ब्रेकिंग न्यूज़ 

रणबीर से लाइफ टाइम फ्रेंडशिप है : दीपिका पादुकोण दीपिका पादुकोण से सी मोहन की खास बातचीत

‘ये जवानी है दीवानी’ की रेकार्ड कामयाबी के पीछे रणबीर से बे्रकअप की खबरों को कारण माना जा रहा है?

इसे मैं समीक्षकों की गलत सोच कह सकती हूं। सिर्फ अटकलों, गॉसिप और बेसिरपैर की खबरों से फिल्म कभी हिट नहीं होती, अगर ऐसा होता तो इससे पहले भी कई जोडिय़ों की फिल्में आईं और गईं लेकिन ना तो मीडिया ने ना दर्शकों ने इन फिल्मों को पसंद किया, मैं खुशकिस्मत हूं कि इंडस्ट्री में मेरी पहली फिल्म ‘ओम शांति ओम’ भी बॉक्स ऑफिस पर सुपर हिट रही थी, उस फिल्म के साथ तो ऐसा कुछ नहीं जुड़ा था, ‘बचना ए हसीनों’ के बाद बेशक मैं और रणबीर कुछ अर्से तक दूर रहे, लेकिन इस दूरी को ब्रेकअप का नाम तो आप मीडिया वालों ने ही दिया। इस बीच हम दोनों ने कभी किसी प्लेटफार्म पर आकर ब्रेकअप की बात कभी नहीं कही, फिर हमारी इस फिल्म की कामयाबी को हम दोनों की निजी जिंदगी के साथ क्यों जोड़ कर देखा जा रहा है

इस फिल्म के एक सीन में आप रणबीर से कहती हैं ‘मुझे तुम से प्यार हो जाएगा- फिर से, ‘ डायलॉग के ‘फिर से’ शब्द को इस फिल्म के प्रोमो और पब्लिसिटी में कुछ ज्यादा ही यूज किया गया ‘फिर से’ शब्द जोडऩा आप दोनों के बीच रही दूरियों को बॉक्स ऑफिस पर कैश करने के मकसद से रखा गया?
इस फिल्म में मेरे कई दूसरे रोमांटिक डायलॉग भी है, लेकिन हर इंटरव्यू में हर किसी ने मुझ से इस डायलॉग का जिक्र जरूर किया, ना जाने इस डायलॉग में ऐसा क्या खास है जो इसे मेरी निजी लाइफ के साथ जोड़ा जा रहा है, यह भी इस फिल्म के दूसरे डायलॉग की तरह से ही था। हां, इस सीन को शूट करने के बाद मजाक में रणबीर ने कहा था ‘देखना अब इन चंद लाइनों पर ब्रेकिंग न्यूज तक बनने लगेगी।’ अब हर कोई इस डायलॉग की बात करता है, तो मुझे रणबीर की कही बात याद आती है।

‘बचना ए हसीनों के’ बाद आप दोनों ने दूरियां बढ़ा ली थीं, आप दोनों के ब्रेकअप की खबरें मीडिया में आईं, आज आप और रणबीर के बीच क्या ब्रेकअप जैसी कोई बात है?
कैसा ब्रेक अप, मैं इन बेबुनियाद बातों को सुनते-सुनते परेशान हो चुकी हूं, रणबीर और मैं आज भी बहुत अच्छे दोस्त हैं, प्लीज, हमारी दोस्ती को आप सिर्फ दोस्ती ही रहने दीजिए, इसे किसी रिलेशिनशिप का नाम ना दीजिए, रणबीर और मेरी दोस्ती जीवन भर चलने वाली दोस्ती है, हम दोनों के बीच पहले भी दोस्ती थी, आज भी है और आगे भी रहेगी।

सुना है, रणबीर के साथ आप एक और फिल्म कर रही है?
अभी सब कुछ पाइप लाइन में है, जब तक मैं फिल्म साइन नहीं कर लेती, तब तक कुछ नहीं कह सकती।

‘ओम शांति ओम’ के बाद ‘चेन्नई एक्सप्रेस’ शाहरूख के साथ दूसरी फिल्म करने में बहुत लंबा वक्त लगा?
इस बीच ऐसा कोई प्रपोजल हीं नहीं मिला, उनसे अवार्ड काय्र्रकमों, इवेंट या फिल्मी पार्टियों में मुलाकात होती रहती थी, हां शाहरूख जब भी मिलते हर बार एक फिल्म करने की बात जरूर करते थे, इस बीच शाहरूख ने अपने बैनर से कई फिल्में बनाईं, खैर लंबे गेप के बाद ही सही लेकिन मुझे खुशी है इस बार हम दोनों ने एक और बेहतरीन फिल्म में काम किया है जो हर किसी को पसंद आएगी।

अटकलें लग रही थीं शाहरूख ‘रा वन’ में करीना की बजाए आपको लेना चाहते थे?
ऐसा मुझे कभी नहीं लगा , इस फिल्म के लिए मुझ से किसी ने अप्रोच नहीं किया, फिर मैं इस बारे में कैसे बात कर सकती हूं।

कई साल बाद कैमरे के सामने आपने शाहरूख में क्या चेंज देखा?
‘ओम शांति ओम’ जब बनीं उस वक्त मैं बिल्कुल नई थी, तब सेट पर हम दोनों के बीच सिर्फ फिल्म से जुड़ी बातें ही हो पाती थीं, लेकिन इस बार शाहरूख से सेट पर हर तरह की बातें हुईं। इस बार मैंने शाहरूख को पहले से कहीं ज्यादा फ्रेंडली महसूस किया। आउटडोर शूटिंग के दौरान शाहरूख यूनिट के लोगों को ‘ओम शांति ओम’ से जुड़ी अपनी यादों को शेयर करके जब यह बताते कि ‘शांतिप्रिया’ – (फिल्म में मेरे किरदार का नाम-) आज भी मेरे सपनों में आ जाती है तब मैं मेकअप वैन में जाकर बैठ जाती थी।

आप इस फिल्म में तमिल लड़की के किरदार है हं क्या आपके डायलॉग की डबिंग की गई है?
अरे क्या बात कर कर रहे है। मेरा बचपन साउथ में ही बीता है, मै कन्नड फैमिली से हूं और साउथ की कई भाषाए लिख और बोल सकती हूं, मेरी बात छोड़ दीजिए इस फिल्म में मेरे साथ शाहरूख ने भी तमिल में कई डायलॉग बोले हैं।

कभी लगा कि पापा की तरह आपको भी स्र्पोट्स में कैरियर बनाना चाहिए था?
मै भाग्य में बहुत यकीन करती हूं, जब छोटी थी उस वक्त स्र्पोटस में ही आना चाहती थी। शायद किस्मत को यह मंजूर नहीं था, रीयल लाइफ में तो खिलाड़ी नहीं बन सकी, लेकिन शाहरूख की तरह ‘चक दे इंडिया’ जैसी स्र्पोटस फिल्म करना चाहती हूं।

german englishноутбук-трансформер lenovo ideapad yoga13

Leave a Reply

Your email address will not be published.