ब्रेकिंग न्यूज़ 

कोहली जैसा बनना चाहता हूं –सरफराज खान

कोहली जैसा बनना चाहता हूं –सरफराज खान

क्रिकेट के इतिहास का मुंबई से पुराना नाता रहा है। मुंबई से कई ऐसे अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी निकले, जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपने देश का नाम रौशन किया है। मुंबई के उभरते क्रिकेट खिलाड़ी सरफराज खान भी भारतीय टीम का सदस्य बन कर अपना योगदान देना चाहते हैं। हाल ही में बांग्लादेश में संपन्न अंडर 19 विश्व कप क्रिकेट प्रतियोगिता में सरफराज खान ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए पूरी प्रतियोगिता में 5 अर्धशतक लगाये। इन दिनों सरफराज खान आगामी 9 अप्रैल से शुरू हो रहे आईपीएल टूर्नामेंट की तैयारियों में व्यस्त हैं। आईपीएल में सरफराज खान बेंगलुरु से रॉयल चलेजेर्स टीम के सदस्य हैं। सरफराज खान की तैयारियों को लेकर उदय इंडिया के संवाददाता लतिकेश शर्मा ने उनसे बातचीत की। प्रस्तुत हैं बातचीत के मुख्य अंश :

सरफराज ये बताइये की आप हाल ही में बांग्लादेश संपन्न अंडर 19 विश्व कप प्रतियोगिता से भाग लेकर लौटे हैं। आप ने वहां विश्व के युवा क्रिकेट खिलाडिय़ों के साथ कई मैच खेले। आप का वहां किस तरह का अनुभव रहा?

वहां मुझे काफी कुछ सीखने को मिला। वहां दुनिया के युवा क्रिकेट खिलाडिय़ों के साथ खेलते हुए हमारी पूरी टीम ने काफी कुछ सीखा। राहुल द्रविड़ सर हमारे कोच थे और हम सब ने उनसे भी काफी कुछ सीखा। हम सभी अंडर 19 क्रिकेट खिलाडिय़ों के लिए यह एक बहुत अच्छा अनुभव रहा और इस अनुभव से हम सभी युवा क्रिकेट खिलाडिय़ों को आने वाले दिनों में काफी फायदा होगा।

27-03-2016अंडर 19 विश्व कप के फाइनल में भारत की टीम वेस्ट इंडीज से हार गई, लेकिन इस प्रतियोगिता में आप का व्यक्तिगत प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है। आप अपने योगदान को किस तरह से आंकते हैं?

इस पूरी प्रतियोगिता में पूरी टीम के साथ मेरा प्रदर्शन भी काफी अच्छा रहा। मैंने इस साल 6 हाफ सेंचुरी बनाईं जिसमे तीन बार मैंने 70 से ज्यादा के स्कोर किये। अंडर 19 वल्र्ड कप मे मैंने 5 हाफ सेंचुरी बनाईं। लेकिन, इसके बावजूद हमारी टीम जीत नहीं पाई इसका मुझे मलाल है। आप अच्छा प्रदर्शन करें और टीम भी जीते तो आप की खुशी दुगनी हो जाती है। मैं ऊपरवाले का शुक्रिया अदा करता हूं कि मैं इस प्रतियोगिता में अच्छा प्रदर्शन कर पाया और मेरी कोशिश रहेगी की आगे भी मैं इस तरह का प्रदर्शन करता रहूं।

अंडर 19 विश्व कप के फाइनल में भारतीय टीम वेस्ट इंडीज से पराजित हो गयी। इस हार की क्या वजह रही?

पूरी प्रतियोगिता के दौरान हमारी टीम का प्रदर्शन बहुत शानदार रहा। यही वजह थी कि हम सब फाइनल तक पहुंचे। लेकिन, मुझे लगता है की हमने फाइनल में कम रन बनाये। यदि हमने फाइनल में कुछ और स्कोर किया होता तो ज्यादा अच्छा होता। वहीं हमें यह भी देखना होगा की वेस्टइंडीज टीम की गेंदबाजी काफी अच्छी थी। हमारी टीम ने फाइनल में अपना बेस्ट दिया, लेकिन परिणाम हमारे हाथ में नहीं होता, बल्कि ऊपरवाले के हाथ में होता है।

अंडर 19 टीम से कई खिलाडिय़ों ने भारतीय टीम में अपनी जगह बनाई है। जिसमे युवराज सिंह और विराट कोहली प्रमुख हैं, अंडर 19 वल्र्ड कप में आपने बेहतरीन प्रदर्शन किया है क्या इससे आपको भी भारतीय टीम में जगह मिल सकेगी?

मेरा काम हर मैच में बेहतर प्रदर्शन करना है। टीम में चुनाव करना सिलेक्शन कमेटी का काम होता है। मेरी कोशिश यही रहती है कि मैं हर मैच में बेहतर प्रदर्शन करूं, ज्यादा-से- ज्यादा रन बनाऊ। बाकी मैं इस दबाव में नहीं खेलता हूं की मेरा चुनाव होगा की नहीं।

अंडर 19 प्रतियोगिता के दौरान भारत के पूर्व टेस्ट कप्तान राहुल द्रविड़ आप के कोच थे। राहुल द्रविड़ से आप को क्या कुछ सीखने का मौका मिला?

राहुल द्रविड़ सर से हम सभी युवा क्रिकेट खिलाडिय़ों को काफी कुछ सीखने को मिला। उन्होंने हम सब खिलाडिय़ों के साथ काफी मेहनत की और हम सब को बहुत कुछ सिखाया। मैं उनका बेहद शुक्रगुजार हूं की उन्होंने प्रतियोगिता के दौरान मुझे बैटिंग से जुड़े कई टिप्स दिए और हमारा मार्गदर्शन किया।

इन दिनों आप आईपीएल की तैयारियों में व्यस्त हैं। इस साल के लिए आपके क्या प्लान हैं?

इस साल भी मैं पिछले साल की तरह बिंदास अंदाज में खेलूंगा। मैं अपने नेचुरल स्ट्रोक खेलने पर ज्यादा जोर दूंगा। आक्रामक बैटिंग करना शुरू से मेरा स्वभाव रहा है और मैं अपने उसी मुड के साथ इस साल भी आईपीएल में खेलूंगा।

हर खिलाड़ी का कोई ना कोई रोल मॉडल होता है। आप का रोल मॉडल कौन है?

मैं विराट कोहली सर को अपना रोल मॉडल मानता हूं और उनके जैसा बनना चाहता हूं। जिस तरह से वो बैटिंग करते हैं उससे काफी कुछ सीखने को मिलता है। हर सिचुएशन के साथ वो अपनी बैटिंग को ढाल लेते हैं यह उनकी सबसे बड़ी खासियत है। क्रिकेट के प्रति उनका डेडिकेशन और उनकी फिटनेस से हम सब युवा खिलाडिय़ों को बहुत कुछ सीखने को मिलता है। हम सब युवा खिलाडिय़ों के लिए वे एक बड़े रोल मॉडल हैं।

आप अपनी सफलता का श्रेय किसे देना चाहते हैं?

मैं अपनी सफलता का श्रेय सबसे पहले अपने अब्बा और अम्मी को देना चाहता हूं। जिन्होंने मुझे क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित किया। मुझे क्रिकेट खेलने के लिए मेरी जरूरत की सारी चीजें उपलब्ध करवाई। हर मुश्किल वक्त में मेरा साथ दिया साथ ही मैं ऊपरवाले का शुक्रिया अदा करता हूं जिन्होंने मुझे यह मौका दिया की मैं भी क्रिकेट के खेल में अपना योगदान दे सकूं।

белое продвижениеless that a container load

Leave a Reply

Your email address will not be published.