ब्रेकिंग न्यूज़ 

मेरी फिल्मों की रिलीज डेट चेंज नहीं होती – अक्षय कुमार

बॉलीवुड फिल्मों के सुपरहिट सितारे अक्षय कुमार को ‘खिलाड़ी’ के नाम से भी जाना जाता है। अक्षय कुमार अपने व्यवहार से साथियों के बीच लोकप्रिय हैं। उदय इंडिया के लिए सुमित शर्मा की उनकी खास बातचीत के अंश :

‘राउडी राठौर’ के बाद अब आपकी अगली फिल्म ‘बॉस’ भी साउथ की सुपर हिट फिल्म का रीमेक है। बनाने की कोई खास वजह?
ऐसा कुछ नहीं, मैं या दूसरे प्रॉडयूसर भी वहीं कुछ बनाते है जिन्हें लोग पसंद करे और हम अपनी प्रॉडक्शन कास्ट वसूलने के बाद थोड़ा बहुत मुनाफा भी कमा सके, साउथ में मसाला और एक्शन ज्यादा पसंद किया जाता है, वहां ऐसे सब्जेक्ट पर ज्यादा फिल्में बनती है, इन्हीं फिल्मों में से कुछ फिल्मों के राइट्स खरीदकर हम लोग भी फिल्म बनाते है। बॉस को मैं टोटली एक्शन फिल्म नहीं मानता। इस फिल्म को हमने हिंदी में बनाते वक्त बहुत कुछ बदला, मेरा मानना है अगर हम साउथ की किसी भी सुपर हिट फिल्म में अगर हिंदी फिल्म दर्शकों की कसौटी पर खरे उतरने वाले मसाले फिट नहीं करेंगे तो साउथ में बनी सुपर डुपर हिट फिल्म को दर्शक ठुकरा देंगे।

आपकी पिछली सुपर हिट फिल्म ‘ओ माई गॉड’ गुजराती के एक स्टेज शो पर बेस थी। क्या आप मानते है कि बॉलिवुड में अब अच्छी स्क्रिप्ट लिखने वालों की कमी आ गई है, वर्ना एक अदद हिट की चाह में हिंदी फिल्म इंडस्टी दूसरी भाषाओं में बनी फिल्मों पर ही फिल्में क्यों बनाती है?
मै इस से जरा भी सहमत नहीं। मैं और आप जिस देश में रहते है, वहां एक दो नहीं दर्जनों भाषाएं बोली जाती हैं। ये सभी हमारी अपनी है, फिर ऐसा भी नहीं हिंदी में बनी फिल्मों को दूसरी भाषाओं में नहीं बनाया जाता, हम लोग तो साल में साउथ की पांच सात फिल्मों का रीमेक करते है, वहां हर साल हिंदी में बनी दर्जनों फिल्में तमिल, तेलुगू वगैरह दूसरी भाषाओं में बनती है, हमारे यहां अच्छी कहानियों का अभाव नहीं है, मुझे तो लगता है हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में सबसे ज्यादा प्रयोग होते है हम लोग लीक से हटकर ऐसे सब्जेक्ट पर फिल्में बनाते है जो शायद दूसरी भाषाओं में नहीं बनती, यश राज, करण जौहर, के अलावा अब यग मेकर अपनी नई सोच के साथ ऐसी स्क्रिप्ट लिखकर फिल्में बना रहे है जो फिलहाल दूसरी भाषाओं में अभी मुमकिन नहीं है।

‘वंस अपॉन’ ने पहले दिन कम स्क्रीन होने के बावजूद लगभग ग्यारह करोड़ की कमाई की। आपको नहीं लगता अगर फिल्म ईद पर ही रिलीज की जाती तो नजारा कुछ और होता?
देखिए, नंबर वन तो मैं इस फिल्म का प्रॉडयूसर नहीं है, ना ही मेरी कंपनी ने इस फिल्म को बनाया, फिल्म कब रिलीज की जाए इसका फैसला फिल्म में काम करने वाले एक्टर नहीं बल्कि प्रॉडक्शन कंपनी लिया करती है। मुझे नहीं पता, फिल्म की रिलीज आगे क्यों और किस वजह से की गई, ऐसे में मैं कलेक्शन या दूसरी किसी फिल्म की कलेक्शन से अपनी फिल्म की तुलना करना बेमानी समझता हूं, मेरा मानना है हर फिल्म बॉक्स ऑफिस पर अपना नसीब लेकर आती है, जिस तरह घर में आने वाला नया मेहमान अपनी किस्मत अपने साथ लिखवाकर आता है ठीक उसी तरह हर फिल्म भी अपनी किस्मत लेकर आती है, आप किसी की किस्मत तो उससे कभी नहीं छीन सकते।

अक्षय जी, अब मल्टिप्लेक्स कल्चर पूरे देश में रम चुका है, हर मल्टिप्लेक्स में औसतन तीन से चार स्क्रीन होते है, ऐसे में दो मेगा बजट, मल्टिस्टारर फिल्में क्या एकसाथ रिलीज नहीं हो सकती?
क्यों नहीं हो सकती, कुछ साल पहले जब इक्का दुक्का मल्टिप्लेक्स बने थे, उस वक्त भी एक ही दिन लगान और गदर जैसी दो मेगा बजट, मल्टिस्टारर फिल्में एकसाथ आई थी। दोनों ही फिल्मों ने जबर्दस्त बिजनेस किया, इसी तरह कई और बडी फिल्में भी एक साथ रिलीज हुई है और आगे भी होती रहेगी, मैंने आपके पिछले सवाल के जवाब में कहा हर फिल्म अपनी किस्मत के साथ आती है। ऐसे में सिर्फ दो फिल्में ही क्यों, अगर आने वाले दिनों में तीन – चार मेगा बजट, मल्टिस्टारर फिल्में भी एकसाथ रिलीज होने लगे तो ताज्जुब नहीं करना चाहिए।

अगर आपकी प्रॉडक्शन कंपनी की फिल्म के अपोजिट कोई दूसरी फिल्म आती है तो क्या आप अपनी फिल्म आगे ले जाएंगे?
हर्गिज नहीं, अब हम लोग जब फिल्म शुरू करते है उसी वक्त ही अपनी फिल्म की अलटरनेटिव रिलीज डेट का भी ऐलान करते है, ऐसे में हमारी फिल्म के राइटस खरीदने वाली कंपनी फिल्म की डिस्टिब्यूशन कंपनी उसी डेट को माइड में रखकर फिल्म की मार्केटिंग की रणनीति तैयार करती है, ऐसे में अगर हम रिलीज डेट चेंज करे तो पूरा सीन बदल जाता है।

सोनाक्षी के साथ आप हिट फिल्मों की हैटिक कर चुके है, लेकिन लंबे अर्से से कैटरीना के साथ कोई फिल्म नहीं कर रहे?
देखिएं, डेटस प्रॉब्लम रहती है। अब हर कोई एक टाइम पर एक ही फिल्म करने लगता है, कैटरीना के पास अगर पहले से कोई फिल्म है तो यकीनन उस फिल्म को करने के बाद ही वह किसी दूसरी फिल्म के बारे में सोचेगी, आजकल हम जब फिल्म शुरू करते है तो स्टार्स की डेट पहले से लेते है, देखिए अगले साल कैटरीना के साथ भी फिल्म आए ।

करण जौहर के साथ आप गुटका बना रहे, लगता नहीं, फिल्म अपने टाइटिल के चलते सेंसर में अटक सकती है?
अभी इस फिल्म की शूटिंग शुरू नहीं हुई है, मुझे नही लगता टाइटिल में कुछ खराबी है, फिर हम इस फिल्म में गुटका को प्रमोट तो नहीं कर रहे हैं। अखबारों, चैनलों पर नजर आने वाले विज्ञापनों में मैं सालों से गुटका लिखा देख रहा है अब तक तो किसी को ऐतराज नहीं हुआ, फिर भाई हमारी फिल्म के टाइटिल पर क्यों ?

सुना है, इस फिल्म की कास्ट में से इमरान हाशमी को डॉप करके अर्जुन कपूर को लिया गया है..
अर्जुन कपूर को लेने का फैसला मेरा नहीं बल्कि फिल्म के डायरेक्टर और पूरी प्रॉडक्शन कंपनी का था, वैसे भी हमने इमरान हाशमी को साइन तक नहीं किया था, फिर हटाने का सवाल कहां से आ गया।

прослушка телефона женыvantso сайт

Leave a Reply

Your email address will not be published.