ब्रेकिंग न्यूज़ 

आईपीएल : विवाद, मौके और लाखों डॉलर

इंडियन प्रीमियर लीग का पहला चरण दुबई में सम्पन्न हो गया। लोकसभा चुनावों के मद्देनजर लीग को दो चरणों में कराए जाने का फैसला किया गया था। लीग के पहले मैच में गत वर्ष विजेता मुंबई इंडियंस को 2012 के विजेता कोलकाता नाईट राईडर्स ने हराया था। आईपीएल को इंग्लैंड में खेली जाने वाली इंग्लिश प्रीमियर लीग की तर्ज पर वर्ष 2008 में शुरू किया गया था। माना जाता है कि बीसीसीआई के तत्कालीन उपाध्यक्ष ललित मोदी ने लीग को जी-गु्रप की इंडियन क्रिकेट लीग के विरोध में शुरू किया था।

यह लीग का सातवां संस्करण है। पिछले छ: संस्करणों में लीग किसी न किसी विवाद के कारण निरंतर खबरों में रही। सट्टेबाजी से लेकर कालाधन, स्पॅाट फिक्सिंग, फ्रैंचाइजी की बर्खास्तगी तक इस दौरान आईपीएल में बहुत कुछ हुआ। अभद्र चीयरलीडर्स से लेकर मंत्री के इस्तीफे और टीम के मालिक (शाहरूख खान) को वानखेड़े स्टेडियम में घुसने तक की मनाही से लेकर खिलाडिय़ों की रेव पार्टी में पकड़े जाने तक, सभी खबरों ने आईपीएल का दामन दागदार किया।

कब कौन-सा विवाद

आईपीएल-1 (2008) – मुंबई इंडियंस के कप्तान हरभजन सिंह ने किंग्स इलेवन, पंजाब के एस. श्रीसंत को मैच में हार के बाद थप्पड़ जड़ दिया। जांच के बाद बीसीसीआई ने भज्जी पर 11 मैचों का प्रतिबंध लगा दिया था।

आईपीएल-2 (2009) – आम चुनावों की वजह से दक्षिण अफ्रीका में आईपीएल को शिफ्ट करना पड़ा। लेकिन वहां भी विदेशी विनिमय के उल्लंघन की वजह से लीग को शर्मसार होना पड़ा। किंग्स इलेवन के मालिक मोहित बर्मन को एक महिला दर्शक से बदसलूकी करने पर सुरक्षा गार्ड ने पीट दिया। शाहरूख खान और जॉन ब्यूकानन की कई कप्तान वाली थ्योरी ने टीम में दरार पैदा कर दी थी।

आई पी एल-3 (2010) – रूपयों की हेराफेरी करने के लिए बीसीसीआई ने ललित मोदी को निलंबित कर दिया था। जूनियर विदेश मंत्री शशि थरूर पर कोच्ची टसकर्स केरल टीम के साथ लेन-देन के आरोप लगे। इसमें उनकी तत्कालीन महिला-मित्र सुनंदा पुष्कर के शामिल होने का भी खुलासा हुआ। इसके बाद थरूर को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।

आईपीएल-4 (2011) – टूर्नामेंट से पहले ही मनीष पांडे पर आईपीएल संचालन परिषद ने फै्रंचाईजी के साथ छलपूर्ण व्यवहार करने के लिए चार मैचों का प्रतिबंध लगा दिया था। कोच्ची टसकर्स केरल टीम को फै्रंचाईजी फीस न भर पाने के कारण टूर्नामेंट से बर्खास्त कर दिया गया।

आईपीएल-5 (2012) – रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाड़ी ल्यूक पोमरबाक को एक अप्रिवासी भारतीय महिला को परेशान करने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया। डक्कन चार्जर्स के टी.पी. सुधिंधरा ने स्पॅाट फिक्सिंग के आरोपों को एक स्टिंग ऑपरेशन में कबूला, जिसके बाद उन पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया गया। इसी तरह उत्तर प्रदेश के शलभ श्रीवास्तव पर भी पांच साल का प्रतिबंध लगा दिया गया। पुणे के राहुल शर्मा और वेन पार्नेल को मुंबई में रेव पार्टी से गिरफ्तार किया गया।

आईपीएल-6 (2013) – दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने राजस्थान रॉयल्स के एस श्रीसंत, अजीत चंदिला और अंकित छवन को टीम के तीन मैच फिक्स करने और स्पॅाट फिक्सिंग के आरोपों के तहत गिरफ्तार किया।

लाखों डॉलर और मौके

ऐसा नहीं है कि आईपीएल केवल विवादों की लीग है। आईपीएल युवाओं को राष्ट्रीय टीम में जगह बनाने का मंच तो प्रदान करती ही है, साथ ही उन सभी खिलाडिय़ों को (जो किसी न किसी वजह से टीम से बाहर हैं), टीम में दोबारा जगह बनाने का अवसर प्रदान करता है। कोहली, धवन, रैना, जडेजा, मोहित शर्मा, भुवनेश्वर कुमार, शामी जैसे कई खिलाड़ी आईपीएल की ही देन हैं। ऑस्ट्रेलिया के शेन वाटसन कहते हैं – ‘क्रिकेट के खेल में काफी विकास हुआ है और अब माहौल बदल गया है। टेस्ट और एकदिवसीय मैचों के साथ अब टी-20 भी खेला जाने लगा है, जिसके लिए हमें अपनी मानसिकता में बदलाव की जरूरत है। आईपीएल ने मुझे एक अवसर दिया कि मैं और अच्छा खिलाड़ी बन सकूं। राय में अंतर हो सकता है, पर आईपीएल में भी सकारात्मक पहलू हैं।’

आईपीएल के कारण ही आज भारत के पास ऐसे कई खिलाड़ी हैं, जो आगे चलकर देश का नाम रोशन करने का दम रखते हैं। संजू सैमसन, ईश्वर पांडे, परवेज रसूल, सूर्यकुमार यादव, ऋषि धवन और धवल कुलकर्णी जैसी प्रतिभाएं आईपीएल की ही खोज हैं। परवेज रसूल कहते हैं – ‘मेरा मानना है कि हर खिलाड़ी को उन सभी मौकों का फायदा उठाना चाहिए, जो उसे मिलते हैं। आईपीएल भी ऐसा ही एक मंच है, जहां खिलाड़ी अपनी प्रतिभा दिखा सकता है।’

विवादों, पैसों और मौकों के बीच अब खिलाड़ी को खुद तय करना है कि उसे क्या चाहिए। आईपीएल एक सम्मोहन की तरह है, जिसमें देर रात की पार्टियां, बॉलीवुड के सितारों के साथ मित्रता, अच्छी तन्ख्वाह और असीमित आंनद है। लेकिन, निर्धारित लक्ष्य, अनुशासित जीवन शैली और काम के प्रति नैतिकता से इस सम्मोहन पर विजय प्राप्त की जा सकती है। उम्मीद है खिलाड़ी इस बात को समझ कर अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करेंगे और क्रिकेट की गरिमा का ध्यान रखेंगे।

सौरभ अग्रवाल

пломбирование каналов больноконсульство австрии в харькове

Leave a Reply

Your email address will not be published.