ब्रेकिंग न्यूज़ 

राहुल की रैली और परेशान पत्रकार

 
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में राजस्थान के उदयपुर जिले के सलुंबर में आदिवासियों और किसानों की रैली को संबोधित किया। राहुल का दौरा करीब-करीब महीने भर पहले तय हुआ था और दोनों ओर तैयारियां जोरों-शोरों से चल रही थी। राजस्थान में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में राज्य के मुख्यमंत्री गहलोत ने इस रैली की कमान अपने हाथों में थामी थी, ताकि कोई गलती न हो। यह रैली कांग्रेस के चुनाव प्रचार की आगाज थी। दिल्ली में भी तैयारियां चल रही थीं, लेकिन हर कोई अपनी तैयारी में लगा था। समन्वय की इतनी कमी थी कि रैली के दो दिन पहले यह तय किया गया कि दिल्ली से भी कुछ पत्रकारों को राजस्थान लेकर जाया जाए। फिर पत्रकारों की तलाश शुरू हुई। जब पत्रकार तय हुए तो कैसे जाया जाए, इस पर बहस हुई। रेल से जाना तय हुआ तो कौन सी रेल से जाएं, यह तय नहीं था। फिर रेल बोर्ड से एक एसी-2 बोगी की व्यवस्था की गई। जिस दिन पत्रकारों को जाना था, उस दिन दोपहर तक उन्हें पता नहीं था कि जाना किस गाड़ी से है। फिर बताया गया कि दिल्ली के सराय रोहिल्ला स्टेशन से जाना है। बेचारे पत्रकार गिरते-पड़ते सराय रोहल्ला पहुंचे। भाजपा कवर करने वाले एक पत्रकार ने चुटकी लेते हुए कहा कि भाजपा सत्ता में भले ही न हो, लेकिन व्यवस्था में नंबर वन है।
आदर्श सांसद
15वीं लोकसभा का सत्र हाल ही में संपन्न हुआ। सत्र का क्या हुआ और कैसे चला, यह सभी जानते हैं। कई सांसद सत्र से यह सोच कर गायब रहते हैं कि विपक्ष सदन चलने नहीं देगा तो जा कर क्या करेंगे। कई तो दिल्ली में होते हैं और सदन के बजाय घर में आराम फरमाते हैं, लेकिन इनमें एक सांसद ऐसा भी रहा, जिसकी सदन में मौजूदगी 97 फीसदी थी और यह सांसद हैं सी. एल रुआला, जो मिजोरम से कांग्रेस के सांसद हैं। इनकी उम्र 78 साल है और उनके दिल का ऑपरेशन हुआ है। दिल में पेसमेकर लगा है। इसके बावजूद वह जिस नियमितता से सदन में आते हैं, वो बाकियों के लिए आदर्श होना चाहिए।
स्ंगीत पर प्रोटोकॉल भारी
पिछले हफ्ते जम्मू-कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के संगीतकार जुबीन मेहता के ऑरकेस्ट्रा का कार्यक्रम हुआ। कार्यक्रम से पहले उसे लेकर काफी राजनीति भी हुई, लेकिन जब कार्यक्रम का होना तय हुआ तो दिल्ली से भी काफी संगीत प्रेमी श्रीनगर पहुंचे। एक संगीत प्रेमी नेता के अनुसार, वहां कार्यक्रम का आनंद उठाने पहुंचे प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सैफुद्दीन सोज को 14वीं लाइन में बिठाया गया। सोज के ओहदे को देख उनकी जगह पहले लाइन में होनी थी, इस बात के लिए सोज पूरे समय भुनभुनाते दिखाई दिए। अंत मे कार्यक्रम खत्म होने के बाद सोज ने न सिर्फ अधिकारियों को डांटा, बल्कि मेहता के स्वागत में रखे रात के भोजन का बहिष्कार भी किया।
रघु ठाकुर को मिला नया काम
कई साल तक राजनीतिक बेरोजगारी झेल रहे समाजवादी विचारधारा के नेता रघु ठाकुर को रोजगार मिला है। वैसे एक समय था कि देश की राजनीति में रघु ठाकुर की तूती बोलती थी। जनता दल के राष्ट्रीय महासचिव रहे ठाकुर अपने ही दल के बड़े नेताओं को निबटाने के प्रयास में खुद ही पार्टी से आउट हुए। फिर मुलायम सिंह यादव के समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव बने और मुलायम ने दिल्ली का पार्टी कार्यलय उनके हवाले किया। मुलायम सिंह को जब पता चला की दिल्ली में उनके खिलाफ छपने वाली खबरें पार्टी कार्यालय से ही प्लांट की जा रही हैं तो उन्होंने रघु को पार्टी से निकाला। अब उन्होंने लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी का गठन किया है, जिसके राष्ट्रीय अध्यक्ष भी वहीं हैं और कार्यकर्ता भी वही। फिर भी रोजगार के नाम पर उनके पास कुछ नहीं था। पता चला है कि अब उन्हें नया काम मिल गया है। कांग्रेस में स्थापित समाजवादी नेता मोहन प्रकाश से अपने पुराने संबधों को भुनाते हुए वह अब कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को मोहन प्रकाश से मिलवाने का काम कर रहे हैं। मध्य प्रदेश के तमाम टिकटार्थी अब मोहन प्रकाश से मिलने के लिए रघु ठाकुर के दरबार में हाजिरी भर रहे हैं।
प्यारा दुश्मन
कांग्रेस पार्टी के बारे में कहा जाता है कि उसे विरोधियों की जरूरत ही नहीं है, क्योंकि कांग्रेसी ही कांग्रेसी को निपटाता है। इस अंतर्कलह से पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी लगातार जूझ रहे हैं। वह हर राज्य में जाकर एक ही मंत्र जपते हैं- आपस में मिल कर काम करो। आपस में लडऩे से पार्टी कमजोर होती है। और कहीं हो न हो, लेकिन हाल ही में राजस्थान में राहुल के मंत्र का असर होता दिखाई दिया। हाल ही में कांग्रेस ने उदयपुर के पास एक विशाल रैली का आयोजन किया। राहुल गांधी की मौजूदगी में राजस्थान के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पार्टी के राष्ट्रीय महामंत्री सी.पी. जोशी ने अपने घोर विरोधी और राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तारीफों के पुल बांध दिए। जोशी ने यहां तक कहा कि राज्य आगे भी अशोक के ही नेतृत्व में विकास करेगा। जोशी, जिन्होंने पिछले पांच साल से अशोक गहलोत का जीना मुहाल कर रखा था, का हृदय परिवर्तन होता देख प्रदेश के कांग्रेसी नेताओं के चेहरे की मुस्कान कुछ और ही कहानी कह रही है।

Показукладка кварц-виниловой плитки

Leave a Reply

Your email address will not be published.