ब्रेकिंग न्यूज़ 

पहली महिला संगीतकार, सरस्वती देवी

सरस्वती देवी की लोकप्रियता भारत तक ही सीमित नहीं रही। लंदन में भी उनका नाम अपरिचित नहीं था। बीबीसी ने जब भारतीय समाचार सेवा शुरू की तो उसकी सिगनेचर ट्यून उनकी फिल्म जन्मभूमि के गाने ‘जय जय प्यारी जन्मभूमि माता’ की धुन पर ही आधारित थी। इस फिल्म के दो गाने ‘दुनिया कहती मुझको पागल’ और ‘संवा के हम व्रतधारी’ उस जमाने में खासे लोकप्रिय हुए थे।

बॉम्बे टॉकीज के साथ जिस तरह देविका रानी अभिन्न रूप से जुड़ी हुई थीं, उसी तरह संगीतकार सरस्वती देवी भी, उसी का एक हिस्सा बनकर रहीं। बॉम्बे टॉकीज की पहली ही फिल्म ‘जवानी की हवा’ से सरस्वती देवी इसके साथ जुड़ गई थी। उन्होंने कुल तीस फिल्मों में काम किया और करीब डेढ़ सौ गीतों को अपने संगीत से संवारा।
मुम्बई के एक संपन्न और सम्मानित पारसी परिवार में जन्म लेने वाली सरस्वती देवी का मूल नाम खुर्शीद मिनोखर होमजी था। संगीत के प्रति उनका प्रेम देखते हुए उनके पिता ने प्रख्यात संगीताचार्य विष्णु नारायण भातखंडे के मार्गदर्शन में उन्हें शास्त्रीय संगीत की शिक्षा दिलाई। बाद में लखनऊ के मॉरिस कॉलेज में उन्होंने संगीत की पढ़ाई की।

1920 के दशक में जब मुम्बई में रेडियो स्टेशन खुला, तो वहां खुर्शीद अपनी बहन मानेक के साथ मिलकर होमजी सिस्टर्स के नाम से नियमित रूप से संगीत के कार्यक्रम पेश किया करती थी। उनका कार्यक्रम बहुत लोकप्रिय हो गया था। इसी कार्यक्रम की सफलता को देखते हुए हिमांशु राय ने जब बॉम्बे टॉकीज शुरू किया, तो खुर्शीद को अपने स्टूडियो के संगीत कक्ष में बुलाया और उसका कार्यभार उन्हें सौंप दिया। यह एक चुनौती भरा काम था और उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। वहीं सरस्वती देवी के रूप में उनका नया नामकरण भी हुआ। पहली फिल्म का नाम था ‘जवानी की हवा’। उनकी बहन मानेक ने भी इसमें चंद्रप्रभा के नाम से एक प्रमुख भूमिका निभाई थी।

जहां तक हिंदी फिल्मों की पहली महिला संगीतकार का सवाल है, सरस्वती देवी से पहले भी कुछ महिला संगीतकारों के नाम आते जरूर हैं; दो नाम हैं-मुख्तार बेगम और गौहर कर्नाटकी। ये मूल रूप से शास्त्रीय शैली की गायिकाएं हैं उन्होंने 1932-33 में फिल्मों के लिए भी कुछ गाने गाए हैं। बाद में संभवत: कुछ फिल्मों के लिए संगीत भी उन्होंने तैयार किया, लेकिन उनके बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है। 1934 की फिल्म ‘अदल-ए-जहंगीर’ की संगीतकार के रूप में इशरत सुल्ताना का नाम आता है, लेकिन इसके गानों का कोई ग्रामोफोन रेकार्ड उपलब्ध नहीं है। इसी तरह मुन्नी बाई और जद्दन बाई के नाम भी आते हैं, लेकिन उनके भी कोई रेकार्ड उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए सरस्वती देवी को ही हिंदी फिल्मों की पहली संगीतकार के रूप में मान्यता दी जाती है।

पहली फिल्म जवानी की हवा के लिए संगीत तैयार करते हुए सरस्वती देवी को पता चल गया था कि यह आसान काम नहीं है। फिल्म के नायक नजमुल हुसैन और नायिका देविका रानी को गाने का कोई अभ्यास नहीं था। आसान धुनों को भी उनसे गवाने में खासी मेहनत करनी पड़ रही थी। इस फिल्म का सिर्फ एक ही गाना ग्रामोफोन रेकार्ड पर उपलब्ध है। गाने के बोल है: ‘सखी री मोहे प्रेम का सार बता दे’। संगीत वाद्यों के रूप में तबला, सारंगी, सितार और जलतरंग का इस्तेमाल किया गया था। इस गाने में नजमुल हुसैन और देविका रानी के अलावा चंद्रप्रभा की आवाजें भी हैं।

लेकिन जिस फिल्म ने सरस्वती देवी को संगीतकार के रूप में अमर कर दिया, वह थी 1936 में बनी उनकी फिल्म अछूत कन्या। इस फिल्म में नौ गाने थे। फिल्म के सभी गाने शास्त्रीय रागों पर आधारित थे। फिल्म का एक गाना ‘कित गए हो खेवनहार’ सरस्वती देवी ने खुद गाया था। दरअसल यह गाना उनकी बहन चंद्रप्रभा को गाना था, लेकिन ऐन वक्त पर उसका गला खराब हो गया। तब हिमांशु राय ने ही उन्हें सलाह दी कि वह खुद इस गाने को गाएं और परदे पर चंद्रप्रभा सिर्फ होंठ हिलाए। इसे एक तरह से ‘प्लेबैक सिंगिंग’ की शुरुआत माना जा सकता है। हालांकि इस समय तक कोलकाता के न्यू थिएटर्स में राय चंद्र बोराल भी अपनी फिल्म ‘धूप-छांव’ के लिए कुछ इसी तरह एक गाना गवा चुके थे। लेकिन फिल्म का सबसे लोकप्रिय गाना तो रहा, अशोक कुमार और देविका रानी का गाया ‘मैं बन की चिडिय़ा बनके बन बन बोलूं रे’।

सरस्वती देवी की लोकप्रियता भारत तक ही सीमित नहीं रही। लंदन में भी उनका नाम अपरिचित नहीं था। बीबीसी ने जब भारतीय समाचार सेवा शुरू की तो उसकी सिगनेचर ट्यून उनकी फिल्म जन्मभूमि के गाने ‘जय जय प्यारी ‘जन्मभूमि माता’ की धुन पर ही आधारित थी। इस फिल्म के दो गाने ‘दुनिया कहती मुझको पागल’ और ‘संवा के हम व्रतधारी’ उस जमाने में खासे लोकप्रिय हुए थे। फिल्म जीवन प्रभात (1939) में देविका रानी और किशोर साहू का गाया गीत ‘तुम मेरी, तुम मेरे साजन’ हिट रहा था। इसी फिल्म का होली गीत ‘होली आई रे कान्हा, ब्रज के रसिया’ भी बहुत पसंद किया गया था।

सरस्वती देवी के लिए तब तक गीत लिखने का काम जे.एस. कश्यप ही करते थे। काश्यप बॉम्बे टॉकीज की फिल्मों के लिए संवाद लिखने का काम भी करते थे।

सरस्वती देवी ने अपने सहायकों को भी स्वतंत्र रूप से संगीत रचना के लिए प्रोत्साहित किया। फिल्म कंगन के लिए उनके सहायक रह चुके रामचंद्र पाल ने संगीत तैयार किया। इस फिल्म के लिए गीत कवि प्रदीप ने लिखे। यह फिल्मों की दुनिया में उनकी शुरुआत थी। फिल्म के गीत संगीत खासे लोकप्रिय हुए। बाद की फिल्मों में सरस्वती देवी ने दूसरे संगीतकारों के साथ मिलकर संगीत देना शुरू कर दिया। दरअसल संगीत अब नए रंग में ढल रहा था और सरस्वती देवी उसके साथ चलने की भरसक कोशिश करते हुए भी पीछे छूट रही थी।

बॉम्बे टॉकीज के लिए सरस्वती देवी ने करीब बीस फिल्में की थीं। उनके लिए सरस्वती देवी की अंतिम फिल्म 1941 की नया संसार थी। अब तक की फिल्मों में एस.एन. त्रिपाठी उनके आर्केस्ट्रा का संचालन करते थे और बहुत अच्छी वॉयलिन बजाते थे। सरस्वती देवी के साथ ही उन्होंने भी बॉम्बे टॉकीज छोड़ दिया था और स्वतंत्र रूप से संगीतकार के रूप में काम करने लगे थे।

अशोक कुमार के भतीजे अरुण कुमार ने भी सरस्वती देवी के सहायक के रूप में संगीत की दुनिया में प्रवेश किया और बाद में स्वतंत्र रूप से कुछ अच्छी धुनें भी बनाईं। इनकी प्रसिद्ध फिल्म थी 1953 में बनी परिणीता जिसमें मुख्य भूमिकाएं अशोक कुमार और मीना कुमारी ने निभाई थीं।

बॉम्बे टॉकीज छोडऩे के बाद सरस्वती देवी ने किसी अन्य स्टूडियो में नौकरी तो नहीं की लेकिन उनके लिए फिल्में जरूर कीं। मिनर्वा मूवीटोन के लिए उन्होंने छह फिल्में की थीं कुछ में उन्होने अकेले ही संगीत दिया और कुछ में उनके साथ अन्य संगीतकार भी थे। 1943 में उन्होंने फिल्म ‘प्रार्थना’ में जानी मानी गायिका जहांआरा कज्जन के लिए संगीत तैयार किया, तो उसी साल मिनर्वा मूवीटोन की फिल्म ‘पृथ्वी वल्लभ’ में रफीक गजनवी के लिए गाने की धुन तैयार की।

1945 में उन्होंने फिल्म आम्रपाली के लिए अकेले संगीत तैयार किया। इसमें अमीर बाई कर्नाटकी ने कुछ अच्छे गाने गाए। लेकिन अब साफ लगने लगा था कि वह समय से कहीं पिछड़ रही हैं। उनकी अंतिम लोकप्रिय फिल्म ऊषा हरण (1949) थी जिसमें 12 गाने थे। इसमें दो गाने लता मंगेशकर ने भी गाए थे। इसे दो पीढिय़ों के दो महानों का संगम भी मान सकते हैं। इसके बाद 1950 में उनकी फिल्म ‘बैचलर हस्बैंड’ आई थी। फिर पांच साल के बाद 1955 में फिल्म इनाम के लिए उन्होंने एक गाने की धुन तैयार की थी। बाकी गानों का संगीत उनके पुराने शिष्य एस.एन. त्रिपाठी ने तैयार किया था।

1961 में उनकी आखिरी फिल्म थी, राजस्थानी की ‘बसरा री लाडी’। इसके बाद उन्होंने फिल्मों को अलविदा कहकर संगीत सिखाने का काम हाथ में ले लिया।

 सुरेश उनियाल

отзыв Topodinреклама сайта в google

Leave a Reply

Your email address will not be published.