ब्रेकिंग न्यूज़ 

अलसी (फ्लैक्स सीड)

सभी प्रकार के पौधों के बीज कुछ पोषक तत्वों से युक्त होते हैं। इनके सेवन से स्वास्थ्य लाभ किया जा सकता है। अलसी भी इसका अपवाद नहीं है। इसकी विशिष्टता इसके तीन पोषक तत्वों में निहित है। अलसी के सेवन से उनमें मौजूद तीनों पोषक तत्व स्वास्थ्य लाभ कराते हैं। इनमें पहला – ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, दूसरा – संयंत्र एस्ट्रोजेन और एंटी-ऑक्सिडेंट्स(लिगनन) और तीसरा – फाइबर (घुलनशील और अघुलनशील) है।

हमारे आहार की सूची में कई नए खाद्य पदार्थ शामिल किए गए हैं। अलसी भी उन में से एक है। यह हजारों सालों से यहां है, परंतु हाल ही में हुए अध्ययन के माध्यम से इसके औषधीय मूल्य और स्वास्थ्य लाभ देने के अनेक गुणों का पता चला है।

खाना बनाते हुए पोषक तत्वों पर विशेष ध्यान देना चाहिए, ताकि उसका पोषण नष्ट न हो पाए। अलसी के तेल को अपने आहार में रोजाना शामिल करने से स्वास्थ्य संबंधी अनेक आश्चर्यजनक फायदे प्राप्त होते हैं। स्वस्थ एवं सुखी जीवन व्यतीत करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

अलसी के फायदे

  • अलसी का बीज पाचन शक्ति बढ़ाने और शरीर को ऊर्जा देने में मदद करता है।
  • यह शरीर को गर्म रखता है, जिससे बरसात और सर्दियों के मौसम में जुकाम और खांसी से राहत मिलती है।
  • इस बीज में भरपूर मात्रा में फाइबर, विटामिन, मिनरल्स और प्रोटिन्स होते हैं। प्रोटिन्स शरीर के समुचित विकास में मदद करते हैं। इसमें मौजूद फाइबर्स पेट के स्वस्थ बनाए रखते हैं।
  • अलसी के बीज में ओमेगा-3 फैटी एसिड होते हैं, जो सीने में जलन कम करने में सहायक होती हैं। दिल की बीमारी, जोड़ों का दर्द, मधुमेह, अस्थमा, विभिन्न प्रकार के कैंसर आदि को दूर रखने में भी यह लाभदायक होता है।
  • अलसी में एंटी-ऑक्सिडेंट्स होते हैं, जो रक्त का शुद्धिकरण करने के साथ त्वचा और बालों में चमक पैदा करते हैं। ये ऐंटी-ऑक्सिडेंट्स शरीर को कई बीमारियों से बचाते हैं।
  • अलसी के बीज का तेल एग्जिमा, रूसी, नाजुक त्वचा की रूखेपन, सनटैन जैसी त्वचा की कई प्रकार की बीमारियों से बचाता है।
  • इन में फाईटो-एस्ट्रोजन होते हैं, जो महिलाओं में पोस्ट-मोनोपॉसल के लक्षणों से लडऩे में मदद करता है। इन बीजों की मदद से मोनोपॉस के दौरान गंभीर पेट दर्द से भी राहत मिल सकती है।
  • एक चम्मच अलसी के बीज को चबाने से पेट से संबधित समस्याओं और पेपटिक अल्सर से छुटकारा मिल सकता है।
  • अलसी के बीज का तेल त्वचा पर आकर उम्र दराज दिखाने वाली झुर्रियों पर अन्य क्रीमों से बेहतर काम करता है। इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड्स त्वचा को नरम, मुलायम और शिकन मुक्त रखता है।
  • अलसी का तेल माइग्रेन, अस्थमा और अन्य एलर्जी से भी राहत दिलाता है।
  • अलसी नाखूनों की खूबसूरती बनाए रखने में मदद करता है। इसका नियमित रूप से सेवन करने से शरीर को फैटी एसिड्स आवश्यक मात्रा में मिलती है, जिससे दरारों, सूखेपन और भंगुरता आदि से नाखूनों की रक्षा होती है।
  • ऐंटी-वाइरस, ऐंटी-फंगल और ऐंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण अलसी कई मायनों से महिलाओं के स्वास्थ्य की रक्षा करता है। महिलाओं को ब्रेस्ट कैंसर से बचाने में अलसी के बीज विशेष रूप से लाभकारी होते हैं। इनमें मौजूद फैटी एसिड्स महिलाओं में एस्ट्रोजेन हॉरमोन के हानिकारक प्रभाव को कम कर देते हैं।
  • अलसी के बीज शरीर में कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लसराइड्स को कम करने में मदद करते हैं। इनमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड्स मानसिक तनाव कम करने और एकाग्रता बनाए रखने में मदद करता है।

निभानपुदी सुगुना

mfx brokerдетские палатки

Leave a Reply

Your email address will not be published.