस शाम को दें तथा रात को सोने से पूर्व एक पका मीठा सेब खिलाएं। इससे एक महीने में ही रोगी के स्वास्थ्य में सुधार आने लगता है।
  • कमजोर आंखों वालों को भोजन के साथ प्रतिदिन ताजा मक्खन तथा मीठा सेब खाना चाहिए, इससे नेत्र ज्योति तेज होती है और चेहरे पर रंगत भी आती है।
  • बुखार में रोगी को प्यास, जलन, थकान तथा बेचैनी हो तो सेब का रस पिलाना चाहिए। इससे रोगी को तुरंत आराम मिलता है।
  • सेब का रस गले में घाव, छालों आदि से राहत देता है।
  • सेब पेट के लिए बहुत लाभकारी होता है। इससे पेट में गैस नहीं बनती एवं पेट में कीड़े भी पैदा नहीं होते। दो मीठे सेब या सेब का एक गिलास ताजा रस प्रतिदिन पीने से पेट के कीड़ों से राहत मिलती है एवं इससे कब्ज भी दूर होती है। प्रतिदिन सुबह खाली पेट दो सेब चबाकर खाने से अग्निमांद्य दूर होता है और भूख भी बढ़ जाती है।
  • सेब में मौजूद फ्लेवोनॉयड्स फेफड़ों को स्वस्थ रखने में फायदेमंद होते हैं। नियमित रूप से सेब के रस का प्रतिदिन सेवन करने से फेफड़े अधिक मजबूत होते हैं और उनकी कार्यक्षमता भी बढ़ती है।
  • ज्यादा वजन के कारण होने वाले हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, मधुमेह जैसी बीमारियों से राहत दिलाने में सेब का सेवन लाभदायक होता है। सेब में पर्याप्त मात्रा में मौजूद फाइबर वजन कम करने में मदद करते हैं। सेब के मुरब्बे का सेवन करने से मोटापा भी दूर होता है।
  • अनिद्रा के उपचार में भी सेब बहुत उपयोगी है। नींद न आती हो तो सोने से पहले मीठे सेब के मुरब्बे के साथ गुनगुना दूध पीएं। इससे नींद अच्छी आती है।
  • एक गिलास सेब के रस में मिश्री मिलाकर प्रतिदिन सुबह नियमित रूप से पीने से पुरानी से पुरानी खांसी भी ठीक हो जाती है।
  • सिरदर्द, चिड़चिड़ापन, बेहोशी या उन्माद की शिकायत से ग्रस्त व्यक्ति को भोजन से पहले दो मीठे सेबों का सेवन करना चाहिए।

दिब्याश्री सतपथी

скульптурыотзыв

Leave a Reply

Your email address will not be published.