ब्रेकिंग न्यूज़ 

ब्राउन राइस

कई अध्ययनों में यह साबित हो चुका है कि शुद्ध अनाज का सेवन मधुमेह, मोटापा, सेमिक स्ट्रोक, इंसूलिन नियंत्रण जैसी कई बीमारियों से रक्षा करता है। ब्राउन राइस ऐसा अनाज है, जो हमारे शरीर के लिए जरूरी कई पोषक तत्वों से परिपूर्ण होता है। अनाज का ऊपरी आवरण, जिसे छिलका कहा जाता है, पॉलिश किया हुआ नहीं होता है। यह प्राकृतिक और परिष्कृत होता है। सफेद चावल में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले सभी पोषक तत्व, छिलका उतारने के दौरान नष्ट हो जाते हैं। इस दृष्टि से ब्राउन राइस एक महत्वपूर्ण एवं पोषक खाद्य बन जाता है।

ऐंटी ऑक्सिडेंट – ब्लूबेरी और ग्रीन टी, ऐंटी ऑक्सिडेंट का एक बड़ा स्रोत माना जाता है। लेकिन ब्राउन राइस भी ऐंटी ऑक्सिडेंट का बहुत बड़ा स्रोत है।

स्तन कैंसर – ब्राउन राइस स्तन कैंसर के रोकथाम में बेहतरीन कार्य करता है। ‘फाइटोन्यूट्रिएंट लिगनिन’ की मौजूदगी के कारण कैंसर के विकास में मदद करने वाले कोशिकाओं को रोकता है। सप्ताह में दो बार ब्राउन राइस का इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति संभावित कैंसर को रोक सकता है।

मधुमेह – ब्राउन राइस में बड़े पैमाने पर फाइबर उपलब्ध होता है। इसका अर्थ यह है कि ब्राउन राइस, सफेद चावल की अपेक्षा पचने में ज्यादा समय लेता है। इससे यह सुनिश्चित होता है कि रक्त में सुगर का प्रवाह धीमा और कम होता है। ब्राउन राइस में अन्य अनाजों की अपेक्षा कम ग्लाइकेमिक इंडेक्स होता है। जो खून में ग्लूकोज की मात्रा को स्थिर रखता है।

हृदय संबंधी – फाइबर की उच्च उपलब्धता के कारण ब्राउन राइस हृदय संबंधी रोगों से प्रतिरक्षा करता है। ब्राउन राइस के ऊतकों का अतिरिक्त परत, रक्तचाप बढऩे से रोकता है।

कोलोन कैंसर – बड़े पैमाने पर फेनोल की उपलब्धता के कारण ब्राउन राइस का इस्तेमाल, कोलोन कैंसर की आशंका को कम करता है। यह पचान की प्रक्रिया में सहायक होता है और कोलोन को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार होता है।

कोलेस्ट्रोल – ब्राउन शुगर में पाए जाने वाले घुलनशील फाइबर के कारण रक्त में मौजूद एलडीएल कोलेस्ट्रोल का स्तर नीचे रहता है। वसा की संतुलित उपलब्धता भी रक्तचाप को नियंत्रित रखने में मददगार होता है। ब्राउन राइस एचडीएल कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने भी सहायक होता है।

वजन कम करना –वजन घटाने और वजन को नियंत्रित रखने में ब्राउन राइस एक बेहतरीन खाद्य है। यह खाद्य फाईबर से परिपूर्ण होता है। सफेद चावल की अपेक्षा इसमें ग्लाइकेमिक इंडेक्स का स्तर नीचा होता है, जो मधुमेह को नियंत्रित रखता है। इसमें प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला तेल शरीर में एलडीएल कोलेस्ट्रोल को घटाने में सहायक होता है।

संपूर्ण खाद्य – सफेद चावल की अपेक्षा ब्राउन राइस एक संपूर्ण खाद्य होता है। अध्ययन में यह साबित हो चुका है कि सप्ताह में छह दिन ब्राउन राइस का इस्तेमाल करने वाले व्यक्ति में धमनियों पर बनने वाली पट्टिका में सहायक और उच्च कोलेस्ट्रोल के कारण हृदय रोग के विकास को बाधित करता है।

कब्ज से राहत – ब्राउन राइस में 14 तरह के फाइबर पाए जाते हैं। घुलनशील फाइबरों की मात्रा के हिसाब से ब्राउन राइस एक समृद्ध खाद्य है। अघुलनशील फाइबर की मात्रा के कारण ब्राउन राइस कब्ज जैसी समस्या से बचाता है।

बच्चों में अस्थमा – मछली के साथ ब्राउन राइस खाने वाले बच्चों में अस्थमा होने का खतरा कई गुना कम हो जाता है। अध्ययन इस तरफ इशारा करता है कि फल, सब्जी और दुग्ध उत्पाद, अस्थमा को रोकने में उतने सहायक नहीं होते, जितना ब्राउन राइस और मछली।

हड्डियों के लिए लाभदायक – ब्राउन राइस में हड्डियों के लिए आवश्यक मैग्निशियम तत्व बहुलता में पाया जाता है। शरीर का ज्यादातर मैग्निशियम हड्डियों में संचित होता है। हड्डियों की मजबूती के लिए सप्ताह में कम से कम दो बार ब्राउन राइस का सेवन करनी चाहिए।

 

निभानपुदी सुगना

управление имиджем и репутациейчистка зубов стоматология

Leave a Reply

Your email address will not be published.