ब्रेकिंग न्यूज़ 

अच्छी लगती है शार्ट स्कर्ट

एशियन डेवलपमेंट बैंक (मनिला) ने हाल में ही नोएडा में अपनी वार्षिक बैठक में आमंत्रित दुनिया भर के चार हजार प्रतिनिधियों के लिए एक अधिसूचना जारी की थी, जिसमें महिलाओं से कहा गया था, ‘भारत में अपने पैर खुले न छोड़ें, छोटी स्कर्ट न पहनें, इससे भारतीयों की संवेदनशीलता प्रभावित हो सकती है। ‘अधिसूचना में सार्वजनिक जगहों पर एक दूसरे को छूने और चूमने से भी सावधान किया गया था। एक ही थाली में खाने या अपना खाना दूसरे की थाली में डालने के लिए भी मना किया गया था, क्योंकि भारतीय इसे जूठा खाना समझते हैं और भारत में इसे अच्छा नहीं माना जाता। अधिसूचना में समलैंगिक प्रतिनिधियों के लिए लिखा गया था: ‘भारत में दो लड़के यदि हाथ में हाथ डाल कर जा रहे हों, तो उन्हें समलैंगिक समझने की भूल ना करें। ‘बाद में जब इसकी काफी आलोचना हुई तो बैंक ने यह अधिसूचना वेबसाइट से हटा ली।
बहरहाल बाद में वहां वित्त मंत्री पी चिदम्बरम भी पहुंचे और पत्रकार वार्ता के दौरान ही किसी ने उनसे पूछ लिया कि क्या वास्तव में भारतीय छोटी स्कर्ट में लड़कियों के घूमने पर बुरा मानते हैं, इस पर चिदम्बरम बोल गए कि ‘नहीं, नहीं। छोटे स्कर्ट में लड़कियां तो हमें अच्छी लगती हैं। ‘उनके इस जवाब पर वहां जोर का ठहाका लगा।
हवा करने लगीं रेणुका
कोयला घोटाले में सर्वोच्च न्यायालय में सरकार ने दावा किया था कि कानून मंत्रालय ने सीबीआई की रिपोर्ट को न तो देखा था और न ही उसमें कोई बदलाव किया था। सीबीआई द्वारा इस सरकारी दावे को खारिज करने वाला हलफनामा प्रस्तुत करने के बाद संसद में कांग्रेस का संवाददाता सम्मेलन था। पत्रकारों से रेणुका चौधरी बात कर रही थीं। एक पत्रकार ने पूछा कि सीबीआई द्वारा प्रस्तुत हलफनामे पर उनकी क्या प्रतिक्रिया है। मुस्कराती हुई रेणुका चौधरी ने अनभिज्ञता प्रकट करते हुए कहा कि उन्हें नहीं पता कि क्या हलफनामा दिया गया है। इस पर एक पत्रकार ने हलफनामे की पूरी प्रतिलिपि उन्हें सौंप दी और कहा कि अब देख कर बताइये कि इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है। हलफनामे की प्रति देखते ही रेणुका के चेहरे पर हवाइयां उडऩे लगीं और उसे पढऩे की बजाय वे मुस्कराने की नाकाम सी कोशिश करते हुए उससे पंखे की तरह हवा करने लगीं।
लेट कर प्रणाम
अब तक वरिष्ठ भाजपा नेता सुषमा स्वराज को सोनिया गांधी का करीबी समझा जाता था, परंतु अब सोनिया-प्रशंसक भाजपा नेताओं की सूची में एक और नाम जुड़ गया है। सुषमा स्वराज की ही भांति ये भी एक समय सोनिया गांधी की काफी विरोधी रही हैं और आज भी उनके खिलाफ आग उगलती हैं। ये हैं हाल ही में भाजपा में वापसी करने वाली उमा भारती। सोनिया के प्रति उनकी भक्ति का रहस्योद्घाटन किया स्वयं राहुल गांधी ने और वह भी उमा भारती के गढ़ में।

हुआ यूं कि मध्य प्रदेश में कार्यकर्ताओं की बैठक में कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ताओं ने शिकायत की कि उमा भारती सोनिया गांधी के खिलाफ काफी कड़वा बोलती हैं। उन्होंने राहुल गांधी से आग्रह किया कि इसका केंद्रीय स्तर पर कुछ प्रतिकार किया जाए।

इस पर राहुल गांधी ने कहा,’वे उमा भारती को गंभीरता से न लें। उमा भारती अजीब महिला हैं। घर आती हैं तो मम्मी (सोनिया गांधी) को जमीन पर लेट कर प्रणाम करती हैं। मम्मी उनके इस व्यवहार पर काफी असहज भी हो जाती हैं, पर वह मानती ही नहीं हैं।’

हैरत की बात यह है कि राहुल का यह बयान मध्य प्रदेश के अखबारों में प्रमुखता से छपा, परंतु उमा भारती की ओर से इसका कोई खंडन नहीं आया, तो क्या अब मान लिया जाए कि सार्वजनिक रूप से सोनिया गांधी के खिलाफ आग उगलने वाली उमा भारती अंदरखाने उनकी भक्त हैं?

продвижение ресторана в социальных сетяхмашини на радиоуправлении

Leave a Reply

Your email address will not be published.