ब्रेकिंग न्यूज़ 

अटेंशन

अटेंशन

शाह भाई किरण लाए ताकि दिल्ली में भाजपा जगमगाए। आखिर करते भी क्या। जब पिछली बैठक में पहुंचे तो दिल्ली के भाजपा नेताओं का किया-धरा सामने आने लगा। प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय भी उप अध्याय नजर आने लगे। जितने नेता, उतनी बातें, जितनी बातें, उतने तंबू, उतने दावे और प्रधानमंत्री की रामलीला मैदान की जनसभा में कुर्सी खाली। लिहाजा शाह भाई ने जब जेटली भाई के साथ दावं लगाया और किरण ले आए तो छुटभैय्ये भी बगावती तेवर दिखाने लगे। किरण जब से आई हैं रश्मियां बिखेर रही हैं। जबकि भाजपाई उनके ‘औरा’ से परेशान हैं। बताते हैं कि हालात देखकर कुपित हुए शाह ने निगाह थोड़ी टेढ़ी कर दी। इसे देखकर अब सब समवेत हो गए हैं।

translation services bostonлобановский харьков

Leave a Reply

Your email address will not be published.