ब्रेकिंग न्यूज़ 

गुणों का खजाना जायफल

जायफल विश्व भर के सबसे लोकप्रिय मसालों में से एक है। यह दुनिया के उन गिने चुने मसलों में है, जिसके लिए कई युद्ध लड़े गए और कृत्रिम रूप से कीमतों को बढ़ाने के लिए कई गोदामों को जलाया भी गया। 16वीं सदी में एक सम्राट की ताजपोशी में सड़कों को सुगंधित करने के लिए जायफल बिखेरे गए थे। ग्रेनेडा के राष्ट्रीय ध्वज में जायफल को उत्पादन में वर्चस्व दिखने के लिए अपनाया गया है।

जायफल जावित्री से घिरा होता है, जिसे मसालों जैसे इस्तेमाल किया जाता है। यह न केवल खाने के स्वाद को बढ़ाता है, बल्कि इसके अनेक लाभ भी होते हैं। इसमें आयरन, कैल्शियम, पोटेशियम, कॉपर, मैग्नीशियम और मैंग्नीज जैसे आवश्यक मिनरल्ज होते हैं, जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। जायफल में बी-कॉम्प्लेक्स और बीटा कैरोटीन जैसे कई विटामिन और फ्लैवोनॉइड जैसे कई एंटी-ऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में हैं, जो हमें स्वस्थ रखने में मदद करते हैं।

औषधिय लाभ

  • इसका इस्तेमाल तनाव और चिंता से राहत पाने के लिए किया जाता है। यह एक जाना माना तथ्य है कि इससे मस्तिष्क प्रभावी रूप से उत्तेजित होता है और ध्यान एवं एकाग्रता में सुधार होता है।
  • अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक गुणों के कारण, यह जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द में, आर्थराइटिस और अन्य बीमारियों से राहत देने में मदद करता है। जायफल के तेल को प्रभावित जगह पर लगाने से आराम मिलता है।
  • इससे रक्त संचरण में सुधार आता है। यह गुर्दों में संक्रमण को भी रोकता है। इसके एंटी-बैक्टीरियल गुण मुंह में बैक्टीरिया पैदा करने वाले असंख्य कैविटी को मारने में मदद करते हैं।
  • अच्छी नींद के लिए एक ग्लास दूध के साथ एक चुटकी जायफल पाउडर का सेवन करना चाहिए। तकिए पर जायफल के तेल कि कुछ बूंदे अच्छी नींद देती है।
  • यकृत और पाचन संबंधी रोग, दस्त से हुए पेट दर्द और ठंड के कारण हुए सूजन के इलाज के लिए भी इसका सेवन किया जाता है। यह पथरी को रोकने में प्रभावशाली है।
  • जायफल के तेल में युजेनौल होता है जो दांत के दर्द से राहत दिलाता है। यह दिल के लिए भी फायदेमंद है।
  • जायफल के पाउडर में तिल का तेल मिला कर उसे जायफल के काले होने तक उबालें। ठंडा होने के बाद तेल को
  • छान कर एक बोतल में रख दें। इस तेल से रूमेटिक पेन और साइटिका से आराम मिलता है।
  • जायफल को पानी के साथ पीसकर एक्जिमा से प्रभावित जगह पर लगाना चाहिए। इससे खुजली इत्यादि से राहत मिलती है और लगातार इस्तेमाल से एक्जिमा का भी इलाज होता है।
  • जायफल की आराम देने वाली सुगंध से शरीर को आराम मिलता है और रक्त संचरण में सुधार आता है।
  • जायफल के पेस्ट में शहद मिला कर चेहरे पर लगाने से दो दिन में ही चेहरा साफ हो जाता है। इससे चेहरे पर चमक आती है। जायफल का पेस्ट धब्बों पर लगाने से वे हल्के पड़ जाते हैं।
  • ‘पोर्स’ को बंद करने के लिए जायफल में दूध मिलाकर पेस्ट बना कर उसे चेहरे पर समान रूप से लगा दें। एक घंटे बाद पहले गरम पानी और फिर ठंडे पानी से धो लें। इस पेस्ट के इस्तेमाल से ‘ब्लैक हैड’ को कम करने में भी मदद मिलती है।
  • शहद के साथ जायफल लगाने से त्वचा में झुर्रियां नहीं पड़तीं और यह मानव ऊतकों के क्षरण को भी रोकता है।
  • जायफल का तेल टूथ पेस्ट, कॉस्मेटिक्स और खांसी की दवाई में इस्तेमाल होता है।

निभानपुदी सुगुना

ооо полигон украинаaustria.kharkiv.ua

Leave a Reply

Your email address will not be published.